BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा : SIT करेगी हिंसा की जांच, मामला अपराध शाखा को भेजा गया ◾TOP 20 NEWS 27 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने लगाई जीत की हैट्रिक, शान से पहुंची सेमीफाइनल में ◾पार्षद ताहिर हुसैन पर लगे आरोपों पर बोले केजरीवाल : आप का कोई कार्यकर्ता दोषी है तो दुगनी सजा दो ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार को 10-10 लाख का मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार◾दिल्ली में हुई हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस और आम आदमी पार्टी : प्रकाश जावड़ेकर ◾दिल्ली हिंसा : केंद्र ने कोर्ट से कहा-सामान्य स्थिति होने तक न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं ◾ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान : गौतम गंभीर ◾सीएए हिंसा : चांदबाग इलाके में नाले से मिले दो और शव, मरने वालो की संख्या बढ़कर 34 हुई◾दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन, गृह मंत्री को हटाने की हुई मांग◾न्यायधीश के तबादले पर बोले रणदीप सुरजेवाला : भाजपा की दबाव और बदले की राजनीति का हुआ पर्दाफाश ◾दिल्ली हिंसा : दंगाग्रस्त इलाकों में दुकानें बंद, शांति लेकिन दहशत का माहौल ◾जज मुरलीधर के ट्रांसफर पर बोले रविशंकर- कोलेजियम की सिफारिश पर हुआ तबादला ◾उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों का आकंड़ा 32 पहुंचा◾दिल्ली हिंसा : जज मुरलीधर के ट्रांसफर को कांग्रेस ने बताया दुखद और शर्मनाक◾दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾

वामदलों ने देश में आर्थिक संकट पर किया विरोध प्रदर्शन

वाम दलों ने देश में गहराते आर्थिक संकट और आम जनजीवन में बढ़ती बदहाली के खिलाफ बुधवार को विरोध प्रदर्शन किया। इस मुद्दे पर वामदलों की ओर से दस अक्टूबर को शुरु हुये देशव्यापी विरोध प्रदर्शन के अंतिम चरण में बुधवार को दिल्ली स्थित जंतर मंतर पर हुये विरोध प्रदर्शन की अगुवाई माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी और भाकपा के महासचिव डी राजा ने की। 

वामदलों ने देश में बढ़ते आर्थिक संकट और बदहाली के लिये मोदी सरकार की गलत नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुये कहा कि इन नीतियों के कारण अडानी और अंबानी जैसे कॉरपोरेट घरानों का ही हित साधा जा रहा है। येचुरी ने कहा कि देश में आर्थिक मंदी और बढ़ती महंगाई मोदी सरकार की गलत नीतियों का ही दुष्परिणाम हैं जिसमें नोटबंदी तथा बिना किसी तैयारी के जी॰एस॰टी॰ को लागू करने से अर्थव्यवस्था को अपूर्णीय क्षति का सामना करना पड़ा। 

भारत की अर्थव्यवस्था पहले से ही बढ़ती बेरोज़गारी, महंगाई, छंटनी और जीवनयापन के मुद्दों से बेहाल थी। मोदी सरकार बढ़ती बेरोजगारी, ठेकेदारी, कम आय और बढ़ती कृषि संकट की समस्याओं से बेखबर बनी हुई है। प्रदर्शन में आरएसपी से आर एस डागर, सीपीआई(एम-एल) की कविता कृष्णन और सीजीपीआई से संतोष ने भी हिस्सा लिया। 

राजा ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुये कहा कि आर्थिक मंदी के नाम पर उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आर्थिक संकट की मार झेल रही जनता के वास्तविक मुद्दों से ध्यान हटाने के लिये मोदी सरकार छद्म राष्ट्रवाद का इस्तेमाल कर रही है। 

इस दौरान वाम नेताओं ने देश भर में वामपंथी संगठनों के कार्यकर्ताओं और जनता से सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ अभियान को अंजाम तक पहुँचाने में अपनी सक्रिय भूमिका निभाने का आह्वान किया।