BREAKING NEWS

राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा- संक्रमण की गंभीर स्थिति में जिनकी जवाबदेही है वो छिपे बैठे हैं◾विपक्षी नेताओं ने PM को लिखा पत्र: सभी स्रोतों से खरीदा जाए टीका, हर नागरिक का मुफ्त हो टीकाकरण ◾ममता का मोदी को पत्र, कहा- सरकार कोविड रोधी टीकों के विनिर्माण के लिए जमीन और मदद उपलब्ध कराने को तैयार◾दिल्ली में कोरोना के 13,287 नए मामले सामने आए, 300 लोगों की मौत, संक्रमण दर में गिरावट जारी◾उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना ने ली 329 लोगों की जान, 18125 नए मरीजों की पुष्टि◾अब भारत में बनेंगी लंबे समय तक चलने वाली बैटरी, 18 हजार करोड़ के PLI इंसेंटिव को मंजूरी◾कांग्रेस ने केंद्र को बताया आपदा में अवसर वाली सरकार, कहा- चिकित्सा उपकरणों से हटाई जाए GST◾BJP का पलटवार- वैक्सीन को लेकर लगातार भ्रम उत्पन्न करने की कोशिश कर रहा है विपक्ष ◾देश में लगातार दूसरे दिन उपचाराधीन मरीजों की संख्या में आई कमी, 71.22 प्रतिशत मामले 10 राज्यों में आए सामने◾44 देशों में मिला कोरोना का इंडियन वैरिएंट, WHO ने कहा- वायरस का यह स्वरूप है खतरनाक ◾कांग्रेस का सरकार पर कटाक्ष, कहा- चुनाव के बाद विकास 100 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल के साथ वापस आ गया◾क्या ऐसे होगी कोरोना पर जीत? PM केअर्स फंड से फरीदकोट भेजे गए वेंटिलेटर्स में से अधिकतर खराब◾भारत बायोटेक ने दिल्ली को कोवैक्सीन देने से किया इनकार, कई केंद्र करने पड़े बंद- सिसोदिया◾राहुल और प्रियंका का केंद्र पर वार- रेत में सिर डालना सकारात्मकता नहीं, देशवासियों के साथ है धोखा◾इमरान खान का कश्मीर राग बरकरार, कहा- जब तक निर्णय वापस नहीं होगा, भारत से वार्ता नहीं करेगा पाकिस्तान◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में साढ़े 3 लाख से कम मामलों की पुष्टि, 4205 लोगों ने गंवाई जान ◾कोरोना वायरस : 2 से 18 साल के बच्चों पर वैक्सीन के ट्रायल की भारत बायोटेक को मिली मंजूरी ◾गुजरात : कोरोना देखभाल केंद्र में लगी आग, 61 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में किया गया शिफ्ट ◾उत्तर प्रदेश : एएमयू में अब तक 26 प्रोफेसरों की कोरोना से मौत, कोविड के वैरिएंट की होगी जांच◾पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश, तूफान से 8 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

गूगल मामले में भारतीय अमेरिकी न्यायाधीश अमित मेहता करेंगे अध्यक्षता

भारतीय मूल के अमेरिकी जिला न्यायाधीश अमित पी. मेहता को गूगल के खिलाफ न्याय विभाग का ऐतिहासिक मुकदमा सौंपा गया है, जो दो दशकों से अधिक समय में तकनीकी क्षेत्र में अमेरिकी सरकार का सबसे आक्रामक विरोधी मामला रहा है। 22 दिसंबर 2014 को मेहता को कोलंबिया जिले के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के जिला न्यायालय में नियुक्त किया गया था। 

हाल ही में, मेहता ने फैसला सुनाया था कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपनी लेखा फर्म से वित्तीय रिकॉर्ड की मांग करने वाली एक सदन समिति से एक उप-व्यक्ति को ब्लॉक नहीं कर सकते थे। सुप्रीम कोर्ट में रेफर किए जाने के बाद भी यह मामला चल रहा है। भारत में जन्मे, मेहता के पास 1993 में जॉर्जटाउन विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री है और बाद में इन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया स्कूल ऑफ लॉ में कानून की पढ़ाई की।

 लॉ स्कूल के बाद मेहता ने नौवें सर्किट कोर्ट में क्लर्क का काम करने से पहले सैन फ्रांसिस्को की एक कानूनी फर्म में अपना करियर शुरू किया। कुल 64-पृष्ठ की शिकायत में अमेरिकी न्याय विभाग और 11 राज्यों ने 20 अक्टूबर को गूगल कंपनी को अविश्वास (एंटीट्रस्ट) उल्लंघन के लिए मुकदमा दायर किया था, जिसमें आरोप लगाया गया कि इसने ऑनलाइन खोज और विज्ञापन में अपना वर्चस्व कायम किया और प्रतिस्पर्धा को खत्म करने और उपभोक्ताओं को नुकसान पहुंचाने के लिए विज्ञापन किया। 

वहीं गूगल ने इस मामले में प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए ट्वीट के माध्यम से कहा है, न्याय विभाग द्वारा आज का मुकदमा गहरा दोषपूर्ण है। लोग गूगल का उपयोग करते हैं क्योंकि वे चुनते हैं, इसलिए नहीं कि वे मजबूर हैं, या उनके पास कोई भी विकल्प नहीं है।