BREAKING NEWS

आज का राशिफल (30 मार्च 2023)◾पाकिस्तान में भुखमरी जैसे हालात: मुफ्त आटा लेना के प्रयास में 11 लोगों की मौत, 60 घायल◾AAP को तत्काल राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा दें, संजय सिंह की EC से मांग◾अखिलेश यादव बोले- किसानों को अपमानित और प्रताड़ित कर रही है भाजपा सरकार◾National Anthem Disrespect Case: ममता बनर्जी की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने पुलिस को दिए जांच के निर्देश◾हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, फसल बीमा न कराने वाले किसानों को भी मिलेगा हर्जाना ◾30 मार्च को उत्तराखंड का दौरा करेंगे गृहमंत्री अमित शाह, इन कार्यक्रमों में होंगे शामिल ◾CM केजरावाल ने कहा- PM मोदी जब प्रधानमंत्री नहीं रहेंगे तब पूरा देश होगा भष्ट्राचार मुक्त◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा- स्वस्थ लोकतंत्र के लिए सही जानकारी आक्सीजन के समान◾कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. शमा मोहम्मद ने केंद्र पर बोला हमला, कहा- मोदी ने 'परम मित्र' अडानी को बचाने के लिए लोकतंत्र को पहुंचाया नुकसान ◾कुरान जलाने पर हुआ हंगामा, इस्लामिक देशों में दिखा गुस्सा, जानिए पूरा मामला ◾‘जिस क्षण राजनीति और धर्म...’ , हेट स्पीच पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कही ये बड़ी बात ◾सावरकर विवाद पर मतभेदों को खत्म के लिए राहुल और संजय राउत बीच हुई बैठक◾नीतीश कुमार ने किया PM मोदी पर कटाक्ष, कहा- कोई काम नहीं हो रहा, केवल प्रचार हो रहा◾ओडिशा के झारसुगुडा विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव के लिए 10 मई को डाले जाएंगे वोट◾आदिपुरुष फिल्म पर सैफ अली खान और कृति सेनन सहित 10 के खिलाफ कोर्ट का नोटिस◾प्रह्लाद जोशी ने किया दावा, कर्नाटक विधानसभा चुनाव में BJP की दूसरी बार बहुमत के साथ बनेगी सरकार◾Google vs CCI: गूगल को बड़ा झटका, NCLAT ने 1337.76 करोड़ रुपये के जुर्माने को बरकरार रखा◾CM योगी ने कहा- गरीबी और कमजोरों को उजाड़ने वाले नहीं जाए बख्शे◾जब अतीक कोर्ट में बोला- जेल में बंद आदमी से पिस्टल क्यों मंगवाऊंगा, मेरे पास उससे अच्छी पिस्टल थी◾

आजादी के बाद भूमि मार्गों पर यथोचित ध्यान नहीं दिया गया, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरूवार को यहां भारतीय भूमि पत्तन प्राधिकरण के दसवें स्थापना दिवस पर अपने संबोधन में कहा कि आजादी के बाद भूमि मार्गों पर यथोचित ध्यान नहीं दिया गया लेकिन अब सरकार इनके जरिये सांस्कृतिक आदान-प्रदान, लोगों के बीच संपर्क और व्यापार बढाने तथा पडोसी देशों के साथ संबंधों को अच्छा बनाने तथा सुरक्षा को पुख्ता करने का काम पूरी प्रतिबद्धता के साथ कर रही है।
 दस वर्ष के छोटे से समय में 75 वर्षों की कमी को पूरा करते हुए
शाह ने अपने संबोधन में  कहा कि आजादी के बाद भूमि मार्गों पर सरकारों ने यथोचित ध्यान नहीं दिया लेकिन प्राधिकरण ने अपने गठन के बाद दस वर्ष के छोटे से समय में 75 वर्षों की कमी को पूरा करते हुए अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए बड़ यात्रा तय की है जो सराहनीय है। यह सुरक्षा पहलुओं के साथ किसी तरह का समझौता किये बिना देश के अर्थतंत्र को गति देने और पड़स के देशों के साथ व्यापार बढाने का महत्वपूर्ण कार्य करता है। साथ ही यह पड़स के देश के परस्पर समान पृष्ठभूमि के लोगों के बीच संवाद, सांस्कृतिक आदान प्रदान तथा संपर्क के माध्यम से राजनीति और कूटनीति से परे संबंधों को मजबूत बनाने का भी काम करता है। प्राधिकरण के अध्यक्ष को यहां काम करने वाले अंतिम व्यक्ति तक इस जिम्मेदारी की प्रेरणा को पहुंचाना चाहिए।
