BREAKING NEWS

खुद के विकास में जुटे नेता, एमसीडी चुनाव दोबारा लड़ रहे 75 पार्षदों की संपत्ति में तीन से 4,437% तक की वृद्धि : ADR◾SC ने कहा- सबसे महत्वपूर्ण सवाल, क्या ‘जल्लीकट्टू’ को किसी भी रूप में अनुमति दी जा सकती◾सीएम योगी ने कहा- सैनी ने मुजफ्फरनगर की गरिमा बचाने के लिए खोई विधानसभा सदस्यता◾Congress ने कहा- तीसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर और गिरने का डर, सच्चाई से मुंह नहीं मोड़ें PM◾Delhi Excise Policy: अमित अरोड़ा की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने 7 दिन के लिए ईडी हिरासत में भेजा◾धामी सरकार का कट्टरपंथियों पर प्रहार, विधानसभा में सख्त प्रावधान वाला धर्मांतरण रोधी संशोधन ​विधेयक पारित◾गुजरात पर चुनाव पूर्व सर्वेक्षण से कांग्रेस को तकलीफ, EC से कार्रवाई की मांग की◾GDP growth rate दूसरी तिमाही में घटकर 6.3% रही, विनिर्माण, खनन क्षेत्रों में गिरावट का असर◾Border dispute: महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद के बीच बेलगावी जिले में सुरक्षा सख्त◾Bihar: तेजस्वी यादव ने कहा- 5 दिसंबर को होगा लालू प्रसाद यादव का प्रतिरोपण◾भाजपा ने PM मोदी के खिलाफ ‘आपत्तिजनक शब्दों’ के इस्तेमाल पर कांग्रेस को लिया आड़े हाथ ◾दिल्ली: चांदनी चौक हुई धुंआ-धुंआ! एक दुकान में लगी भीषण आग, दमकल विभाग ने संभाला मोर्चा ◾Gyanvapi Case: श्रृंगार गौरी की पूजा के मामले में अगली सुनवाई पांच दिसंबर को होगी ◾अफगानिस्तान में दर्दनाक वारदात! मदरसे में हुए बम धमाके में 15 की मौत, 27 घायल◾नवाब मलिक की बढ़ी मुश्किलें, विशेष अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जमानत देने से किया इनकार ◾एक्शन में CBI, टीआरएस नेता कमलाकर व रविचंद्र तलब, IPS अधिकारी बनकर पैसे ऐंठने के मामले में होगी पूछताछ ◾Karnataka: कर्नाटक में पुलिस प्रशासन से बड़ी लापरवाही, आरोपी ने चलती जीप से लगाई छलांग, मौके पर हुई मौत◾Gold Rate Today: शादी के सीजन में सोने में गिरावट, प्रति 10 ग्राम पहुंचा इतना भाव, चांदी भी पड़ी फीकी◾गुजरात के रण में वादों की बौछार, भगवंत मान ने कहा- AAP की सरकार बनी तो लोगों को बिजली बिल में मिलेगी राहत ◾china: चीन के पूर्व राष्ट्रपति जियांग जेमिन का हुआ निधन, 96 वर्ष की आयु में ली आखिरी सांस◾

उत्पादन के बाद खाद्यान्नों का रखरखाव निश्चित रूप से कृषि क्षेत्र के लिए एक चुनौती : कृषि मंत्री तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि उत्पादन के बाद खाद्यान्नों का रखरखाव निश्चित रूप से कृषि क्षेत्र के लिए एक चुनौती है और सरकार ने ई-नाम और अन्य सुविधाओं की स्थापना के जरिये आवश्यक बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से इस मसले के हल को कई कदम उठाए हैं।

तोमर ने कहा कि उत्पादन के बाद की चुनौतियों से निपटने के लिए, सरकार ने अबतक लगभग 1,000 विनियमित थोक मंडियों को इलेक्ट्रॉनिक राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) से जोड़ा है, कृषि-बुनियादी ढांचा कोष के तहत 13,000 परियोजनाओं के लिए 9,500 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं तथा ड्रोन जैसी तकनीकों को बढ़ावा देने के अलावा किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) की स्थापना को प्रोत्साहित किया है।

कृषि बाजार को दुरुस्त करना

तोमर ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और इक्रियर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित ‘कृषि बाजार को दुरुस्त करना’ विषय पर एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘उत्पादन नहीं, लेकिन उत्पादन बाद खाद्यान्नों का रखरखाव निश्चित रूप से आज एक समस्या है।’’

तोमर ने यह भी उल्लेख किया कि पूर्व में समय-समय पर उत्पादन बाद खाद्यान्नों के रखरखाव के मुद्दों को हल करने के प्रयास किए गए थे लेकिन वांछित परिणाम प्राप्त नहीं किए जा सके। उन्होंने कहा कि हालांकि, पिछले आठ वर्षों में, उत्पादन के बाद खाद्यान्नों के रखरखाव के मुद्दों को ठीक करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं ताकि किसानों को बेहतर मूल्य मिले और उनकी आय में सुधार हो।

कृषि पीठ के प्रोफेसर अशोक गुलाटी भी उपस्थित

उन्होंने यह भी कहा कि जैविक उत्पादों का भी अच्छा बाजार है क्योंकि उनके निर्यात में वृद्धि हुई है। लेकिन किसानों को बेहतर दाम पाने के लिए गुणवत्ता और उत्पादकता में सुधार के क्षेत्र में काम करने की जरूरत है। इस अवसर पर इक्रियर के चेयरमैन प्रमोद भसीन, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के प्रबंध निदेशक और सीईओ विक्रम लिमये और इक्रियर में इन्फोसिस की कृषि पीठ के प्रोफेसर अशोक गुलाटी भी उपस्थित थे।