BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 29 मई 2022)◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल पानी के मुद्दों पर वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत आएगा◾वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु में करुणानिधि की 16 फुट ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण ◾ योगी सरकार का कामकाजी महिलाओं के लिए बड़ा फैसला, जानें ऑफिस टाइमिंग को लेकर क्या दिया आदेश ◾ J&K : अनंतनाग इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्द हुए ढेर ◾ Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾

वामपंथी पार्टियों ने महंगाई के खिलाफ दिया संयुक्त बयान, केंद्र से की मांग- आवश्यक वस्तुओं की कीमतें करें नियंत्रित

वामपंथी दलों ने रविवार को संयुक्त बयान जारी कर पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में वृद्धि को वापस लेने की मांग की है और सरकार से आवश्यक वस्तुओं एवं दवाओं की कीमतों को नियंत्रित करने का अनुरोध किया है। संयुक्त बयान पर माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी, भाकपा महासचिव डी राजा, ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक के महासचिव देबब्रत बिस्वास, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के महासचिव मनोज भट्टाचार्य, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) लिबरेशन के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य के हस्ताक्षर हैं। 

बयान में आरोप लगाया गया है कि सरकार कोविड-19 से उपजे स्वास्थ्य संकट से निपटने में लोगों की मदद करने के बजाय दो मई को विधानसभा चुनावों के नतीजे आने के बाद से कम से कम 21 बार पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत बढ़ा चुकी है। पार्टियों ने कहा कि इसकी वजह से थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) 11 साल के उच्च स्तर पर पहुंचने के साथ मुद्रास्फीति बहुत अधिक बढ़ने की संभावना है। 

बयान में कहा गया है, ‘‘खाद्य पदार्थों की कीमतें अप्रैल में करीब पांच प्रतिशत बढ़ी हैं। आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में 10.16 प्रतिशत का इजाफा हुआ है और विनिर्मित उत्पादों में 9.01 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है और जब ये वस्तुएं खुदरा बाजार में पहुंचती हैं तो उपभोक्ताओं को इसके लिए अधिक कीमत चुकानी पड़ती है।’’

बयान के मुताबिक, ‘‘यह ऐसे वक्त हो रहा है जब अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजर रही है, बेरोजगारी बढ़ रही है और लोगों की क्रय क्षमता घट रही है। स्पष्ट है कि राज्यों के संरक्षण में बेतहाशा कालाबाजारी और जमाखोरी हो रही है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को निश्चित रूप से इस तरह की कालाबाजारी विशेषकर आवश्यक दवाओं की कालाबाजारी पर सख्ती से लगाम लगाना चाहिए।’’

पार्टियों ने मांग की कि सरकार को आयकर भुगतान के दायरे से बाहर के परिवारों को छह महीने के लिए साढ़े सात हजार रुपये मासिक नकदी का अंतरण करना चाहिए। बयान में आगे कहा गया है कि पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के विस्तार के संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा ‘‘पर्याप्त नहीं है और अत्यंत जरूरतमंद इसके दायरे से बाहर हैं।’’ योजना के तहत गरीबों को दिवाली तक हर महीने पांच किलोग्राम अनाज दिया जायेगा। पार्टियों ने इसके तहत हर व्यक्ति को दाल, खाद्य तेल, चीनी, मसाले, चाय और अन्य जरूरी सामग्री के पैकेट के साथ 10 किलोग्राम खाद्य सामग्री मुफ्त में देने की मांग की।