BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾

अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार आरोपों की जांच जारी रहनी चाहिए : CBI

केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बुधवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और डीएसपी देवेंद्र कुमार के खिलाफ रिश्वत के आरोपों की जांच जारी रहनी चाहिए और उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को खारिज करने का उनका अनुरोध ठुकराया जाना चाहिए। न्यायमूर्ति नाजिमी वजीरी के सामने सीबीआई की ओर से दलीलें देते हुए अतिरिक्त सालीसिटर जनरल (एएसजी) विक्रमजीत बनर्जी ने कहा कि दोनों अधिकारियों की याचिकाओं में कोई दम नहीं है और एजेंसी इस मामले में पूरी तरह से जांच करने के लिए बाध्य है। अदालत ने सीबीआई, केन्द्र, अस्थाना, कुमार, सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा और संयुक्त निदेशक ए के शर्मा के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद विभिन्न याचिकाओं पर आदेश सुरक्षित रख दिया।

पश्चिम बंगाल में BJP के ‘रथयात्रा’ कार्यक्रम को कोर्ट की हरी झंडी

एएसजी ने कहा कि कानून के मुताबिक, संज्ञेय अपराधों के मामले में प्राथमिकी दर्ज करनी होती है और जांच अधिकारी जांच के दौरान साक्ष्यों की विश्वसनीयता पर गौर करता है। वर्मा की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अमित सिब्बल ने कहा कि अस्थाना के खिलाफ रिश्वत के आरोपों को लेकर प्राथमिकी दर्ज करने में कानून की सभी अनिवार्य प्रक्रियाओं का पालन किया गया। हैदराबाद के शिकायतकर्ता कारोबारी सतीश बाबू सना ने इस मामले में राहत पाने के लिए रिश्वत देने का आरोप लगाया था। सना ने अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार, वसूली और गंभीर कदाचार जैसे आरोप भी लगाए थे। सना ने हालांकि इस मामले में पक्षकार बनाने के अपने अनुरोध पर जोर नहीं दिया। उन्होंने कहा कि वह जरूरत के हिसाब से एजेंसी के साथ सहयोग करेंगे और पहले भी तीन बार जांच में शामिल हो चुके हैं। अदालत ने अस्थाना के खिलाफ कार्यवाही पर यथास्थिति कायम रखने का सीबीआई को निर्देश का अपना अंतरिम आदेश अगली तारीख तक बढा दिया। कुमार को 31 अक्टूबर को जमानत मिली थी।