BREAKING NEWS

राहुल गांधी ने सरकार पर लगाया आरोप, बोले-PM केयर्स कोष में अपारदर्शिता से खतरे में पड़ रही है जिंदगियां◾कोरोना वायरस के 6.87 लाख मामलों के साथ रूस को पीछे छोड़ भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,555 नए केस◾खालिस्तानी समर्थक संगठन SFJ पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध◾घाटे के चलते आने वाले दिनों में टेलीकॉम कंपनियां बढ़ा सकती है फ़ोन कॉल और इंटरनेट के रेट ◾तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 4,150 नये मामले आये सामने , मृतकों की संख्या 1,510 पहुंची ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 2,244 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 99 हजार के पार◾गुजरात के कच्छ जिले में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया, वहीं 4.6 तीव्रता के झटकों से फिर थर्राया मिजोरम ◾गाजियाबाद की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाके से 7 की मौत, कई लोग घायल◾कानपुर एनकाउंटर : शक के दायरे में चौबेपुर थाना, IG बोले-सबूत मिले तो पुलिसवालों पर दर्ज होगा हत्या का केस◾TMC नेता कल्याण बनर्जी का विवादित बयान, वित्तमंत्री सीतारमण को बताया 'काली नागिन'◾राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा-सूर्य, चंद्रमा और सत्य ज्यादा देर छिप नहीं सकते◾रक्षा मंत्री राजनाथ के साथ अमित शाह ने सरदार पटेल कोविड-19 केयर सेंटर का किया दौरा ◾कानपुर घटनाक्रम के लिए ओवैसी ने CM योगी की 'ठोक देंगे' पॉलिसी को बताया जिम्मेदार◾देश में 24 घंटों के दौरान 25 हजार से अधिक कोरोना मामलों की पुष्टि,मरीजों की संख्या 6 लाख 73 हजार के पार ◾कानपुर : 8 पुलिसकर्मियों को जान से मारने वाले आरोपी विकास दुबे का साथी दयाशंकर गिरफ्तार◾कोरोना रिकवरी रेट बढ़ने पर बोले CM केजरीवाल- 2 करोड़ लोगों की मेहनत रंग ला रही◾J&K : पुलवामा में आतंकियों ने CRPF के काफिले को IED ब्लास्ट के जरिये बनाया निशाना,एक जवान घायल◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 11 लाख के पार ◾दिल्ली में रातभर चली तेज हवाओं और बारिश ने दिलाई गर्मी से राहत, मौसम हुआ सुहाना ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

LAC विवाद : 10 घंटे से अधिक चली भारत और चीन के कोर कमांडरों की मैराथन वार्ता, चीन ने की ये मांग

भारत और चीन की सेनाओं की मंगलवार को करीब 10 घंटे तक कोर कमांडर स्तर की बातचीत हुई जिसके केंद्र में पूर्वी लद्दाख के टकराव वाले क्षेत्रों से सैनिकों को पीछे करने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देना था। सरकारी सूत्रों ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि बैठक के दौरान प्रतिनिधिमंडल ने इलाके में चीन के नये दावे पर चिंता जताई है और पुरानी स्थिति बहाल करने और तत्काल चीनी सैनिकों को गलवान घाटी, पेंगोंग सो और अन्य इलाकों से वापस बुलाने की मांग की। सरकारी सूत्रों ने बताया कि वार्ता पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास चुशूल सेक्टर में भारत की तरफ हुई। बैठक सुबह 11 बजे शुरू हुई और रात नौ बजे तक चलती रही।

वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया, जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व तिब्बत सैन्य जिले के मेजर जनरल लियु लिन ने किया। सूत्रों ने बताया कि भारतीय पक्ष ने सीमा से जुड़े मुद्दों के समाधान के दोनों देशों के बीच हुए समझौतों के प्रावधानों का कड़ाई से पालन करने पर जोर दिया। उन्होंने बताया कि बातचीत के केंद्र में तनाव को कम करने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देना था।

सूत्रों ने बताया कि विश्वास बहाली के उपायों पर भी चर्चा हुई। बैठक में हुई बातचीत की औपचारिक जानकारी नहीं दी गई है। पांच मई को दोनों सेनाओं के बीच शुरू हुए तनाव के बाद कोर कमांडर स्तर की यह तीसरी वार्ता है। पहले दो दौर की वार्ताओं में भारतीय पक्ष ने इलाके के विभिन्न स्थानों से तत्काल चीनी सैनिकों को हटाने की मांग की थी।

उल्लेखनीय है कि पूर्वी लद्दाख के विभिन्न स्थानों पर गत सात हफ्ते से भारत और चीन के सेनाओं के बीच तनाव है और यह तनाव और बढ़ गया जब 15 जून को गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 सैन्यकर्मी शहीद हो गए। चीनी पक्ष को भी नुकसान हुआ लेकिन उसने इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं की। दोनों पक्षों के बीच 22 जून को हुई वार्ता में पूर्वी लद्दाख में तनाव वाले सभी स्थानों पर ‘‘पीछे हटने’’ को लेकर ‘‘परस्पर सहमति’’ बनी थी।

पहले दो दौर की बातचीत एलएसी के पास चीनी जमीन पर मोल्दो में हुई थीं। गलवान घाटी में हुई हिंसा के बाद सरकार ने सशस्त्र बलों को 3500 किलोमीटर लंबी एलएसी के पास चीन के किसी भी दुस्साहस का ‘‘मुंहतोड़’’ जवाब देने की ‘‘पूरी छूट’’ दे दी है। पिछले हफ्ते विदेश मंत्रालय ने कड़े शब्दों में बयान जारी कर कहा था कि तनाव के लिए चीन जिम्मेदार है और जिसने मई की शुरुआत में सभी आपसी सहमति को ताक पर रखकर भारी संख्या में सैनिकों की तैनाती एलएसी के पास की।

लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की छह जून को हुई पहले दौर की वार्ता में दोनों पक्षों ने गलवान से शुरुआत कर उन सभी बिंदुओं से बलों को धीरे-धीरे पीछे हटाने पर सहमति जताई थी, जहां दोनों देशों की सेनाओं के बीच गतिरोध की स्थिति है। गलवान घाटी में हुए संघर्ष के बाद हालांकि स्थिति बिगड़ गई और दोनों पक्षों ने एलएसी से लगे इलाकों में अपने सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी।