BREAKING NEWS

बिहार चुनाव : सोनिया बोलीं- दिल्ली और बिहार में बंदी सरकार, ना कथनी सही-ना करनी◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾पाकिस्तान : पेशावर के मदरसे में ब्लास्ट से 7 की मौत, 70 से अधिक घायल◾विश्व में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी,संक्रमितों की संख्या 4 करोड़ 33 लाख के पार◾TOP 5 NEWS 27 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 80 लाख के करीब, एक्टिव केस सवा 6 लाख◾हाथरस मामला : सुप्रीम कोर्ट आज तय करेगा कि सीबीआई जांच की निगरानी SC करेगा या फिर हाईकोर्ट◾ 2+2 वार्ता : भारत और अमेरिका आज महत्वपूर्ण रक्षा समझौते पर करेंगे हस्ताक्षर◾महबूबा मुफ्ती को हवाई टिकट खरीदने चाहिए और अपने परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए : नितिन पटेल ◾'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

LAC विवाद पर भारत का कड़ा सन्देश - अपनी मनमानी व्याख्या जबरन थोपने की कोशिश न करें चीन

भारत ने आज कहा कि उसने 1959 में चीन द्वारा एकतरफा ढंग से परिभाषित तथाकथित वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को कभी भी स्वीकार नहीं किया है। इसलिए चीन सभी द्विपक्षीय समझौतों एवं सहमतियों का पालन करे तथा एलएसी की अपनी मनमानी व्याख्या भारत पर जबरन थोपने की कोशिश नहीं करे। 

एक अंग्रेजी दैनिक की रिपोर्ट में चीनी विदेश मंत्रालय द्वारा पहली बार वास्तविक नियंत्रण रेखा पर उसका पक्ष साफ किये जाने के बाद भारत ने यह प्रतिक्रिया व्यक्त की है। अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वह सात नवंबर 1959 को चीनी प्रधानमंत्री चाऊ एनलाई द्वारा प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को लिखे पत्र में प्रस्तावित एलएसी का पालन करता है। 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने यहां कहा कि हमने 29 सितंबर के समाचार पत्र में इस बारे में रिपोर्ट को देखा है। भारत ने 1959 में एकतरफा ढंग से परिभाषित तथाकथित एलएसी को कभी स्वीकार नहीं किया और भारत का यह रुख चीन सहित सभी को अच्छी तरह से पता है। 

श्रीवास्तव ने कहा कि चीन के दावे से अलग 1993 के शांति एवं स्थिरता बनाये रखने संबंधी समझौते, 1996 के सैन्य स्तर पर परस्पर विश्वास बहाली उपायों संबंधी करार, 2005 के विश्वास बहाली के उपायों के क्रियान्वयन के प्रोटोकॉल, 2005 के भारत चीन सीमा प्रश्न के समाधान के लिए दिशानिर्देशक सिद्धांतों एवं राजनीतिक मानदंडों पर समझौते में भारत एवं चीन ने एलएसी के स्पष्टीकरण एवं पुष्टि तथा एलएसी के निर्धारण को लेकर एक समान समझ कायम करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की है। 

आतंकियों पर कार्यवाही करने में नाकाम पाकिस्तान को भारत ने फिर किया शर्मसार

प्रवक्ता ने कहा कि वास्तव में दोनों पक्ष वर्ष 2003 तक एलएसी को स्पष्ट करने एवं उसकी पुष्टि करने की प्रक्रिया को क्रियान्वित कर रहे थे लेकिन उसके बाद चीनी पक्ष द्वारा इसके लिए इच्छा नहीं दिखाये जाने के कारण यह प्रक्रिया नहीं बढ़ पायी। उन्होंने कहा कि चीनी पक्ष द्वारा अब यह कहा जाना कि केवल एक ही एलएसी है, पुराने समझौतों में चीन द्वारा व्यक्त प्रतिबद्धताओं के विपरीत है। 

प्रवक्ता ने कहा कि हमने पहले भी स्पष्ट किया है कि भारतीय पक्ष ने एलएसी का हमेशा सम्मान किया और पालन किया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में हाल ही में कहा कि यह चीनी पक्ष है जो पश्चिमी सेक्टर के विभिन्न हिस्सों में एलएसी का अतिक्रमण करने का प्रयास करता है और उसने एकतरफा ढंग से यथास्थिति में बदलाव करने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि बीते कुछ महीनों में चीन ने बार बार कहा है कि सीमा क्षेत्र में वर्तमान स्थिति का समाधान दोनों देशों के बीच हस्ताक्षरित समझौतों के अनुसार होना चाहिए। विगत दस सितंबर को विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच सहमति में चीनी पक्ष ने सभी समझौतों के अनुपालन को लेकर प्रतिबद्धता व्यक्त की थी। 

श्री श्रीवास्तव ने कहा कि इसलिए हम अपेक्षा करते हैं कि चीनी पक्ष सभी समझौतों एवं सहमतियों का गंभीरता से एवं पूर्ण निष्ठा से समग्रता में पालन करे तथा एलएसी की एकतरफा एवं मनमानी व्याख्या को लागू करने से बचे। 

चीन की फैलाई महामारी से दो लाख से अधिक अमेरिकियों की गयी जान, ये बात कभी नहीं भूलूंगा: ट्रम्प