BREAKING NEWS

डेंगू मरीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर PMCH में फेंकी गई स्याही, देखें VIDEO◾NSG के स्थापना दिवस समारोह में बोले अमित शाह-आतंकवाद के खिलाफ जारी है निर्णायक लड़ाई ◾महाराष्ट्र : BJP ने जारी किया संकल्प पत्र, 1 करोड़ नौकरी और राज्य को सूखा मुक्त बनाने का किया वादा◾PMC बैंक घोटाला : प्रदर्शन के बाद घर लौटे खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत, बैंक में जमा थे 90 लाख◾अभिजीत बनर्जी को लेकर सिब्बल का PM मोदी पर कटाक्ष, कहा- काम पर लग जाइए, तस्वीरें कम खिंचवाइए◾भारत में बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश, बालाकोट में 50 आतंकियों को दी जा रही है ट्रेनिंग◾प्रियंका ने अभिजीत बनर्जी को दी नोबेल की बधाई, बोलीं- आशा है न्याय योजना वास्तविकता बनेगी◾उत्तर प्रदेश में बेरोजगार हुए 25 हजार होमगार्ड, योगी सरकार ने खत्म की ड्यूटी◾FATF में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, ‘डार्क ग्रे’ सूची में डाला जा सकता है नाम◾महाराष्ट्र चुनाव: उद्धव ठाकरे की रैली के लिए तोड़ी गई स्कूल की दीवार◾राफेल पर PM मोदी का राहुल को जवाब, कहा- वे चाहते थे नया विमान न आने पाए◾CM नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की ◾मोबाइल वैन के जरिए प्याज बेचने की दिल्ली सरकार की योजना बेहद सफल रही : केजरीवाल ◾रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच◾भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई◾TOP 20 NEWS 14 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ PM नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के राजा-रानी से वार्ता की ◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : PM मोदी बोले- विपक्ष में दम तो कहे कि 370 वापस लाएंगे◾हरियाणा: राहुल का PM पर वार, बोले- अडानी और अंबानी के लाउडस्पीकर हैं मोदी◾अयोध्या विवाद : मुस्लिम पक्षकारों का आरोप-हिन्दु पक्ष से नहीं सिर्फ हमसे ही किए जा रहे है सवाल◾

देश

कर्नाटक संकट : कांग्रेस ने सोमवार को बुलाई विधानमंडल दल की बैठक

कर्नाटक की मची राजनीति उठापटक को लेकर कांग्रेस ने बेंगलुरु में सोमवार को विधानमंडल दल की बैठक बुलाई है। बीते कई दिनों से कर्नाटक में लगातार बैठकों का दौर जारी है। बागी विधायकों के मनाने के लिए पर्त लगतार जोर लगा रही है।वहीं आज कांग्रेस के नेता डीके शिवकुमार ने आज कहा, मुझे अपने सभी विधायकों पर भरोसा है। वे कांग्रेस पार्टी से चुने गए हैं और वे लंबे समय से वहां हैं। वे बाघों की तरह लड़े हैं। 

उन्होंने कहा, कॉन्फिडेंस मोशन के समय, वे कानून से भी अच्छी तरह से सुसज्जित हैं। कानून बहुत स्पष्ट है। अगर वे कॉन्फिडेंस मोशन के खिलाफ वोट करते हैं, तो वे अपनी सदस्यता खो देंगे। कांग्रेस पार्टी उनकी मांगों को निपटाने के लिए तैयार है। हमें संकेत मिल रहे हैं कि वे हमारे सरकार को बचा लेंगे।

कर्नाटक में बागी विधायकों को मनाने के लिए एक ओर जहां सत्तारूढ कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन के नेता हरसंभव प्रयास कर रहे हैं, वहीं विपक्षी बीजेपी के नेता भी सरकार को गिराने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारामैया, जल संसाधन मंत्री डीके शिवकुमार तथा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव पार्टी के प्रमुख बागी विधायक तथा मंत्री एम. टी. बी. नागराज को मनाने में सफल रहे हैं। 

बताया जाता है कि नागराज ने पार्टी में बने रहने का वादा किया है। कांग्रेस नेताओं की निगाहें अब दो अन्य प्रमुख बागी विधायकों रामलिंगा रेड्डी और के. सुधाकर पर टिकी हुई है। कांर्ग्रेस के प्रबंधक एवं नेता अब इन दोनों विधायकों से संपर्क स्थापित करने के प्रयास में जुटे हुए हैं। गौरतलब है कि नागराज, रेड्डी और सुधाकर विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले 13 विधायकों में शामिल हैं। इनमें कांग्रेस के 10 और जद (एस) के तीन विधायक शामिल हैं। 

कांग्रेस के शीर्ष नेता शनिवार को पूरे दिन गत गुरुवार को विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले नागराज को मनाने में जुटे रहे। अब पार्टी नेता सुधाकर से संपर्क स्थापित करने में जुटे हैं ताकि उनकी सोच को बदलकर गठबंधन सरकार को बचाया जा सके। 

पार्टी सूत्रों के मुताबिक शनिवार की शाम को मुंबई रवाना होने वाले सुधाकर से कथित तौर पर पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने संपर्क किया गया था और उनसे अन्य बागी विधायकों का साथ छोड़ने और चर्चा के लिए बेंगलुरु लौटने का अनुरोध किया है। पिछले गुरुवार को जब सुधाकर ने विधानसभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा सौंपा था उसके तुरंत बाद कांग्रेस नेताओं ने उनसे हाथापाई की थी। 

बताया जाता है कि सुधाकर ने गठबंधन के नेताओं द्वारा भेजे गए संदेश पर सकारात्मक रूप से प्रतिक्रिया व्यक्त की है। इस बीच, विपक्षी बीजेपी के नेता बीएस येद्दियुरप्पा ने एक अन्य कांग्रेस विधायक और जल संसाधन मंत्री डी। के। शिवकुमार की करीबी विधायक लक्ष्मी हेब्बालकर के बीजेपी में शामिल होने के बारे में मीडिया रिपोर्टों से साफ इन्कार किया है। 

मीडिया की खबरों का खंडन करते हुए उन्होंने कहा,‘‘हेब्बालकर को पार्टी में शामिल करने की कोई योजना नहीं है और मीडिया में इस संबंध में दिखाई देने वाली रिपोर्ट सच्चाई से परे है।’’ इस बीच, कर्नाटक में जद (एस) -कांग्रेस गठबंधन सरकार को बचाने के लिए एआईसीसी (कांग्रेस) ने कथित तौर पर वरिष्ठ नेताओं गुलाम नबी आजाद और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से बेंगलुरु जाने है और इस मुद्दे का हल निकालने के लिए कहा है। 

सूत्रों ने कहा कि दोनों नेताओं के आज शाम तक यहां पहुंचने और गठबंधन सरकार को बचाने के लिए राज्य कांग्रेस नेताओं के प्रयासों में शामिल होने की उम्मीद है।