BREAKING NEWS

महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिये - मुस्लिम पक्षकार◾GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें ◾भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद ◾आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने बैंकाक पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ◾किसानों की आवाज को कुचलना चाहती है भाजपा सरकार : अखिलेश◾उत्तरी कश्मीर में पांच संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार ◾‘शिवसेना राजग की बैठक में भाग नहीं लेगी’ ◾TOP 20 NEWS 16 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामलीला मैदान में मोदी सरकार की ‘जनविरोधी नीतियों’ के खिलाफ विपक्ष करेगी बड़ी रैली ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने तीन उम्मीदवारों की चौथी सूची की जारी◾सबरीमला मंदिर के कपाट खुले, पुलिस ने 10 महिलाओं को वापस भेजा◾राफेल पर CM अरविंद केजरीवाल का प्रकाश जावड़ेकर को जवाब, ट्वीट कर कही ये बात ◾दिल्ली: राफेल डील में SC से क्लीन चिट के बाद AAP कार्यालय के पास भाजपा का प्रदर्शन◾नवाब मलिक ने फड़णवीस पर साधा निशाना, कहा- हार चुके सेनापति को अपनी हार स्वीकार करनी चाहिए◾गोवा में मिग 29 K लडाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित◾योगी ने स्वाती सिंह को किया तलब, सीओ को धमकाने का ऑडियो हुआ था वायरल◾संजय राउत का BJP पर शायराना वार, लिखा- 'यारों नए मौसम ने अहसान किया...'◾

देश

मद्रास HC ने नागरिकता के लिये श्रीलंकाई शरणार्थियों की याचिका पर केन्द्र को दिये निर्देश

मदुरै : मद्रास उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को केंद्र को निर्देश दिया कि वह नागरिकता की मांग कर रहे 65 श्रीलंकाई तमिलों के आवेदन पर 16 सप्ताह के भीतर उपयुक्त आदेश जारी करे। 

अदालत का यह आदेश पिछले 35 साल से तिरुचिरापल्ली जिले के एक शरणार्थी शिविर में रह रहे श्रीलंकाई तमिलों की याचिका पर आया। ये लोग जातीय संघर्ष तेज होने के बाद श्रीलंका छोड़कर 1983 में तमिलनाडु आ गये थे।

कोट्टापट्टू शिविर के शरणार्थियों की याचिका का निस्तारण करते हुए न्यायमूर्ति जी आर स्वामीनाथन ने कहा कि इन लोगों ने यह प्रदर्शित किया है कि उनका इरादा भारत को अपना स्थायी निवास स्थान बनाने का है। 

इस तरह के शिविरों में रहने की दशा को ‘‘नारकीय’’ बताते हुए न्यायाधीश ने कहा कि यहां तक मंडपम शरणार्थी शिविर में किसी आईपीएस अधिकारी की तैनाती भी सजा मानी जाती है। 

उन्होंने कहा कि उन्हें शरणार्थी शिविर में लंबे समय तक रहने के लिए कहना भी मानवाधिकारों का हनन है। 

याचिकाकर्ताओं ने कहा कि उन्होंने तिरुचिरापल्ली जिला कलेक्ट्रेट के माध्यम से नागरिकता के लिए आवेदन किया था लेकिन इन आवेदनों को केन्द्र सरकार के पास नहीं भेजा गया। 

न्यायाधीश ने याचिकाकर्ताओं को नागरिकता के लिए नयी याचिका दायर करने के निर्देश दिये और जिला कलेक्टर को बिना किसी विलंब के इसे केन्द्र सरकार के पास भेजने का आदेश दिया। 

अदालत ने कहा कि सरकार को आवेदन मिल जाने के बाद 16 सप्ताह के भीतर इस उचित आदेश पारित करना होगा।