BREAKING NEWS

उप्र : बरेली में लव जिहाद के आरोप में पहली गिरफ्तारी, चार दिन पहले दर्ज हुआ था केस ◾केजरीवाल का खुलासा - स्टेडियमों को जेल बनाने के लिए डाला गया दबाव पर मैंने अपने जमीर की सुनी◾प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से कहा: कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाएं ◾ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिये मस्जिदों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर रोक लगाए केन्द्र : शिवसेना◾किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल का निशाना - क्या ईडी के दबाव में हैं पंजाब के CM 'कैप्टन अमरिंदर' ◾कैनबरा वनडे : आखिरी मैच जीत भारत ने बचाई लाज, आस्ट्रेलिया को 13 रनों से दी शिकस्त◾एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक को मिली जमानत, सुशांत केस में ड्रग्स लेन-देन का आरोप◾फिल्म उद्योग को मुंबई से बाहर ले जाने का कोई इरादा नहीं, ये खुली प्रतिस्पर्धा है : योगी आदित्यनाथ ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार ‘बातचीत का ढकोसला’ बंद करे ◾किसान आंदोलन : राजस्थान में कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की सुदबुदाहट, सीमा पर जुटने लगे किसान◾ सब्जियों के दामों पर दिखा किसान आंदोलन का असर, बाजारों में रेट बढ़ने के आसार ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾योगी के मुंबई दौरे पर घमासान, मोहसिन रजा बोले - अंडरवर्ल्ड के जरिए बॉलीवुड को धमकाया जा रहा है ◾टकराव के बीच भी इंसानियत की मिसाल, प्रदर्शनकारियों के साथ - साथ पुलिसकर्मियों के लिए भी लंगर सेवा ◾ब्रिटेन ने फाइजर-बायोएनटेक की कोविड वैक्सीन को दी मंजूरी, अगले हफ्ते से शुरू होगा टीकाकरण◾किसान आंदोलन : आगे की रणनीति पर चल रही संगठनों की बैठक, गृह मंत्री के घर पर हाई लेवल मीटिंग ◾किसान आंदोलन को लेकर राहुल का केंद्र पर वार- यह ‘झूठ और सूट-बूट की सरकार’ है◾किसान आंदोलन : टिकरी, झारोदा और चिल्ला बॉर्डर बंद, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की रूट एडवाइजरी ◾TOP 5 NEWS 02 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 36 हजार नए केस की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 95 लाख के करीब ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्र सरकार ने दिया दिवाली का बड़ा तोहफा, 2 करोड़ रुपये तक के कर्जों पर मिलेगी ब्याज में राहत

केंद्र सरकार ने कर्जदारों को बड़ी राहत दी है। उन्होंने बैंकों से कर्ज लेने वालों को 1 तरह से दिवाली का तोहफा देते हुए 2 करोड़ रुपये तक के कर्ज पर ब्याज से राहत देने की देर रात घोषणा की। यह राहत सभी कर्जदारों को मिलेगा चाहे उन्होंने किस्त भुगतान से 6 महीने की दी गयी छूट का लाभ उठाया हो या नहीं। वित्तीय सेवा विभाग ने सुप्रीम कोर्ट के द्वारा ब्याज राहत योजना लागू करने का निर्देश दिए जाने के बाद इसके परिचालन के दिशानिर्देश जारी कर दिए। इस योजना के क्रियान्वयन से सरकारी खजाने पर 6,500 करोड़ रुपये का बोझ पड़ने का अनुमान है।

सुप्रीम कोर्ट ने 14 अक्टूबर को केंद्र को निर्देश दिया था कि वह कोविड-19 महामारी के मद्देनजर रिजर्व बैंक की किस्तों के भुगतान से छूट की योजना के तहत 2 करोड़ रुपये तक के कर्ज पर ब्याज माफ करने के बारे में यथाशीघ्र निर्णय ले। सुप्रीम कोर्ट  ने कहा था कि आम लोगों की दिवाली अब सरकार के हाथों में है। वित्त मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार कर्जदार विनिर्दिष्ट ऋण खातों पर 1 मार्च से 31 अगस्त 2020 के लिए इस योजना (ब्याज राहत) का लाभ उठा सकते हैं। इसमें कहा गया है कि जिन कर्जदारों के ऋण खाते की मंजूर सीमा या कुल बकाया राशि 29 फरवरी तक 2 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है, वे इस योजना का लाभ उठाने के पात्र होंगे।

दिशानिर्देशों में बताई गई पात्रता शर्तों के मुताबिक 29 फरवरी तक इन खातों का मानक होना अनिवार्य है। मानक खाता उन खाताओं को कहा जाता है, जिन्हें गैर निष्पादित संपत्ति (एनपीए) नहीं घोषित किया गया हो। इस योजना के तहत आवास ऋण, शिक्षा ऋण, क्रेडिट कार्ड का बकाया, वाहन ऋण, एमएसएमई ऋण, टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद ऋण और उपभोग ऋण के धारकों को लाभ मिलेगा।

योजना के तहत कर्ज देने वाले संस्थानों को योजना की अवधि के लिए पात्र कर्जदारों के संबंधित खातों में संचयी ब्याज व साधारण ब्याज के अंतर की राशि जमा करनी होगी। योजना में कहा गया है कि कर्जधारक ने रिजर्व बैंक के द्वारा 27 मार्च 2020 को घोषित किस्त भुगतान से छूट योजना का पूर्णत: या अंशत: लाभ का विकल्प चुना हो यह नहीं, उसे ब्याज राहत का पात्र माना जाएगा। कर्ज राहत योजना का लाभ उन कर्जधारकों को भी मिलेगा जो नियमित किस्तों का भुगतान करते रहे।

कर्ज देने वाले संस्थान दी गई छूट के तहत संबंधित राशि कर्जधारक के खाते में जमा करने के बाद केंद्र सरकार से उसके बराबर राशि पाने के लिए दावा करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने 14 अक्टूबर को मामले की सुनवाई करते हुए कहा था, वह इस बारे में चिंतित है कि कर्जदारों को ब्याज राहत का लाभ किस तरह से दिया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने तब कहा था कि केंद्र सरकार ने आम लोगों की बदहाल स्थिति का संज्ञान लेते हुए अच्छा निर्णय लिया है। 

हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर चिंता व्यक्त की थी कि अब तक इस संबंध में कोई आदेश नहीं जारी किया गया है।न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अगुवाई वाली पीठ ने कहा था कि कुछ ठोस किए जाने की जरूरत है। जितना जल्दी संभव हो सके, 2 करोड़ रुपये तक के कर्जदारों को ब्याज से राहत देने की योजना का क्रियान्वयन किया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई की अगली तारीख 2 नवंबर तय करते हुए कहा बैंकों तथा केंद्र सरकार का पक्ष रख रहे वकीलों से कहा था कि ‘लोगों की दिवाली अब आपके हाथों में है।