BREAKING NEWS

सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हैं इंटरनेशनल शूटर वर्तिका, अमित शाह को खून से लिखा खत ◾पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन, कई स्थानों पर सड़कें अवरुद्ध◾नागरिकता संशोधन बिल में बदलाव को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने दिए संकेत◾अनशन पर बैठीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल हुईं बेहोश, LNJP अस्पताल में भर्ती◾CAB के खिलाफ प्रदर्शनों के बाद आज गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू में ढील◾झारखंड विधानसभा चुनाव: देवघर में प्रत्याशियों की आस्था दांव पर◾ममता ने नागरिकता कानून को लेकर बंगाल में तोड़फोड़ करने वालों को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी ◾भाजपा ने आज तक जो भी वादे किए है वह पूरे भी किए गए हैं - राजनाथ◾असम में हालात काबू में, 85 लोगों को गिरफ्तार किया गया : असम DGP◾पीएम मोदी के सामने मंत्री देंगे प्रजेंटेशन, हो सकता है कैबिनेट विस्तार◾मध्यम आय वर्ग वाला देश बनना चाहते हैं हम : राष्ट्रपति ◾कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रैली में पकौड़े बेच सत्ताधारियों का मजाक उड़ाया ◾भाजपा ने किया कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन : किसानों के प्रति असंवेदनशील होने का लगाया आरोप ◾कांग्रेस जवाब दे कि न्यायालय में उसने भगवान राम के अस्तित्व पर क्यों सवाल उठाए : ईरानी◾दिल्ली के रामलीला मैदान में 22 दिसंबर को रैली कर दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरू करेंगे PM मोदी ◾जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया◾सीएए के खिलाफ जनहित याचिका दायर की, एआईएमआईएम हरसंभव तरीके से कानून के खिलाफ लडे़गी : औवेसी◾

देश

कश्मीर पर फैसले के लिए जमीनी कार्य पिछली मोदी सरकार में शुरू किए गए : राजनाथ

 rajnath singh

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज कहा कि अनुच्छेद 370 को समाप्त करने और जम्मू-कश्मीर को विभाजित करने के निर्णयों से लोगों के साथ 70 वर्षों से हो रहा भेदभाव खत्म हो गया है और इसकी जमीन सरकार के पहले कार्यकाल में तैयार कर ली गयी थी। 

श्री सिंह ने आज यहां रक्षा अध्ययन और विश्लेषण संस्थान (आईडीएसए) की वार्षिक आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में इस मुद्दे के स्थायी समाधान के लिए जमीन तैयार की गयी थी और दूसरी बार सत्ता में आने के बाद उस दिशा में कदम उठाया गया है। 

बाद में अपने भाषण के सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए उन्होंने कहा,‘‘ हमारी सरकार ने इस देश के सुरक्षा तंत्र को न केवल बहुआयामी बनाया है बल्कि किसी भी सुरक्षा चुनौती से निपटने का हमारा तरीका भी बेहद डायनामिक है। हमारी सरकार ने संकल्प लिया था कि दशकों से चली आ रही इस कश्मीर समस्या का कोई ’स्थायी समाधान’ करने की जरूरत है।’’ 

उन्होंने कहा कि सरकार ने न केवल अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया बल्कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख को दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाकर सत्तर सालों से वहां की अवाम के साथ हो रही भेदभाव की राजनीति को खत्म कर दिया है। 

उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक निर्णय के दूरगामी परिणाम होने वाले हैं। यह हमारे कुछ पड़सियों को रास नहीं आया है। उनके द्वारा इस बात की कोशिश की जा रही है कि कैसे भारत में और खासतौर पर जम्मू कश्मीर में माहौल को बिगाड़ जाये। उन्होंने कहा कि इस तरह की स्थिति में पहली परीक्षा सुरक्षा तंत्र की होती है और सेना तथा अन्य सुरक्षाबलों ने इस परीक्षा को बड़ी और कड़ी चुनौती के रूप में स्वीकार किया है और तमाम आशंकाओं के बावजूद उन्होंने माहौल को बिगड़ने नहीं दिया है। 

रक्षा मंत्री ने कहा कि संवाद और सहयोग देश की रक्षा और सुरक्षा से जुड़ एक बड़ पक्ष है इसे देखते हुए सरकार ने पड़सी पहले की नीति शुरू की। उन्होंने कहा कि दोबारा सत्ता संभालने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द, मोदी सबसे पहले जल सीमा से जुड़ पडोसी देश मालदीव गये। रक्षा मंत्री के तौर पर वह भी मोजाम्बिक गये। 

हिंद महासागर का पूरा इलाका देश के सामरिक हितों के मद्देनजर बेहद महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र के सभी पड़सी भारत के साथ बेहतर और गहरे संबंध बनाने को उत्सुक है। जल सीमा से लगे पड़ोसियों के साथ सहयोग बढ़ने पर हमारा पूरा जोर रहेगा। पाकिस्तान का नाम लिये बिना उन्होंने कहा, ‘‘ आप दोस्त बदल सकते है मगर पड़सी का चुनाव आप के हाथ नहीं होता और जैसा पड़सी हमारे बगल बैठा है वैसा पड़सी तो उपर वाला किसी को न दे’’