BREAKING NEWS

ईरान में कोरोना संकट के बीच फंसे 275 भारतीयो को दिल्ली लाया गया ◾कोरोना वायरस से अमेरिका में संक्रमितों की संख्या 121,000 के पार हुई, अबतक 2000 अधिक से लोगों की मौत ◾कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾

लॉकडाउन : प्रकाश जावड़ेकर बोले- दवाएं, आवश्यक वस्तुओं की बिक्री करने वाली दुकाने खुलेंगी

नयी दिल्ली : केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को कहा कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने को लेकर जारी 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन (बंद) के दौरान हर रोज दवाओं और आवश्यक वस्तुओं की बिक्री करने वाली दुकानें खुलेंगी, ऐसे में लोगों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है । जावड़ेकर ने कहा कि जमाखोरी एवं कालाबाजारी करने वालों से निपटने के लिये पर्याप्त कानूनी उपाए हैं ।

केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने संवाददाताओं को बताया, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में कोरोना वायरस से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई।’’ उन्होंने कहा कि सभी आवश्यक वस्तुएं एवं सेवाएं बंद के दौरान उपलब्ध रहेंगी। उन्होंने कहा कि इस दौरान दूध, सब्जी, दवा एवं रोजमर्रा की जरूरतों के सामान की दुकानें खुली रहेंगी लेकिन लोग दुकानों पर भी सामाजिक मेलजोल से दूरी बनाये रखें और एक दूसरे के बीच 5-6 फुट का अंतराल रखें ।

मंत्री ने लोगों से कोरोना वायरस के खिलाफ युद्ध में जीत के लिये घर में रहने, सामाजिक मेलजोल से दूरी बनाने, लगातार साबुन व सैनेटाइजर से हाथ साफ करते रहने तथा संक्रमण का कोई भी लक्षण दिखने पर डाक्टर से सम्पर्क करने के मंत्र पर कड़ाई से अमल करने की अपील की । उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के सभी कर्मियों के अलावा अनुबंध पर काम कर रहे कर्मियों को भी वेतन मिलेगा । निजी क्षेत्र में काम करने वालों को न्यूनतम वेतन देने का अनुरोध किया गया था और इस पर अच्छी प्रतिक्रिया मिली है ।

असंगठित क्षेत्र के लोगों एवं दिहाड़ी मजदूरों को जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने को लेकर पूछे गए एक सवाल के उत्तर में जावड़ेकर ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर देश के 80 करोड़ लोगों को प्रतिव्यक्ति सात किलो गेहूं दो रूपये मूल्य पर और चावल तीन रूपये मूल्य पर उपलब्ध कराया जाता है। इस योजना के तहत अब केंद्र राज्यों को तीन महीने का अग्रिम अनाज देने जा रहा है। इसके अलावा राज्य सरकारें अपनी- अपनी तरह से लोगों को राहत देने की काम कर रही हैं । उन्होंने कहा कि 21 दिनों का बंद हमारे लिये, हमारे परिवार की सुरक्षा के लिये है, ऐसे में लोग घरों में ही रहें ।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा, ‘‘लोग अफवाहों पर विश्वास नहीं करें और सरकार की ओर से पुष्ट खबरों पर ही भरोसा करें।’’जावडेकर ने कहा कि सभी राज्य सरकारें इस प्रयास में केंद्र के साथ मिलकर काम कर रही हैं क्योंकि बंद का अनुपालन मूल रूप से राज्यों को ही कराना है । उन्होंने कहा कि हर राज्य को कहा गया है कि हर जिले में हेल्पलाइन शुरू करे । यह पूछे जाने पर कि क्या कोविड-19 के आर्थिक प्रभावों पर विचार हो रहा है, मंत्री ने कहा कि वित्त मंत्रालय ऐसी हर स्थिति पर नजर रखता है, सरकार संज्ञान लेती है और इसपर भी अध्ययन होगा।

कोरोना वायरस के प्रसार की पृष्ठभूमि में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई बैठक में बड़ी अंडाकार मेज नहीं थी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी एक निश्चित दूरी बनाकर कुर्सियों पर बैठे और सामाजिक मेलजोल से दूरी के संकल्प का अनुपालन किया । केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक की तस्वीर में मंत्री एक दूसरे से दूरी बनाकर और प्रधानमंत्री की ओर मुखातिब होकर कुर्सियों पर बैठे थे और उनकी कुर्सी के बगल में छोटी मेज थी जिस पर उनके दस्तावेज रखे थे ।

आमतौर पर केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में मंत्रिगण अंडाकर मेज के इर्द-गिर्द कुर्सियों पर बैठे होते हैं । केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक 7 लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री के सरकारी आवास पर हुई । जावडेकर ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिये प्रधानमंत्री के बंद के ऐलान को पूरे देश ने स्वीकार किया है और दुनिया इस प्रयोग को देख रही है कि 130 करोड़ की आबादी वाला देश लॉकडाउन (बंद) पर अमल कर सकता है ।