BREAKING NEWS

अमेरिका ने हाफिज सईद की पूर्व में हुई गिरफ्तारियों को बताया 'दिखावा', कहा- गतिविधियों पर कोई फर्क नहीं पड़ा◾योगी सरकार को प्रियंका गांधी से डर क्यों लगता है : सुरजेवाला ◾नवजोत सिंह सिद्धू के पूर्व विभाग से महत्वपूर्ण फाइलें गायब◾प्रियंका गांधी ने गेस्ट हाउस में बिताई रात, प्रशासन से दूसरे दौर की बातचीत भी नाकाम◾चंद्रकांत पाटिल का दावा : चुनाव से पहले विपक्ष के कई नेता BJP होंगे शामिल◾एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग का सफल परीक्षण◾सोनभद्र जाने पर अड़ीं प्रियंका गांधी ,जमानत लेने से किया इनकार, बोलीं- जेल जाने को तैयार हूं◾योगी सरकार ने की प्रियंका की ‘गैरकानूनी गिरफ्तारी’, राज्य सरकार में अपराधियों को संरक्षण : कांग्रेस ◾जारी रहेगी MS Dhoni की धूम, मैनेजर बोले - माही की अभी संन्यास लेने की कोई योजना नहीं◾कर्नाटक : विधानसभा विश्वास प्रस्ताव पर मतदान के बिना सोमवार तक स्थगित ◾रॉबर्ट वाड्रा ने BJP सरकार की आलोचना की ,कहा - लोकतंत्र को तानाशाही में न बदलें◾सोनभद्र गोलीकांड : प्रियंका गांधी हिरासत में, कई जगह कांग्रेस का प्रदर्शन ◾किसी विधायक ने मुझसे सुरक्षा नहीं मांगी है : कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष◾कर्नाटक में जारी सत्ता का संघर्ष एक बार फिर शीर्ष अदालत की चौखट पर◾Sensex में साल की दूसरी बड़ी गिरावट, निवेशकों ने दो दिन में गंवाये 3.79 लाख करोड़ रुपये ◾ कुमारस्वामी ने स्पीकर से फ्लोर टेस्ट की डेट सोमवार तक बढ़ाने की अपील की , भाजपा बोली- हम तैयार नहीं◾Top 20 News 19 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾चुनाव याचिका पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटिस जारी ◾BJP विश्वास प्रस्ताव पर मत-विभाजन के लिए आतुर है, क्योंकि वह विधायकों को खरीद चुकी : सिद्धारमैया ◾सोनभद्र में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही प्रियंका गांधी को रोका, धरने पर बैठीं◾

देश

झारखंड : महागठबंधन के सीट बंटवारे में महत्वाकांक्षा ने फंसाया 'महापेच'

झारखंड में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सत्ता से बेदखल करने के लिए सभी विपक्षी दलों ने तैयारी शुरू कर दी है, सभी दलों की महत्वाकांक्षा ने महागठबंधन में सीटों के पेंच को उलझा दिया है। 

झारखंड में विधानसभा की 81 सीटों में से 41 सीटों पर दावा ठोककर झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने अपने सहयोगी दलों को यह संदेश दे दिया है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में महागठबंधन में वह बड़े भाई की भूमिका में होगा। 

झामुमो के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि दो दिन पूर्व पार्टी के विधायकों की बैठक में विधायकों ने जो भावना स्पष्ट की है, उसके मुताबिक पार्टी को कम से कम इतनी सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए, जिससे वह अकेले राज्य में सरकार बना सके। यही कारण है कि पार्टी ने 41 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा पेश किया है। 

वैसे, झामुमो का यह दावा उनके सहयोगी दलों को पसंद नहीं आया है। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने झामुमो के दावों को नकारते हुए उसे 'परित्याग' करने की नसीहत तक दे दी। 

राजद के प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, 'झामुमो को त्याग करना चाहिए, आखिर चुनाव हेमंत सोरेन जी के ही नेतृत्व में लड़ना है और मुख्यमंत्री भी उन्हीं को बनना है तो 'त्याग' भी उन्हीं को करना होगा।' 

उन्होंने कहा कि राजद झारखंड मं 12 से 15 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। 

उल्लेखनीय है कि इस वर्ष हुए लोकसभा चुनाव के पूर्व ही झारखंड महागठबंधन में विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन के नेतृत्व में लड़ने की सहमति बन गई थी। 

इस बीच, महागठबंधन में प्रमुख घटक दल कांग्रेस ने भी इशारों ही इशारों में सभी 81 सीटों पर चुनाव की तैयारी करने की बात कर झामुमो के दावे को नकार दिया है। 

कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सभी 81 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि कांग्रेस राज्य की 35 से 40 सीटों पर अपने जनाधार की बदौलत अच्छी स्थिति में है। 

ठाकुर ने झामुमो पर कटाक्ष करते हुए यह भी कहा कि कांग्रेस की सीट कोई दूसरे दल के लोग तय नहीं करते, बल्कि पार्टी के अध्यक्ष, प्रभारी या कोई वरिष्ठ नेता ही इसे तय करते हैं। 

विधानसभा चुनाव की घोषणा के पूर्व ही झामुमो द्वारा 41 सीटों की दावेदारी और राजद व कांग्रेस की नसीहत के बाद इतना तय है कि झारखंड विधानसभा चुनाव में महगठबंधन में सीट बंटवारा आसान नहीं होगा। 

इधर, पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) भी महागठबंधन में अब तक खुलकर सीट का दावा भले ही नहीं कर रहा हो, लेकिन सूत्रों का कहना है कि झाविमो भी चार से पांच सीट से कम पर समझौता करने को तैयार नहीं होगा। 

बहरहाल, सीट बंटवारे को लेकर दलों में महत्वकांक्षा के बीच सीटों के बंटवारे का पेच फंस गया है और इस पेच को सुलझाना ही महागठबंधन के वरिष्ठ नेताओं के लिए एक चुनौती होगी।