BREAKING NEWS

NCB ने क्रूज मामले की बेहद ढीली जांच की : SIT◾RR vs RCB ( IPL 2022) : बटलर के चौथे शतक से राजस्थान रॉयल्स फाइनल में , 29 मई को गुजरात से होगा मुकाबला ◾राजनाथ ने भारतीय नौसेना के पोत आईएनएस घड़ियाल के चालक दल से बात की◾केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने राहुल गाँधी पर साधा निशाना◾CBI ने ‘वीजा रिश्वत’ मामले में कार्ति चिदंबरम से आठ घंटे पूछताछ की◾मंकीपॉक्स की चपेट में आए 20+ देश! जानें कैसे फैल रही यह बिमारी.. WHO ने दी अहम जानकारियां ◾ Ladakh News: लद्दाख दुर्घटना को लेकर देशवासियों को लगा जोरदार झटका, पीएम मोदी समेत कई बड़े नेताओं ने जताया दुख◾ UCC लागू करने की दिशा में उत्तराखंड सरकार ने बढ़ाया कदम, CM धामी बताया कब से होगा लागू◾UP News: योगी पर प्रहार करते हुए अखिलेश यादव बोले- यूपी को किया तहस नहस! शिक्षा व्यवस्था पर भी कसा तंज◾ Gyanvapi Case: सोमवार को हिंदू और मुस्लिम पक्ष को मिलेंगी सर्वे की वीडियो और फोटो◾ RR vs RCB ipl 2022: राजस्थान ने टॉस जीतकर किया गेंदबाजी का फैसला, यहां देखें दोनों टीमों की प्लेइंग XI◾नेहरू की पुण्यतिथि पर राहुल गांधी का मोदी पर प्रहार, बोले- 8 सालों में भाजपा ने लोकतंत्र को किया कमजोर◾Sri Lanka crisis: आर्थिक संकट के चलते श्रीलंका में निजी कंपनियां भी कर सकेगी तेल आयात◾ नजर नहीं है नजारों की बात करते हैं, जमीं पे चांद सितारों की बात करते...शायराना अंदाज में योगी का विपक्ष पर निशाना ◾Ladakh Accident News: लद्दाख के तुरतुक में हुआ खौफनाक हादसा, सेना की गाड़ी श्योक नदी में गिरी, 7 जवानों की हुई मौत◾ कर्नाटक में हिन्दू लड़के को मुस्लिम लड़की से प्यार करने की मिली सजा, नाराज भाईयों ने चाकू से गोदकर की हत्या◾कांग्रेस को मझदार में छोड़ अब हार्दिक पटेल कर रहे BJP के जहाज में सवारी की तैयारी? दिए यह बड़े संकेत ◾RBI ने कहा- खुदरा महंगाई पर दबाव डाल सकती है थोक मुद्रास्फीति की ऊंची दर◾ SC से सपा नेता आजम खान को राहत, जौहर यूनिवर्सिटी के हिस्सों को गिराने की कार्रवाई पर रोक◾आर्यन खान केस में पूर्व निदेशक की जांच में थी गलतियां.. NCB ने कबूली यह बात, जानें वानखेड़े की प्रतिक्रिया ◾

इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को भारत के रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह रिसैट-2बीआर1 और नौ विदेशी उपग्रहों का प्रक्षेपण किया। यह प्रक्षेपण पीएसएलवी-सी48 रॉकेट के जरिए यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया। 

लॉन्चिंग के बाद अब देश की सीमाओं पर नजर रखना आसान हो जाएगा। ये सैटेलाइट रात के अंधेरे और खराब मौसम में भी काम करेगा। यानी धरती पर कितना भी मौसम खराब हो। कितने भी बादल छाए हों, इसकी निगाहें उन घने बादलों को चीरकर सीमाओं की स्पष्ट तस्वीर ले पाएगी। 

हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव

सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के प्रथम लॉन्चपैड से अपराह्न तीन बजकर 25 मिनट पर 44.4 मीटर लंबे रॉकेट ने उड़ान भरी। यह पीएसएलवी की 50वीं उड़ान है और यह उसका श्रीहरिकोटा से 75 वां मिशन है। कृषि, वन एवं आपदा प्रबंधन में सहायता उपलब्ध कराने के मकसद से तैयार किये गये इस उपग्रह का वजन 628 किलोग्राम है। इसरो सूत्रों ने बताया कि यह सैन्य उद्देश्यों के लिए भी काम करेगा। 

प्रक्षेपित किये गये नौ उपग्रहों में से छह उपग्रह अमेरिका और इटली, जापान और इजराइल का एक-एक उपग्रह शामिल है। अब तक, इसरो ने 310 विदेशी उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किया है और 11 दिसंबर का मिशन सफल होने पर यह संख्या 319 हो जाएगी।