BREAKING NEWS

पीड़ित बुजुर्ग का बड़ा बयान, कहा- ताबीज की बात झूठी है ,मुझसे जय श्रीराम' के नारे लगवाए गए◾ LJP में फूट पर चिराग पासवान के तर्क को पशुपति कुमार पारस ने दी चुनौती◾अयोध्या में कथित भूमि घोटाले को लेकर AAP नेता संजय सिंह करेंगे कोर्ट का रुख◾बाइडन और पुतिन अपने राजदूतों को वापस उनके पदों पर भेजने के लिए सहमत ◾सोनिया गांधी ने ली कोविड-19 टीके की दोनों खुराकें, संक्रमित होने के चलते राहुल को टीकाकरण में देरी हुई◾मौर्य ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा - रामभक्तों के खून से होली खेलने वाले मंदिर पर जनता को कर रहे गुमराह◾आगामी विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा, यह भाजपा नेतृत्व करेगा तय : केशव प्रसाद मौर्य ◾उत्तर प्रदेश : बीते 24 घंटे में सिर्फ 310 कोरोना केस मिले, संक्रमण से 50 और लोगों की मौत◾PNB घोटाला : CBI ने मेहुल चोकसी के खिलाफ दायर की नई चार्जशीट, सबूतों से हेराफेरी के लगे आरोप◾राहुल के आरोपों पर हर्षवर्धन का पलटवार, कहा- उनके ज्ञान के सामने तो आर्यभट्ट व अरस्तु जैसे विद्वान भी नतमस्तक◾धनकड़ के दिल्ली दौरे पर TMC का तंज - 'अंकल जी, हम पर एक एहसान करें ,बंगाल वापस न आएं' ◾जेनेवा समिट में बाइडन और पुतिन ने की मुलाकात, हाथ मिलाकर रिश्ते बेहतर करने के दिए संकेत◾कोविड-19 : फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए PM मोदी की सौगात, 18 जून को लॉन्च करेंगे कस्टमाइज्ड क्रैश कोर्स◾VivaTech सम्मेलन में बोले PM-महामारी से प्रभावित स्वास्थ्य सुविधाओं और अर्थव्यवस्था को दुरूस्त करने की जरूरत◾ब्लू इकोनॉमी को मजबूत करने के लिए मोदी कैबिनेट ने 'डीप सी मिशन' को दी मंजूरी ◾6 साल के बच्चे को कोविड से बचाने के लिए मां-बाप ने लिया ऐसा फैसला कि पीएम मोदी भी हो गए भावुक ◾पंजाब कांग्रेस में घमासान जारी, अमरिंदर सिंह के साथ काम करने को तैयार नहीं सिद्धू, ठुकराया डिप्टी सीएम का पद◾चिराग पासवान बोले- शेर का बेटा हूं, लंबी लड़ाई के लिए तैयार, लंबे वक्त से पार्टी तोड़ने की कोशिश में JDU ◾दिल्ली में कोरोना वायरस के 212 नए मामले, 25 लोगों की मौत, संक्रमण दर 0.27 फीसदी◾गांधी परिवार और कांग्रेस कर रहे हैं महापाप, खुद टीका लगवाया नहीं और फैला रहे हैं भ्रम : संबित पात्रा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लल्लू ने भाजपा पर कसा तंज़, कहा - कोरोना महामारी में सरकार रोजगार देने में विफल

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि भाजपा सरकार के गठन के बाद महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के बजट और रोजगार देने में निरन्तर गिरावट दर्ज हो रही है।

श्री लल्लू ने गुरूवार को कहा कि चालू वित्तीय वर्ष में मनरेगा में 48 फीसदी रोजगार घटा है, वही इसमें भ्रटाचार भी बढ़ है। मनरेगा श्रमिको के भुगतान में भी संकट आ रहा है, उन्होंने अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि ग्रामीण परिवारों के समक्ष रोजी रोटी का संकट विकरालता की तरफ जा रहा है, उनकी क्रय शक्ति कम होने के कारण खर्च कम करने की वजह से आर्थिक मंदी बढ़ रही है, दूसरी तरफ ग्रामीणों को अनेक दुश्वारियो का सामना करना पड़ रहा है, जबकि सरकार रोजगार व मनरेगा के मुद्दे पर लगातार झूठ के सहारे गुमराह कर सवालों के जवाब देने से बच रही है।

उन्होने कहा कि भाजपा कुछ भी देने का वादा करती हैं, वही जनता से छीन लेते है। कोरोना संकटकाल में जिस तरह कुशल व अकुशल कामगारों की अपने गृह प्रदेश में वापसी पर मनरेगा में काम देने की घोषणाएं पूरी तरह झूठी साबित हुई हैं। स्थित यह रही कि आवंटित बजट में पिछले वर्ष की तुलना में 35 प्रतिशत की कटौती करके ग्रामीण रोजगार को संकट ग्रस्त बनाने में कोई कसर नही छोड़, आज यही कारण है कि मनरेगा बेहाल होकर लोगो को काम देने में असमर्थ हुई है, वही जिनको काम मिल भी रहा है उनके भुगतान समय से नही हो रहे है।

केंद, सरकार ने कोरोना संकट काल मे ग्रामीण विकास मंत्रालय के माध्यम से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को कमजोर कर दिया जिससे ग्रामीणों की आमदनी का एक बड़ माध्यम खत्म करने का षडयंत्र करने में उसके द्वारा हिचक नही दिखायी, जिससे बेरोजगारी का दर्द बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसान, मजदूर, बेरोजगार विरोधी भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था की स्थिति और उसके हिसाब से ग्रामीण क्षेत्रों में आमदनी और मांग बढ़ए जाने की जरूरत पर गम्भीरता दिखाने के स्थान पर सब कुछ उलट कर दिया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के धन में हुई कटौती से ग्रामीण रोजगार में भारी गिरावट से एक बड़ आबादी के समक्ष बर्बादी का दरवाजा खोलकर चंद औद्योगिक घरानो के हवाले धन के केन्द्रीयकरण का मार्ग खोल दिया है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में पिछले वर्ष के 19 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान के मुकाबले 14070 करोड़ करना यह साबित करता है कि ग्रामीणों की भलाई के लिए वह कुछ नही करना चाहती।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में सरकार रोजगार देने में पूरी तरह विफल साबित हो चुकी है, वह ग्रामीणों को को रोजगार नही देना चाहती उन्होंने सरकार की ग्रामीण विरोधी नीतियो पर हमला करते हुए कहा कि वह जनविरोधी नीतियों से बाज आकर रोजगार देने की दिशा में काम करे।