BREAKING NEWS

गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾

लल्लू को मिली UP ग्रेस की कमान, आराधना मिश्रा बनीं विधायक दल की नेता

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की अपनी इकाई में बड़ा फेरबदल करते हुए सोमवार को अजय कुमार लल्लू को अध्यक्ष नियुक्त किया। वह राज बब्बर की जगह लेंगे। इसके साथ ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी की पुत्री एवं पार्टी की विधायक आराधना ''मोना'' मिश्रा को विधायक दल का नेता नियुक्त किया गया है। 

दूसरी तरफ, 18 वरिष्ठ नेताओं की सलाहकार समिति भी गठित की गई है। इसके अतिरिक्त 8 सदस्यीय एक रणनीति समूह भी बनाया गया है जिसमें जितिन प्रसाद सहित कई वरिष्ठ नेताओं को रखा गया है। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इन नियुक्तियों को स्वीकृति प्रदान की।

लल्लू को प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाने के साथ ही चार उपाध्यक्ष, 12 महासचिव और 24 सचिव बनाए गए हैं। 

वीरेंद्र चौधरी को उपाध्यक्ष (संगठन-पूर्वी उप्र) और पंकज मलिक को उपाध्यक्ष (संगठन-पश्चिमी उप्र) बनाया गया है। इसके साथ ही ललितेश पति त्रिपाठी और दीपक कुमार को भी उपाध्यक्ष बनाया है। 

त्रिपाठी उपाध्यक्ष के तौर पर प्रदेश युवा कांग्रेस एनएसयूआई, ओबीसी, किसान एवं महिला इकाइयों का प्रभार देखेंगे। इसी तरह दीपक कुमार सेवा दल, एससी-एसटी और अल्पसंख्यक विभागों की जिम्मेदारी संभालेंगे। सूत्रों का कहना है कि सामाजिक और क्षेत्रीय समीकरणों को ध्यान में रखकर नयी प्रदेश कांग्रेस कमेटी बनाई गई है। 

अध्यक्ष बनाए गए लल्लू का वैश्य समुदाय (ओबीसी) से संबन्ध है। आराधना मिश्रा को विधायक दल का नेता बनाकर ब्राह्मण समाज को प्रतिनिधित्व देने का प्रयास हुआ है। उपाध्यक्षों, महासचिवों और सचिवों की नियुक्ति में भी सामाजिक एवं जातीय समीकरणों का पूरा ध्यान रखा गया है। 

नयी उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के गठन की कवायद से अवगत कांग्रेस एक वरिष्ठ नेता कहा, ''हर पदाधिकारी की जिम्मेदारी और जबाबदेही तय की गई है। नयी कमेटी पिछली कमेटी की अपेक्षा दस गुना छोटी है। पिछली कांग्रेस कमेटी लगभग 500 लोगों की थी, लेकिन नई कमेटी लगभग 40-45 लोगों की है।'' 

उन्होंने कहा, ''उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी में युवाओं को मौका और वरिष्ठ नेताओं की सलाहकार समिति को मार्गदर्शन की जिम्मेदारी दी गयी है। कांग्रेस नेता ने कहा, ''कमेटी की औसत आयु लगभग 40 साल है। यानि कि कांग्रेस हाई कमान ने उत्तर प्रदेश में भरोसा नौजवानों पर जताया है। साथ ही साथ वरिष्ठ नेताओं को भी स्थान दिया है।'' 

सूत्रों का कहना है कि लगभग चार माह से कांग्रेस की कई टीमें उत्तर प्रदेश पर व्यापक विचार विमर्श कर रहीं थीं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी खुद उत्तर प्रदेश के कार्यकर्ताओं, नेताओं और बुद्धिजीवियों के साथ बैठक करके सलाह मशविरा ले रहीं थीं। पार्टी के छह राष्ट्रीय सचिव लगातार पूरे प्रदेश का भ्रमण कर रहे थे।