BREAKING NEWS

पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾कांग्रेस पटोले को निगरानी में रखे और PM के खिलाफ टिप्पणी के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं : भाजपा ◾दिल्ली कोर्ट ने शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का आरोप तय करने का दिया आदेश ◾छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री बघेल ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- सत्ता में आने के लिए लोगों को बांटने का काम करती है ◾दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾

जानिये कैसे 70 साल पहले जेआरडी टाटा से सरकार ने ली थी AIR INDIA, अब फिर हुई एयरलाइन की घर वापसी

एयर इंडिया का 70 सालों के बाद आख़िरकार इंतजार खत्म हुआ। टाटा संस ने सबसे ऊंची बोली लगाकर राष्ट्रीय वाहक एयर इंडिया को अपने अधिकार में ले लिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मंत्रियों के एक पैनल ने एयरलाइन के अधिग्रहण के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। आने वाले दिनों में एक आधिकारिक घोषणा की उम्मीद है। बता दें, एयर इंडिया टाटा की ही देन थी जिसे राष्ट्रीयकरण की नीति के तहत नेहरू सरकार ने अधिग्रहित कर लिया था। आइये जानते है क्या है पूरा मामला। 

सरकार की राष्ट्रीयकरण की नीति से मायूस थे जीआरडी

भारत के स्वतंत्र होने ने बाद देश में तेजी से राष्ट्रीयकरण की नीति पर जोर दिया गया। इस मुद्दे पर काफी गर्मागर्म बहस भी हुई, जेआरडी [टाटा] ने कई मंचों पर इसका विरोध किया, लेकिन सरकार ने उन्हें अपने विचार रखने के लिए आमंत्रित नहीं किया। नेहरू सरकार के संचार मंत्री जगजीवन राम राष्ट्रीयकरण की नीति संभालते थे। सरकार के निर्णय पर विश्वास जताते हुए उन्होंने जेआरडी टाटा से सलाह ली पर ये सलाह महज राष्ट्रीयकरण करने वाली कंपनियों को दिए जाने वाले मुआवजे के बारे में थी। रतन जी टाटा सरकार के इस फैसले से बेहद मायूस थे। 

सरकार ने जानबूझ कर घटिया व्यवहार किया - जीआरडी

 जानकारी के मुताबिक, नवंबर 1952 में प्रधानमंत्री नेहरू के साथ एक लंच बैठक में, जेआरडी टाटा ने अपनी पीड़ा व्यक्त की और कहा कि सरकार ने जानबूझकर टाटा के साथ घटिया व्यवहार किया था और निजी नागरिक उड्डयन, विशेष रूप से टाटा की हवाई सेवाओं को दबाने की एक सुनियोजित साजिश थी। नेहरू जी ने टाटा को आश्वासन दिया कि सरकार का ऐसा कोई इरादा नहीं है और उन्होंने  भारतीय नागरिक उड्डयन क्षेत्र में टाटा की खूब प्रशंसा भी की। 

जीआरडी ने कहा था, सरकार नहीं जानती एयरलाइन चलाना

जेआरडी टाटा उस वक्त भारतीय नागरिक उड्डयन में अग्रणी थे और उन्होंने सरकार ने फैसले पर अंत तक निराशा भी जाहिर की। टाटा का मानना था कि राष्ट्रीयकरण के परिणामस्वरूप एक कुशल और स्वावलंबी हवाई परिवहन प्रणाली नहीं होगी। साथ ही, जेआरडी का तर्क था कि भारत की नई सरकार को एयरलाइन कंपनी चलाने का कोई अनुभव नहीं था, और राष्ट्रीयकरण का मतलब नौकरशाही और सुस्ती, कर्मचारी मनोबल में गिरावट और यात्री सेवाओं में गिरावट होगा। 

सरकार ने की थी टाटा को मनाने की कोशिश   

जेआरडी टाटा को जवाब देते हुए सरकार ने कहा कि राष्ट्रीयकरण उद्योग के लिए व्यवस्था लाएगा, और कांग्रेस पार्टी की दो दशकों से परिवहन के सभी साधनों का राष्ट्रीयकरण करने की नीति थी। बता दें, सरकार और टाटा की तनातनी ने कुछ समय के लिए भारत के पहले प्रधानमंत्री और भारत के सबसे बड़े व्यापारिक घराने के मुखिया के बीच मधुर संबंधों को गंभीर रूप से प्रभावित किया।

जेआरडी बने एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस के अध्यक्ष 

तत्कालीन सरकार ने जेआरडी की विशेषज्ञता का लाभ लेने के लिए उन्हें एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस के अध्यक्ष के रूप में नेतृत्व करने के लिए आमंत्रित किया। टाटा संस में लंबी बातचीत के बाद, जेआरडी ने एयर इंडिया की अध्यक्षता और इंडियन एयरलाइंस के बोर्ड में एक निदेशक का पद स्वीकार कर लिया। इसके बाद भी उनकी चिंता बकरार ही रही। जेआरडी टाटा ने एयर इंडिया के लिए जो भविष्यवाणियां की वो एक - एक करके सही साबित होती गयी, हालांकि ये उनकी व्यक्तिगत प्रतिबद्धता ही थी कि 25 सालों तक उन्होंने एयर इंडिया में सेवा के उच्च मानकों को बनाए रखा, जिसकी यात्रियों के बीच उत्कृष्ट प्रतिष्ठा थी।

