BREAKING NEWS

हाफिज सईद की गिरफ्तारी का डोनाल्ड ट्रंप ने किया स्वागत, ट्वीट कर कही ये बात ◾पीएम मोदी सहित कई दिग्गज नेताओं ने कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले का किया स्वागत◾कुलभूषण जाधव ICJ के फैसले पर सुषमा ने मोदी को कहा शुक्रिया◾ICJ में भारत की बड़ी जीत : 15-1 से कुलभूषण यादव के पक्ष में गया फैसला , फांसी पर रोक ◾ICJ : जाधव मामले में पाकिस्तान ने विएना संधि का उल्लंघन किया, अब लगा तगड़ा झटका◾प्रधानमंत्री मोदी ने 47 से 56 वर्ष आयु वर्ग के भाजपा सांसदों से की मुलाकात ◾उत्तर प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद, प्रशासन सो रहा है : प्रियंका गांधी◾रामनाथ कोविंद ने नौ क्षेत्रीय भाषाओं में फैसले उपलब्ध कराने के प्रयासों की प्रशंसा की ◾बंगाल ने पोषण अभियान अपनाने से इंकार कर दिया : स्मृति ईरानी◾UP : सोनभद्र में जमीनी विवाद को लेकर हुई हिंसक झड़प में 9 की मौत, CM योगी ने जांच के दिए निर्देश ◾उत्तराखंड से बीजेपी विधायक प्रणव सिंह चैम्पियन 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित ◾व्हिप को निष्प्रभावी करने वाले SC के फैसले ने खराब न्यायिक मिसाल पेश की : कांग्रेस◾इंच-इंच जमीन से अवैध प्रवासियों को करेंगे बाहर : अमित शाह◾चीन-भारत सीमा पर दोनों देशों के सुरक्षा बलों द्वारा बरता जा रहा है संयम : राजनाथ◾पीछे हटने का सवाल नहीं, विधानसभा की कार्यवाही में नहीं लेंगे हिस्सा : कर्नाटक के बागी विधायक◾मुंबई आतंकवादी हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद लाहौर से गिरफ्तार◾सुप्रीम कोर्ट का फैसला असंतुष्ट विधायकों के लिए नैतिक जीत : येदियुरप्पा◾कर्नाटक संकट : विधानसभा अध्यक्ष बोले- संवैधानिक सिद्धांतों का करुंगा पालन◾कर्नाटक संकट : SC ने कहा-बागी विधायकों के इस्तीफों पर स्पीकर ही करेंगे फैसला◾जम्मू एवं कश्मीर : सोपोर में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़◾

देश

नफरत फैलाने के लिए अलगाववादी तत्वों की कही बातों पर भारत ध्यान नहीं देगा : विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय ने कहा है कि खालिस्तान समर्थक समूह ‘द सिख फॉर जस्टिस’ (एसएफजे) का सिख समुदाय की मुख्य धारा में कोई पैठ नहीं है और नफरत फैलाने के लिए अलगाववादी तत्वों द्वारा कही जाने वाली बातों पर भारत ध्यान नहीं देगा। 

अलगाववादी एजेंडा के तहत 2020 में सिखों का जनमत संग्रह कराने पर जोर दे रहे अमेरिकी संगठन एसएफजे को उसकी कथित राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को लेकर सरकार ने बुधवार को प्रतिबंधित कर दिया। 

इस प्रतिबंध के बारे में एक सवाल का जवाब देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि यह एसएफजे एक अतिवादी समूह है, जो पंजाब में भारत विरोधी और विध्वंसकारी गतिविधियों में संलिप्त है तथा उसने चरमपंथ के हिंसक रूपों का समर्थन किया है। 

कुमार ने संवाददाताओं से कहा कि यह समझना जरूरी है कि कनाडा और दुनिया के अन्य हिस्से में रहने वाले सिख भारत के साथ मधुर संबंध रखते हैं। वे लोग भारत के साथ और अपने मौजूदा निवास वाले देश के साथ बेहतर संबंध चाहते हैं।

साथ ही, ‍‍विषमताएं पैदा करने और नफरत फैलाने के मकसद से अतिवादी तत्वों को जो कुछ कहना है उस पर हम ध्यान नहीं देंगे। 

उन्होंने कहा कि इस समूह की सिख समुदाय की मुख्यधारा में कोई पैठ नहीं है और भारत कनाडा तथा दुनिया के अन्य हिस्से में रहने वाले सिख समुदाय के लोगों के साथ बातचीत करने की कोशिश जारी रखेगा। 

अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन आदि देशों में विदेशी नागरिकता वाले कुछ कट्टरपंथी सिखों द्वारा संचालित एसएफजे को गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, 1967 की धारा 3 (1) के प्रावधानों के तहत गैरकानूनी घोषित कर दिया गया है। इस समूह का मुख्य उद्देश्य पंजाब को एक स्वतंत्र और सप्रभु देश बनाना है।