BREAKING NEWS

एलएसी विवाद : कल होगी भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक◾बौखलाए चीन ने निकाली खीज, अमेरिका के शीर्ष अधिकारियों - नेताओं पर वीजा प्रतिबंध लगाया ◾कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित, हाईकमान के नेतृत्व में जताया विश्वास ◾पायलट को मनाने में लगे राहुल और प्रियंका, कई वरिष्ठ नेताओं ने भी किया संपर्क ◾बच गई राजस्थान की कांग्रेस सरकार, मुख्यमंत्री गहलोत ने विधायकों के संग दिखाया शक्ति प्रदर्शन◾सीबीएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा के परिणाम घोषित, 88.78% परीक्षार्थी रहे उत्तीर्ण ◾श्रीपद्मनाभ स्वामी मंदिर प्रबंधन पर शाही परिवार का अधिकार SC ने रखा बरकरार◾सियासी संकट के बीच CM गहलोत के करीबियों पर IT का शकंजा, राजस्थान से लेकर दिल्ली तक छापेमारी◾राहुल ने केंद्र पर साधा सवालिया निशाना, कहा- क्या भारत कोरोना जंग में अच्छी स्थिति में है?◾जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ जारी, एक आतंकवादी ढेर ◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख 78 हजार के पार, साढ़े पांच लाख से अधिक लोगों ने महामारी से पाया निजात ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरीजों की संख्या 1 करोड़ 29 लाख के करीब ◾CM शिवराज ने किया मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा, नरोत्तम मिश्रा बने MP के गृह मंत्री◾असम में बाढ़ और भूस्खलन में चार और लोगों की मौत, करीब 13 लाख लोग प्रभावित◾चीन से तनाव के बीच सेना के आधुनिकीकरण के तहत अमेरिका से 72,000 असॉल्ट राइफल खरीद रहा भारत◾पूर्वी लद्दाख में तनाव कम करने के लिए बुधवार तक होगी लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की वार्ता◾राजस्थान : कांग्रेस महासचिव अविनाश पांडे का दावा- गहलोत सरकार के पास 109 विधायकों का समर्थन ◾सचिन पायलट ने 30 विधायकों के समर्थन का दावा किया, कांग्रेस बोली- सुरक्षित है गहलोत सरकार ◾विकास दुबे के लिए मुखबिरी करने के आरोपी पुलिसकर्मी को खुद के एनकाउंटर का डर, SC में दी याचिका◾सचिन पायलट की खुली बगावत, विधायक दल की बैठक में नहीं होंगे शामिल, बोले- अल्पमत में है गहलोत सरकार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मनमोहन सिंह ने कहा- राज्य की सीमाओं के पुनर्निधार्रण में राज्यसभा की अधिक भूमिका होनी चाहिए

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को कहा कि राज्यों की परिषद होने के नाते प्रांतों की सीमाओं के पुनर्निधार्रण से संबंधित विधेयकों में राज्यसभा की अधिक भूमिका होनी चाहिए। उन्होंने हालांकि इस सन्दर्भ में जम्मू कश्मीर का नाम नहीं लिया जिसका हाल में पुनर्गठन हुआ है। 

सिंह राज्यसभा के 250वें सत्र पर उच्च सदन में ‘‘भारतीय शासन व्यवस्था में राज्यसभा की भूमिका और आवश्यकता’’ पर हुयी विशेष चर्चा में भाग ले रहे थे। उन्होंने कहा कि कार्यपालिका को इस सदन के प्रति अधिक सम्मान दिखाना चाहिए। लेकिन आज ऐसा नहीं हो रहा है। सिंह ने कहा, ‘‘उदाहरण के लिए, किसी राज्य की सीमाओं का पुनर्निधार्रण... उन्हें केंद्रशासित प्रदेशों में परिवर्तित करना, ये दूरगामी परिणामों वाले प्रस्ताव अथवा विधेयक हैं। इन मुद्दों से निपटने के लिए राज्यसभा को अधिक अधिकार होने चाहिए।’’

 

सरकार द्वारा राज्यसभा की अनदेखी कर जल्दबाजी में महत्पूर्ण विधेयक पारित कराने के प्रति सत्ता पक्ष को आगाह करते हुए उन्होंने कहा कि इससे सदन सहित हमारे संस्थानों का ‘‘कद एवं महत्व कम होता है।’’ वरिष्ठ कांग्रेस नेता सिंह ने हाल में कार्यपालिका द्वारा धन विधेयक के प्रावधानों की ‘‘ दुरूपयोग की घटनाओं’’ पर भी चिंता जतायी। 

सिंह ने कहा कि संसद के दोनों सदनों के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर संविधान का अनुच्छेद 110 है जिसके तहत धन विधेयक के मामलों में लोकसभा को महत्व दिया जाता है। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में हमने कार्यपालिका द्वारा धन विधेयक प्रावधान के दुरुपयोग की घटनाओं को देखा है। इस वजह से महत्वपूर्ण विधेयकों पर राज्यसभा की अनदेखी हुयी। उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ऐसी स्थिति से बचा जाए। यह राज्यसभा सहित हमारी संस्थाओं के कद और महत्व को कम करता है। 

सिंह ने कहा कि विधेयकों पर स्थायी समितियों में व्यापक चर्चा करने की जरूरत है। इससे सदस्यों के साथ ही विशेषज्ञ और संबंधित पक्षों की राय भी ली जा सकती है। उन्होंने कहा कि 16 वीं लोकसभा में पेश किए गए विधेयकों में से केवल 25 प्रतितशत ही समितियों को भेजे गये जबकि 15 वीं और 14 वीं लोकसभा में यह संख्या क्रमश: 71 प्रतिशत और और 60 प्रतिशत थी। 

सिंह ने कहा कि इस सदन के लिए महत्वपूर्ण है कि वह प्रवर समितियों का गठन कर विधेयकों पर विस्तृत विचार विमर्श करे। उन्होंने कहा कि राज्यसभा की प्रवर समितियों ने कानूनों में सुधार के लिए सराहनीय काम किया है। उन्होंने अपील की कि सभी विधेयकों पर ऐसी समितियों में चर्चा सुनिश्चित होनी चाहिए। 

सिंह ने कहा कि स्वतंत्रता के पहले भारत में दो सदनात्मक व्यवस्था थी। इसके बाद भी संविधान सभा में द्विसदनीय प्रणाली की आवश्यकता पर गहन चर्चा हुयी और इस संबंध में सर्वसम्मति बनी। 

उन्होंने कहा कि जिस तरह से राज्यसभा की भूमिका विकसित हुई, उसके लिए हमें पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को धन्यवाद देना चाहिए। उन्होंने इस आवश्यकता पर बल दिया कि कोई सदन एक दूसरे से ऊपर नहीं हो। उन्होंने राज्य के मामलों में लोकसभा के साथ राज्यसभा को समान भागीदार माना।