जब जेआरडी ने खुद कर्मचारियों के साथ मिलकर किया था विमान का टॉयलेट साफ

अपनी माइक्रो मैनेजमेंट की प्रतिभा से जेआरडी ने हवाई यात्रा के दौरान उच्च मानकों को ध्यान में रखा। जेआरडी व्यक्तिगत रूप से भी यात्रा के दौरान हर छोटी बड़ी चीज का ख़याल रखते थे। वो उड़ानों के दौरान फ्लाइट का निरिक्षण करते थे और हर कमियों को नोट करके उसे ठीक करने का प्रयास करते थे। आपको बता दें,  वाइन ग्लास से लेकर एयर होस्टेस के हेयर स्टाइल तक सब जेआरडी की ही देन है। अगर कभी वो एयरलाइन काउंटर पर गन्दगी देखते, तो डस्टर मांगकर और उसे खुद पोंछकर सबके लिए मिसाल कायम करते थे।  ऐसे ही एक मौके पर, उन्होंने अपनी आस्तीनें ऊपर उठाई और चालक दल को एक गंदे विमान के शौचालय को साफ करने में मदद की।

दुनिया ने माना था जेआरडी के मैनेजमेंट का लोहा 

विमान के अंदर की सजावट से लेकर एयर होस्टेस की साड़ियों के रंग तक,  एयर इंडिया के होर्डिंग्स पर शब्दों से लेकर शौचालयों में टॉयलेट पेपर की उपलब्धता तक, जेआरडी ने अपने व्यावहारिक नेतृत्व में उच्च मानक स्थापित किए। उन्होंने एक बार टिप्पणी की थी कि एयर होस्टेस में उनकी रुचि के लिए एयरलाइंस में उनकी रुचि का श्रेय देना केवल एक मामूली अतिशयोक्ति थी ! ये जेआरडी का ही कमाल था कि जब 1970 के दशक में, जब सिंगापुर सरकार ने छोटे द्वीपीय राष्ट्र में वैश्विक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए सिंगापुर एयरलाइंस की शुरुआत की, तो उसने विश्व स्तरीय सेवा मानकों को सीखने के लिए एयर इंडिया के साथ सहयोग करना चुना। एयर इंडिया कैथे पैसिफिक और थाई एयरवेज जैसे पूर्वी एशियाई वाहकों के लिए प्रेरणा रही थी, जो 1970 के दशक में आसमान पर हावी होने लगे थे। 

ग्राहकों को सुरक्षा और सहूलियत थी सबसे जरूरी 

साथ ही बता दें, 1955 में, जब चीनी प्रधान मंत्री झोउ एनलाई गुटनिरपेक्ष आंदोलन के पहले सम्मेलन के लिए इंडोनेशिया की यात्रा करने वाले थे, चीन के पास आवश्यक लंबी दूरी के विमान नहीं थे। इसलिए, चीनी प्रधान मंत्री और उनकी टीम को हांगकांग से बांडुंग के लिए उड़ान भरने के लिए एक इंडियन एयरलाइंस की उड़ान को चार्टर्ड किया गया था। जेआरडी ने हमेशा कर्मचारियों को सुरक्षा और सेवा उत्कृष्टता के माध्यम से ग्राहकों को लगातार खुश करने के लिए प्रेरित किया।

वो दुर्घटना जिसने जेआरडी टाटा की छीनी गद्दी

1 जनवरी, 1978 को, एयर इंडिया का पहला बोइंग 747 मुंबई के तट पर समुद्र में गिर गया, जिसमें सभी 213 यात्री और चालक दल के सदस्य मारे गए। अपने समय की सबसे बड़ी हवाई त्रासदियों में से एक इस घटना  के लिए पायलट की गलती को जिम्मेदार ठहराया गया था। एक महीने बाद, प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के नेतृत्व वाली सरकार ने जेआरडी को एयर इंडिया की अध्यक्षता और इंडियन एयरलाइंस के निदेशक पद से हटा दिया। एक साल पहले, उन्हें परमाणु ऊर्जा आयोग के बोर्ड से पहले ही हटा दिया गया था, जिस पर उन्होंने 1948 में अपनी स्थापना के बाद से कार्य किया था।

