BREAKING NEWS

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आशीष मिश्रा सहित 14 पर आरोप तय, 16 दिसंबर से कोर्ट ट्रायल शुरू ◾Electric Vehicle लेने वालों को जल्द सरकार देगी तोहफा, नितिन गडकरी का ऐलान◾लालू की बेटी रोहिणी को लेकर गिरिराज का ट्वीट, भर-भर कर डाली तारीफ... अगली पीढ़ी के लिए बनोगी उदहारण◾एशिया के सबसे बड़े दानवीरों की लिस्ट में गौतम अडानी समेत तीन भारतीयों के नाम हुए शामिल◾PFI case: इसरार अली और मोहम्मद समून को मिली राहत, अदालत ने दी सशर्त जमानत ◾Babri Masjid Demolition Anniversary : बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾AYODHYA ;बाबरी मस्जिद गिराए जाने के तीन दशक बाद तीर्थनगरी का माहौल कैसा?◾Yamuna Expressway: दुर्घटनाएं रोकने के लिए 15 दिसंबर से गति सीमा में होगा बदलाव, नहीं दौड़ पाएंगे तेज वाहन◾CANADA MURDER : कनाडा में भारतीय महिला के सिर पर गोली मारकर शूटर हुआ फ़रार, पुलिस कर रही तलाश ◾अधीर रंजन चौधरी ने केंद्र की नीतियों को लिया आडे़ हाथों, संसद के शीतकालीन सत्र की तारीख को लेकर कही यह बात◾MCD चुनाव 2022: तारीख, समय और परिणाम◾इंडोनेशिया में नया कानून, प्री-मैरिटल सेक्स बैन, अपराध श्रेणी में Live-in-relationship◾मार्केट में 500 रुपये के नकली नोट होने की खबर, RBI ने दी जानकारी...जानें किसे बताया जा रहा जाली ◾6 दिसंबर का दिन हमारी पीढ़ी कभी नहीं भूलेगी.... लोकतंत्र का काला दिन, बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾बिहार पुलिस में बंपर बहाली, 62 हजार नए पदों पर मिलेगी नौकरी, महिलाओं को भी दिया जाएगा 35% आरक्षण◾भारत के मिसाइल परीक्षण से कांप रहा चीन, डर के कारण ओसियन क्षेत्र में भेजा जासूसी पोत◾नोएडा में तेज रफ़्तार का कहर, जगुआर कार की टक्कर से स्कूटी सवार युवती की मौत◾लालू यादव की किडनी ट्रांसप्लांट सफल, ऑपरेशन के बाद बाप-बेटी दोनों स्वस्थ, मीसा भारती ने शेयर की वीडियो◾Mahakal temple: 20 दिसंबर से मंदिर में मोबाइल ले जाने पर प्रतिबन्ध, प्रसादी भी हुई महंगी◾दिल्ली HC ने दी 8 माह से अधिक के गर्भ को गिराने की अनुमति, कहा- मां का फैसला ही सर्वोपरि◾

भारतीय दंड संहिता, दंड प्रक्रिया संहिता और साक्ष्य कानून में संशोधनों के लिए प्रक्रिया शुरू कर : सरकार

सरकार ने बृहस्पतिवार को बताया कि लोगों को कम खर्च पर और त्वरित न्याय प्रदान करने तथा जनकेन्द्रित विधिक ढांचे का निर्माण करने के उद्देश्य से अपराध संबंधी कानूनों में व्यापक बदलाव लाने के मद्देनजर उसने भारतीय दंड संहिता, दंड प्रक्रिया संहिता और साक्ष्य कानून में संशोधनों के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है।

विधि एवं न्याय मंत्री किरण रिजीजू ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के सदस्य विनय विश्वम के एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय ने अपराध संबंधी कानूनों में व्यापक संशोधनों के संबंध में राज्यों के राज्यपाल, मुख्यमंत्रियों, केंद्र शासित प्रदेशों के उप-राज्यपालों और प्रशासकों, देश के प्रधान न्यायाधीश, विभिन्न उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश, बार काउंसिल व संसद सदस्यों से भी सुझाव मांगे हैं।

यी संसदीय समिति ने अपनी 146वीं रिपोर्ट में सिफारिश 

मंत्री ने कहा कि इसके साथ ही गृह मंत्रालय ने इस संबंध में सुधारों पर सुझाव देने के लिए राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, दिल्ली के कुलपति की अध्यक्षता में दो मार्च 2020 को एक समिति गठित की थी जिसने अनुपूरक अनुसंधान और विशेषज्ञों से प्राप्त जानकारी के आधार पर अपनी वेबसाइट पर अपलोड प्रश्नावली के माध्यम से सुझाव आमंत्रित किए थे।

उन्होंने कहा कि समिति ने विभिन्न पक्षों के के साथ व्यापक परामर्श और विश्लेषण के बाद 27 फरवरी 2022 को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), 1860, दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी), 1973 और भारतीय साक्ष्य अधिनियम (आईईए), 1872 पर अपनी सिफारिश प्रस्तुत की है।

विधेयक लाने की आवश्यकता पर बल दिया था

रिजीजू ने कहा कि गृह मंत्रालय संबंधी स्थायी संसदीय समिति ने अपनी 146वीं रिपोर्ट में सिफारिश की थी कि देश की दंड न्यायिक प्रणाली की व्यापक समीक्षा किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व स्थायी संसदीय समिति ने अपनी 111वी और 128वीं रिपोर्टों में भी संबंधित अधिनियमों में टुकड़ों में संशोधन करने की बजाय संसद में एक व्यापक विधेयक लाने की आवश्यकता पर बल दिया था।