BREAKING NEWS

अयोध्या मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड◾उपभोक्ता खर्च के आंकड़े छिपाने के आरोपों में चिदंबरम का केंद्र सरकार पर निशाना◾प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को वास्तविक मुद्दों पर फोकस करने का दिया निर्देश ◾सर्वदलीय बैठक में बोले PM मोदी- सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए हैं तैयार ◾गोताबेया राजपक्षे ने जीता श्रीलंका के राष्ट्रपति का चुनाव, PM मोदी ने दी बधाई◾उन्नाव में किसानों का प्रदर्शन, UPSIDC के अधिकारियों और वाहनों पर किया हमला ◾संसद के शीतकालीन सत्र से पहले प्रहलाद जोशी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, कई नेता हुए शामिल◾राउत और उद्धव ने बाला साहेब को दी श्रद्धांजलि, फडणवीस ने ट्वीट कर लिखा-स्वाभिमान की मिली सीख◾बैंकॉक में अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और राजनाथ सिंह के बीच हुई द्विपक्षीय बैठक◾दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में हुआ सुधार, नोएडा और गुरुग्राम में स्थिति फिलहाल गंभीर◾दिल्ली : ITO में लगे BJP सांसद गौतम गंभीर के लापता होने के पोस्टर◾वसीम रिजवी बोले- बगदादी और ओवैसी में कोई अंतर नहीं◾अयोध्या पर AIMPLB की बैठक आज, इकबाल अंसारी करेंगे बहिष्कार◾झारखंड विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने रांची में भाजपा से मुकाबला करने के लिए झामुमो को किया आगे◾महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिये - मुस्लिम पक्षकार◾GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें ◾भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद ◾

देश

भारत सरकार पहली बार 7 रोहिंग्याओं को भेजेगी म्यांमार

भारत असम में गैरकानूनी तरीके से रह रहे सात रोहिंग्या प्रवासियों को गुरुवार को म्यामां वापस भेजेगा। केन्द्र सरकार पहली बार ऐसा कदम उठा रही है। पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद 2012 से ही ये लोग असम के सिलचर जिले के कचार केन्द्रीय कारागार में बंद हैं।

केन्द्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि गुरुवार को मणिपुर की मोरेह सीमा चौकी पर सात रोहिंग्या प्रवासियों को म्यामां के अधिकारियों को सौंपा जाएगा।

अधिकारी ने बताया कि म्यामां के राजनयिकों को कांसुलर पहुंच प्रदान की गई थी। उन्होंने इन प्रवासियों के पहचान की पुष्टि की। अन्य अधिकारी ने बताया कि पड़ोसी देश की सरकार के गैरकानूनी प्रवासियों के पते की रखाइन राज्य में पुष्टि करने के बाद इनके म्यामां के नागरिक होने की पुष्टि हुई है।

ICJ जाधव मामले में अगले साल 18 से 21 फरवरी को करेगा सार्वजनिक सुनवाई

यह पहली बार है जब रोहिंग्या प्रवासियों को भारत से म्यामां भेजा जाएगा। वहीं गुवाहाटी में असम के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सीमा) भास्करज्योति महंता ने कहा कि विदेशी नागरिकों को वापस भेजने का काम पिछले कुछ समय से चल रहा है। इस साल की शुरूआत में हमने बांग्लादेश, म्यामां और पाकिस्तान के कई नागरिकों को स्वदेश वापस भेजा है।

सात रोहिंग्या लोगों को विदेशी कानून के उल्लंघन के आरोप में 29 जुलाई, 2012 को गिरफ्तार किया गया था। काचार जिले के अधिकारियों ने बताया कि जिन्हें वापस भेजा जाएगा उनमें मोहम्मद जमाल, मोहबुल खान, जमाल हुसैन, मोहम्मद युनूस, सबीर अहमद, रहीम उद्दीन और मोहम्मद सलाम शामिल हैं। इनकी उम्र 26 से 32 वर्ष के बीच है।

भारत सरकार ने पिछले साल संसद को बताया था कि संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी यूएनएचसीआर में पंजीकृत 14,000 से अधिक रोहिंग्या भारत में रहते हैं। हालांकि मदद प्रदान करने वाली एजेंसियों ने देश में रहने वाले रोहिंग्या लोगों की संख्या करीब 40,000 बताई है।

रखाइन राज्य में म्यामां सेना के कथित अभियान के बाद रोहिंग्या लोग अपनी जान बचाने के लिए घर छोड़कर भागे थे। संयुक्त राष्ट्र रोहिंग्या समुदाय को सबसे अधिक दमित अल्पसंख्यक बताता है।

मानवाधिकार समूह ‘एमनेस्टी इंटरनेशनल’ ने रोहिंग्या लोगों की दुर्दशा लिए आंग सान सू ची और उनकी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।