BREAKING NEWS

पुतिन का दावा-रूस ने बना ली कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन, बेटी को लगाया गया टीका◾ब्रेन सर्जरी के बाद वेंटिलेटर सपोर्ट पर प्रणब मुखर्जी, हालत नाजुक◾मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में PM मोदी में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने पर दिया जोर, कहा-महामारी बदल रही अपना रूप◾राजनीति में व्यक्तिगत शत्रुता का कोई स्थान नहीं, बस पार्टी के सामने जरूरी मुद्दों को रखा : सचिन पायलट◾जम्मू-कश्मीर के दो जिलों में ट्रायल के तौर पर 15 अगस्त के बाद शुरू होगी 4G इंटरनेट सेवा ◾CM गहलोत बोले- BJP की सरकार गिराने की साजिश रही नाकाम, हमारे सभी विधायक है हमारे साथ ◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में 53 हजार 601 नए मरीजों की पुष्टि, 871 लोगों ने गंवाई जान ◾मनरेगा पर राहुल ने शेयर किया ग्राफ, क्या सूट-बूट-लूट की सरकार समझ पाएगी गरीबों का दर्द◾बुलंदशहर : US में पढ़ने वाली छात्रा की छेड़खानी के दौरान सड़क हादसे में मौत◾UP : बागपत में BJP नेता एवं पूर्व जिलाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या, CM योगी ने जताया शोक ◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का प्रकोप बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 2 करोड़ के पार◾BSP विधायकों के कांग्रेस में विलय के खिलाफ याचिका पर SC में आज होगी सुनवाई◾पायलट की वापसी के बाद कांग्रेस नेताओं ने जताई खुशी, कहा- 'स्वागत है सचिन'◾अमेरिका : व्हाइट हाउस के पास हुई गोलीबारी के बाद ट्रंप ने अचानक छोड़ी कोरोना ब्रीफिंग◾हाई कमान से मुलाकात के बाद बोले पायलट: पद की कोई लालसा नहीं, समस्या का जल्द समाधान जल्द हो◾वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सफलतापूर्वक हुई मस्तिष्क की सर्जरी हुई ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 9,181 नये मामले सामने आये ,293 और लोगों की मौत◾केरल : बारिश थमने से कुछ राहत, इडुक्की में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 49 हुई◾पायलट मामले के समाधान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय समिति गठित की ◾दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 707 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 1.46 लाख के पार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

संविधान दिवस पर बोले ओम बिरला- कर्तव्यों से विमुख होकर सिर्फ अधिकारों की बात करने से असंतुलन पैदा होगा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने "अनुशासन" को मौलिक अधिकारों द्वारा प्रदान की गई स्वतंत्रता और शक्तियों के प्रयोग की एक जरूरी शर्त देते हुए मंगलवार को कहा कि कर्तव्यों से विमुख होकर सिर्फ अधिकारों की बात करने से एक प्रकार का असंतुलन पैदा होगा। 

संविधान को अंगीकार करने की 70वीं वर्षगांठ पर लोकसभा अध्यक्ष ने कहा, "संविधान ने जहां एक तरफ मौलिक अधिकारों के रूप में हमें पर्याप्त स्वतंत्रता और शक्तियां दी गई हैं, वहीं दूसरी तरफ संतुलन बनाते हुए मौलिक कर्तव्यों का निर्देश करने के लिये अनुशासित भी किया।" 

उन्होंने कहा, "यह अनुशासन मौलिक अधिकारों द्वारा दी गई आजादी और शक्तियों के प्रयोग की एक जरूरी शर्त है।" लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि संविधान के मौलिक कर्तव्यों को देखें तो स्पष्ट होता है कि उसमें मानवीय जीवन के हर पहलु को अनुशासित करने की परिकल्पना है। ऐसे में देशवासियों से अपेक्षा की जाती है कि हम संविधान का पालन करे तथा उसके आदर्शों एवं संस्थाओं का आदर करें। 

नागरिक अपने अधिकारों के साथ कर्तव्यों का आस्थापूर्वक करें पालन : उपराष्ट्रपति नायडू

बिरला ने कहा कि मौलिक कर्तव्यों के पालन से राष्ट्र की अधिकांश समस्याओं का समाधान हो सकता है..चाहे वन एवं पर्यावरण संरक्षण की बात हो, स्वच्छता की बात हो, या फिर जलवायु परिवर्तन की या प्रदूषण संकट की बात हो । लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि संविधान में उल्लेख किये गए कर्तव्य हमें उन आदर्शो एवं मूल्यों की याद दिलाते हैं जिन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में हमें प्रेरित किया है, देश की सम्प्रभुता को बनाये रखने का दर्शन दिया। 

बिरला ने कहा, "लेकिन कर्तव्य से विमुख होकर सिर्फ अधिकारों की बात करने से एक प्रकार का असंतुलन पैदा होता है। इस असंतुलन के कारण देश के विकास में बाधाएं आती हैं और विकास की गति धीमी पड़ जाती है।" उन्होंने कहा, "आज संसद के दोनों सदनों के सभी दलों के प्रतिनिधि उपस्थित हैं। मेरा आप सभी से निवेदन है कि आप इस बात पर आम राय बनाएं कि इस अनुच्छेद (मौलिक कर्तव्य) का पालन सिर्फ विवेकाधीन न रह जाए।"

 लोकसभा अध्यक्ष की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब एक दिन पहले ही लोकसभा की कार्यवाही विपक्ष के भारी हंगामे के कारण बाधित हुई और धक्कामुक्की की स्थित उत्पन्न हुई थी। बिरला ने कहा, "अब समय आ गया है कि हम सभी सांसद देश के सामने एक ऐसा आदर्श प्रस्तुत करें जहां अधिकारों के साथ साथ हम अपने कर्तव्यों का स्मरण स्वयं भी करें और दूसरों को भी कराएं।"

उन्होंने कहा कि भारत का संविधान बस कुछ कानूनों एवं नियमों की एक लिखित किताब नहीं है बल्कि यह राष्ट्र की सामूहिक चेतना और आदर्शो एवं सामूहिक सपनों एवं आशाओं का प्रतिबिंब है। इसलिये हमें संविधान को अपना पद प्रदर्शक बनाये रखना है।