BREAKING NEWS

कमलेश तिवारी हत्याकांड की ATS ने 24 घंटे के भीतर सुलझायी गुत्थी, तीन षडयंत्रकर्ता गिरफ्तार◾FATF के फैसले पर बोले सेना प्रमुख- दबाव में पाकिस्तान, करनी पड़ेगी कार्रवाई◾हरियाणा विधानसभा चुनाव: भाजपा ने जवान, राफेल, अनुच्छेद 370 और वन रैंक पेंशन को क्यों बनाया मुद्दा?◾यूपी उपचुनाव: विपक्ष को कुछ सीटों पर उलटफेर की उम्मीद◾हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए आज थम जाएगा प्रचार, आखिरी दिन पर मोदी-शाह समेत कई दिग्गज मांगेंगे वोट◾INX मीडिया केस: इंद्राणी मुखर्जी का दावा- चिदंबरम और कार्ति को 50 लाख डॉलर दिए◾खट्टर बोले- प्रतिद्वंद्वियों ने पहले मुझे 'अनाड़ी' कहा, फिर 'खिलाड़ी' लेकिन मैं केवल एक सेवक हूं◾SC में बोले चिदंबरम- जेल में 43 दिन में दो बार पड़ा बीमार, पांच किलो वजन हुआ कम◾PM मोदी को श्रीकृष्ण आयोग की रिपोर्ट पर कार्रवाई करनी चाहिए : ओवैसी ◾हिन्दू समाज पार्टी के नेता की दिनदहाड़े हत्या : SIT करेगी जांच◾कमलेश तिवारी हत्याकांड : राजनाथ ने डीजीपी, डीएम से आरोपियों को तत्काल पकड़ने को कहा◾सपा-बसपा ने सत्ता को बनाया अराजकता और भ्रष्टाचार का पर्याय : CM योगी◾FBI के 10 मोस्ट वांटेड की लिस्ट में भारत का भगोड़ा शामिल◾करतारपुर गलियारा : अमरिंदर सिंह ने 20 डॉलर का शुल्क न लेने की अपील की ◾प्रफुल्ल पटेल 12 घंटे तक चली पूछताछ के बाद ईडी कार्यालय से निकले ◾फडनवीस के नेतृत्व में फिर बनेगी गठबंधन सरकार : PM मोदी◾प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी के आसपास कोई भी नेता नहीं : सर्वेक्षण ◾मोदी का विपक्ष पर वार : कांग्रेस के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकारों ने केवल घोटालों की उपज काटी है◾ISIS के निशाने पर थे कमलेश तिवारी, सूरत से निकला ये कनेक्शन◾अमित शाह ने राहुल गांधी से पूछा, आदिवासियों के लिए आपके परिवार ने क्या किया ◾

देश

कर्नाटक संकट: बागी कांग्रेस विधायक नागराज पहुंचे मुंबई, सुधाकर को मनाने की करेंगे कोशिश

बागी कांग्रेस विधायक एम.टी.बी नागराज रविवार सुबह अपने साथी बागी विधायक सुधाकर को मनाने के लिए मुंबई पहुंच गए है। कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन ने शनिवार को नागराज से बातचीत की थी ताकि कर्नाटक की एच.डी. कुमारस्वामी नेतृत्व वाली सरकार को बचाने के लिए उन्हें मनाया जा सके। 

होस्कोटे से विधायक नागराज, चिकबल्लापुर के विधायक के. सुधाकर से मिलने मुंबई गए हैं, जिसके बाद उनके इस्तीफा वापस लेने पर अंतिम फैसला लेने की उम्मीद है। दोनों ने 10 जुलाई को एक साथ विधानसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंपा था। नागराज के एक चार्टर्ड उड़ान में सवार होने की तस्वीरें कई स्थानीय समाचार चैनलों पर दिखाई गईं। इस्तीफा देने से पहले नागराज कुमारस्वामी सरकार में आवास मंत्री थे। हालांकि वह अब भी कांग्रेस पार्टी के सदस्य हैं। 

नागराज ने अपने आवास से निकलने से पहले पत्रकारों से कहा, "सुधाकर ने अपना फोन बंद कर लिया है और पिछले दो दिन से उनसे कोई सम्पर्क नहीं हो पाया है। सुधाकर को समझा-बुझाकर, मैं उन्हें वापस लाने की कोशिश करूंगा। क्योंकि हम दोनों ने इस्तीफा दिया था इसलिए हम एक साथ रहना चाहते हैं। मैंने कांग्रेस नेताओं को इसकी जानकारी दे दी है।"

अब भी कांग्रेस में होने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी और विधायक दल के नेता सिद्धरमैया ने उनसे इस्तीफा वापस लेने को कहा है। उन्होंने कहा, "मैं भी इसकी कोशिश कर रहा हूं (इस्तीफा वापस लेने की) । बात बस इतनी है कि मुझे सुधाकर से मिलना है, मैंने उनसे मुलाकात नहीं की है। मैं उनसे मिलूंगा, उन्हें कहीं तो होना चाहिए।" 

शनिवार को दिन भर चली बातचीत के बाद ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस ने आखिरकार नागराज को मनाने का कोई तरीका ढूंढ लिया है, जिन्होंने अपना इस्तीफा वापस लेने का संकेत भी दिया है। हालांकि इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। सुधाकर से ना मिल पाने के सवाल पर नागराज ने कहा, "तब, मेरा निर्णय क्या होगा, मैं इस पर कल सुबह फैसला करूंगा ।"

सुधाकर के इस्तीफा वापस लेने पर राजी ना होने के सवाल पर नागराज ने कहा, "मैं इस पर विचार करूंगा और फिर फैसला लूंगा।" कुमारस्वामी के विधानसभा में विश्वास मत हासिल करने की अचानक की गई घोषणा के एक दिन बाद गठबंधन के नेता एक के बाद एक बैठक कर रहे हैं। नागराज से बैठक भी इन्हीं बैठकों का हिस्सा है। नागराज उन पांच बागी कांग्रेस विधायकों में शामिल हैं, जिन्होंने विधानसभा अध्यक्ष के. आर. रमेश कुमार पर उनका इस्तीफा स्वीकार ना करने का आरोप लगाते हुए उच्चतम न्यायालय का रुख किया है। 

सत्तारूढ़ गठबंधन में अध्यक्ष को छोड़कर कुल 116 विधायक (कांग्रेस के 78, जद(एस) के 37 और बसपा के 1) हैं। दो निर्दलीय विधायकों के समर्थन के साथ 224 सदस्यीय सदन में भाजपा के विधायकों की संख्या 107 है। बागी विधायकों का इस्तीफा मंजूर करने के भय के चलते कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। 16 विधायकों के इस्तीफे मंजूर किए जाते हैं तो गठबंधन की संख्या घटकर 100 रह जाएगी।