बिना जानकारी दिए जेआरडी टाटा को पद से हटाया गया 

जेआरडी, जो उस समय जमशेदपुर में थे, को इस घटनाक्रम के बारे में 3 फरवरी, 1978 को एयर चीफ मार्शल प्रताप चंद्र लाल (सेवानिवृत्त) से पता चला, जिन्हें दोनों वाहकों का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। दिलचस्प बात यह है कि लाल जमशेदपुर में एक मध्यम आकार की टाटा कंपनी के एमडी के रूप में कार्यरत थे। 3 फरवरी की शाम को रेडियो समाचार ने जनता को विकास से अवगत कराया, और अधिकांश दैनिक समाचार पत्रों ने इसे अगले दिन प्रसारित किया। 9 फरवरी को बॉम्बे हाउस लौटने पर, जेआरडी को 4 फरवरी को प्रधानमंत्री का एक पत्र मिला और 6 फरवरी को दिल्ली से भेजा गया। 11 फरवरी को प्रेस रिपोर्टों ने अंततः स्पष्ट किया कि उन्हें 1 फरवरी से पूर्वव्यापी प्रभाव से पद से हटा दिया गया था।

25 सालों तक बिना किसी सैलरी पर जेआरडी ने संभाली एयरलाइन्स की कमान  

जेआरडी को लिखे अपने पत्र में, प्रधानमंत्री देसाई ने एयर इंडिया के लिए अपनी विशिष्ट सेवाओं को रिकॉर्ड में रखा और स्पष्ट किया कि परिवर्तन उनके विशिष्ट कार्य की सराहना की कमी के कारण नहीं था। बिना एक रुपये के पारिश्रमिक के  25 सालों सदी तक एयर इंडिया की सेवा करने वाले जेआरडी ने जवाब में लिखा , "मुझे आशा है कि आप मेरे लिए यह अपेक्षा करना मूर्खता नहीं समझेंगे कि जब सरकार ने मेरी सेवाओं और भारतीय नागरिक उड्डयन के साथ मेरे पैंतालीस साल के जुड़ाव को समाप्त करने का निर्णय लिया, तो मुझे उनके निर्णय के बारे में सीधे सूचित किया जाएगा, और यदि संभव हो तो, जनता के जानने से पहले ..."

जेआरडी को हटाना PM मोरारजी पर भी पड़ा भारी

इस फैसले का एयर इंडिया के कर्मचारियों के मनोबल पर गहरा असर पड़ा है। एमडी ने इस्तीफा दे दिया, और केबिन क्रू और अधिकारियों के संघों ने विरोध किया। इस अचानक हुए फैसले से देश आक्रोशित था क्योंकि उस समय एयर इंडिया गहरे राष्ट्रीय गौरव का विषय था और जेआरडी एयर इंडिया की सफलता और सेवा का पर्याय था। 27 फरवरी, 1978 के लंदन के डेली टेलीग्राफ ने शीर्षक "बिना तनख्वाह के एयर इंडिया प्रमुख को देसाई द्वारा बर्खास्त किया गया" प्रकाशित किया। देसाई के फैसले ने उन्हें प्रधान मंत्री के रूप में पदभार ग्रहण करने के बाद से सबसे खराब प्रचार में लाया था।

सबके सामने छलका जेआरडी का दर्द 

एयर इंडिया से निकाले जाने पर जब जेआरडी से सवाल किया गया तो उनके शब्द थे, "मुझे बिलकुल ऐसा लग रहा जैसा की जैसे आपको आपसे आपका पसंदीदा बच्चा छीने जाने पर लगता। "1980 में, जब इंदिरा गांधी सत्ता में वापस आईं, तो उन्होंने जेआरडी को दोनों एयरलाइनों के बोर्ड में फिर से नियुक्त किया, हालांकि अध्यक्ष के रूप में नहीं।उन्होंने 1986 तक बोर्ड में काम करना जारी रखा, जिस वर्ष रतन टाटा को प्रधान मंत्री राजीव गांधी द्वारा एयर इंडिया के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। 

पाकिस्तान और भारत के बीच सद्भावना का दिया था संदेश

जेआरडी के अपनी पसंदीदा कंपनी - एयर इंडिया के साथ जुड़ाव के अंतिम दशक में - उन्होंने पहली उड़ान की स्वर्ण जयंती मनाने के लिए कराची से बॉम्बे के लिए एक पुस मोथ पर एकल उड़ान को फिर से लागू किया। जब वह बंबई में जुहू हवाई पट्टी पर उतरे, तो राज्यपाल, मुख्यमंत्री और कई गणमान्य व्यक्ति उनका अभिवादन करने के लिए मौजूद थे। जेआरडी ने दोनों देशों के बीच एक सद्भावना संदेशवाहक के रूप में काम किया था और पाकिस्तान के राष्ट्रपति से भारत के राष्ट्रपति और कराची के मेयर से लेकर बॉम्बे के मेयर तक के संदेशों के साथ एक मेलबैग ले गया था। ऐतिहासिक घटना की रिपोर्ट करने के लिए एकत्रित पत्रकारों में से एक , बीबीसी संवाददाता मार्क टुली ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें उम्मीद है भारतीय नागरिक उड्डयन के 100 साल पूरे होंगे? तब जेआरडी का मजाकिया लहजे में जवाब था "बेशक। मैं वहां रहूंगा, ”आप देखिए, मैं पुनर्जन्म में विश्वास करता हूं। "