 75 वर्ष पूरे होने के मौके पर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा
 शाह ने कहा कि देश आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के मौके पर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और इस अवसर पर प्राधिकरण को अगले 25 वर्षों यानी अमृत काल के दौरान भविष्य की योजनाओं का खाका तैयार करना चाहिए जिसमें यह निर्धारित किया जाये कि आजादी के 100 वर्ष पूरे होने के बाद प्राधिकरण कहां खड़ होगा। यह तय करना होगा कि 25 वर्ष बाद जमीनी मार्गों से हमारे व्यापार का लक्ष्य क्या होगा। इस रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करना होगा। इस पर भी विचार करना होगा कि लोगों के बीच संवाद में कितनी सुविधा बढायी जा सकती है। साथ ही सुरक्षा एजेन्सियों के साथ मिलकर अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी की मदद से सुरक्षा का एक अभेद्य चक्र बनाने पर भी काम करना होगा। उन्होंने कहा कि इन लक्ष्यों की सिद्धि के लिए पांच -पांच वर्ष का समय तय कर इनकी वार्षिक समीक्षा की जानी चाहिए।
दस वर्षों में भारत प्रमुख वस्तुओं के उत्पादन के अग्रणी केन्द्रों में शामिल हो जायेगा
उन्होंने कहा कि सात देशों के साथ 15 हजार किलोमीटर की भूमि सीमा हर 50 किलोमीटर पर एक नयी चुनौती लेकर खड़ है। लेकिन यह भी सही है कि इन चुनौतियों के साथ उतने ही अवसर भी हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि दस वर्षों में भारत प्रमुख वस्तुओं के उत्पादन के अग्रणी केन्द्रों में शामिल हो जायेगा। इन देशों के साथ इन उत्पादों के व्यापार की उसी अनुपात में सुविधा भी खड़ करनी होगी। उन्होंने कहा कि कुछ वर्षों पहले सीमाओं पर ढांचागत सुविधाएं नहीं थी, कनेक्टिवीटी, व्यापार नहीं था और सभी चीजें रूकी हुई थी लेकिन आज सभी चीजों में गति है।
करतारपुर गलियारे को एक बड़ उपलब्धि बताते हुए
गतिशक्ति के माध्यम से सरकार देश की प्रगति की रफ्तार बढाना चाहती है और ऐसे में प्राधिकरण की जिम्मेदारी और अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है। सीमा चौकियों पर ढांचागत सुविधाओं को तेजी से बढाया जा रहा है। सरकार सीमावर्ती क्षेत्रों में सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है जिससे लोगों का पलायन रोका जा सके। इन सबसे सीमा प्रबंधन को भी पुख्ता किया जा सकता है। करतारपुर गलियारे को एक बड़ उपलब्धि बताते हुए उन्होंने कहा कि यह आजादी के बाद ही होना चाहिए था क्योंकि केवल 6 किलोमीटर का ही फासला था। यह सबके मन में एक कसक थी जिसे अब पूरा किया जा सका है। इस मौके पर अटारी गार्ड फोर्स के लिए आवासीय सुविधा का उद्घाटन भी किया गया। इस मौके पर गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, केन्द्रीय गृह सचिव अजय भल्ला और सचिव सीमा प्रबंधन धर्मेन्द, गंगवार, भारतीय भूमि पत्तन प्राधिकरण के अध्यक्ष भी मौजूद थे।