BREAKING NEWS

चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾सुखजिंदर रंधावा हो सकते पंजाब के नए मुख्यमंत्री, अरुणा चौधरी और भारत भूषण बनेंगे डिप्टी सीएम◾इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾अंबिका सोनी ने पंजाब CM की कमान संभालने से किया इनकार, टली कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾अफगानिस्तान में आगे बुनियादी ढांचा निवेश को जारी रखने के बारे में पीएम मोदी करेंगे निर्णय : नितिन गडकरी◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30,773 नए मामलों की पुष्टि, 309 लोगों की हुई मौत◾पंजाब के बाद अब राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर टिकी निगाहें, क्या होगा उलटफेर?◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दुश्मन के हर नापाक हमले को ​मात देने के लिए भारतीय वायुसेना जल्द खरीदेगी 10 एंटी-ड्रोन सिस्टम

जम्मू के बाहरी क्षेत्र में हुए ड्रोन हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने दुश्मन की हर नापाक चाल को अंजाम देने से पहले ही उसे काउंटर करने के लिए एक खास योजना बनाई है। दरअसल, सूत्रों के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय सीमा के निकट भविष्य में ऐसे किसी भी तरह के ड्रोन हमले को नाकाम करने के लिए 10 ड्रोन-विरोधी सिस्टम खरीदने का फैसला किया है। 

वायुसेना ने काउंटर निहत्थे विमान प्रणाली (सीयूएएस) के लिए भारतीय विक्रेताओं के लिए सूचना के लिए एक अनुरोध (आरएफआई) जारी किया है जो ड्रोन को गिराने के लिए लेजर निर्देशित ऊर्जा हथियारों से लैस हो सकता है। 27 जून को, जम्मू वायु सेना स्टेशन पर ड्रोन हमला किया गया था, जहां दो मानव रहित हवाई वाहनों का इस्तेमाल बम गिराने के लिए किया गया था। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मामले की जांच अपने हाथ में ले ली है।

आरएफआई ने कहा: सीयूएएस का उद्देश्य शत्रुतापूर्ण यूएएस का पता लगाना, ट्रैक करना, पहचानना, नामित करना और बेअसर करना है। लेजर निर्देशित ऊर्जा हथियार (लेजर-डीईडब्ल्यू) अनिवार्य रूप से एक मारक विकल्प के रूप में आवश्यक है।

इसमें कहा गया है कि सिस्टम को ग्लोबल नेविगेशन सैटेलाइट जैमर सिस्टम (जीएनएसएस) और रेडियो फ्रीक्वेंसी जैमर को सॉफ्ट किल ऑप्शन के रूप में और लेजर-आधारित डायरेक्टेड एनर्जी वेपन (लेजर-डीईडब्ल्यू) को ड्रोन को नष्ट करने के लिए हार्ड किल विकल्प के रूप में सुसज्जित किया जाना चाहिए।

आरएफआई ने कहा इसे आसपास के पर्यावरण को न्यूनतम संपाश्र्विक क्षति पहुंचाते हुए मानव रहित विमानों के लिए प्रभावी नो फ्लाई जोन लागू करने के लिए एक बहु-सेंसर, बहु-मार समाधान प्रदान करना चाहिए। इसे ऑपरेटर के लिए एक समग्र वायु परिस्थिति चित्र उत्पन्न करना चाहिए और उपयोगकर्ता परिभाषित उपयोगकर्ता के आधार पर अलर्ट उत्पन्न करना चाहिए।

वायु सेना ने कहा कि ये एंटी-ड्रोन सिस्टम क्रॉस कंट्री क्षमता वाले स्वदेशी वाहनों पर लगे मोबाइल कॉन्फिगरेशन में आवश्यक हैं और स्वदेशी विद्युत विद्युत आपूर्ति (ईपीएस) प्रणाली द्वारा संचालित हैं। एंटी-ड्रोन सिस्टम में वाहन से इंटीग्रल पावर सॉल्यूशन और रूफ टॉप/ओपन ग्राउंड पर माउंटिंग सहित सभी सब सिस्टम को डिसमाउंट करने का प्रावधान होना चाहिए।

उन्होंने कहा पूरी प्रणाली सड़क और हवाई परिवहन योग्य होनी चाहिए। डिजाइन में त्वरित तैनाती और निकासी के लिए मॉड्यूलरिटी शामिल होनी चाहिए।आरएफआई निर्दिष्ट करता है कि एक मिनी मानव रहित विमान प्रणाली के लिए रडार में 5 किमी की सीमा के साथ 360 डिग्री कवरेज होना चाहिए।