BREAKING NEWS

कांग्रेस भाजपा के कारण नहीं बल्कि अपने पापों के कारण मर रही : शिवराज ◾कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले को तत्काल लागू करें : भारत ने Pak से कहा ◾IT ने नोएडा में मायावती के भाई और भाभी का 400 करोड़ का 'बेनामी' भूखंड किया जब्त◾सोनभद्र प्रकरण : मृतकों की संख्या 10 हुई, UP पुलिस ने 25 लोगों को किया गिरफ्तार ◾विधानसभा में ही डटे बीजेपी MLA◾कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत पर चर्चा के दौरान हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित - विस अध्यक्ष◾Top 20 News 18 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ का फैसला भारत के रुख की पुष्टि : विदेश मंत्रालय ◾BJP में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर, जीतू वघानी ने दिलाई सदस्यता◾कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾येद्दियुरप्पा ने किया दावा, बोले- सौ फीसदी भरोसा है कि विश्वास मत प्रस्ताव गिर जाएगा◾22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लॉन्च होगा चंद्रयान-2◾सरकार कुलभूषण जाधव की सुरक्षा और जल्द भारत लाने की कोशिश जारी रखेगी : जयशंकर ◾अयोध्या मामला : SC का आदेश, 2 अगस्त से होगी सुनवाई◾रामनाथ कोविंद ने नौ क्षेत्रीय भाषाओं में फैसले उपलब्ध कराने के प्रयासों की प्रशंसा की ◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ के फैसले की पकिस्तान PM इमरान ने की सराहना◾

देश

अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार आरोपों की जांच जारी रहनी चाहिए : CBI

केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बुधवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और डीएसपी देवेंद्र कुमार के खिलाफ रिश्वत के आरोपों की जांच जारी रहनी चाहिए और उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को खारिज करने का उनका अनुरोध ठुकराया जाना चाहिए। न्यायमूर्ति नाजिमी वजीरी के सामने सीबीआई की ओर से दलीलें देते हुए अतिरिक्त सालीसिटर जनरल (एएसजी) विक्रमजीत बनर्जी ने कहा कि दोनों अधिकारियों की याचिकाओं में कोई दम नहीं है और एजेंसी इस मामले में पूरी तरह से जांच करने के लिए बाध्य है। अदालत ने सीबीआई, केन्द्र, अस्थाना, कुमार, सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा और संयुक्त निदेशक ए के शर्मा के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद विभिन्न याचिकाओं पर आदेश सुरक्षित रख दिया।

पश्चिम बंगाल में BJP के ‘रथयात्रा’ कार्यक्रम को कोर्ट की हरी झंडी

एएसजी ने कहा कि कानून के मुताबिक, संज्ञेय अपराधों के मामले में प्राथमिकी दर्ज करनी होती है और जांच अधिकारी जांच के दौरान साक्ष्यों की विश्वसनीयता पर गौर करता है। वर्मा की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अमित सिब्बल ने कहा कि अस्थाना के खिलाफ रिश्वत के आरोपों को लेकर प्राथमिकी दर्ज करने में कानून की सभी अनिवार्य प्रक्रियाओं का पालन किया गया। हैदराबाद के शिकायतकर्ता कारोबारी सतीश बाबू सना ने इस मामले में राहत पाने के लिए रिश्वत देने का आरोप लगाया था। सना ने अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार, वसूली और गंभीर कदाचार जैसे आरोप भी लगाए थे। सना ने हालांकि इस मामले में पक्षकार बनाने के अपने अनुरोध पर जोर नहीं दिया। उन्होंने कहा कि वह जरूरत के हिसाब से एजेंसी के साथ सहयोग करेंगे और पहले भी तीन बार जांच में शामिल हो चुके हैं। अदालत ने अस्थाना के खिलाफ कार्यवाही पर यथास्थिति कायम रखने का सीबीआई को निर्देश का अपना अंतरिम आदेश अगली तारीख तक बढा दिया। कुमार को 31 अक्टूबर को जमानत मिली थी।