BREAKING NEWS

हाथरस गैंगरेप : प्रियंका और राहुल के दौरे के मद्देनजर जिले की सभी सीमाएं सील ◾बलरामपुर में गैंगरेप की घटना को लेकर कांग्रेस ने UP सरकार पर साधा निशाना, किया यह दावा ◾देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना के 86,821 मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 63 लाख के पार ◾रवि किशन को मिली Y प्लस श्रेणी की सुरक्षा, मुख्यमंत्री योगी का किया धन्यवाद ◾कब रुकेगी हैवानियत, हाथरस-बलरामपुर के बाद MP और राजस्थान में नाबालिगों से गैंगरेप◾हाथरस गैंगरेप की घटना SIT ने शुरू की जांच, पीड़ित परिवार से आज प्रियंका गांधी कर सकती है मुलाकात ◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का हाहाकार, संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ 38 लाख के पार◾पीएम ने रामनाथ कोविंद को दी जन्मदिन की बधाई, राष्ट्रपति के लम्बे आयु के लिए की प्रार्थना◾हाथरस के बाद बलरामपुर में हुआ गैंगरेप, पुलिस ने कहा - नहीं तोड़े गए पैर और कमर, पीड़िता की हुई मौत ◾आज का राशिफल (01 अक्टूबर 2020)◾हाथरस दुष्कर्म मामले पर विजयवर्गीय बोले - ‘‘UP में कभी भी पलट सकती है कार’’ ◾KKR vs RR ( IPL 2020 ) : केकेआर की ‘युवा ब्रिगेड’ ने दिलाई रॉयल्स पर शाही जीत, राजस्थान को 37 रन से हराया◾पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा - दोनों देशों ने छठे दौर की वार्ता के नतीजों का सकारात्मक मूल्यांकन किया◾बंगाल BJP के वरिष्ठ नेता 1 अक्टूबर को करेंगे अमित शाह से मुलाकात◾सोमनाथ ट्रस्ट की बैठक में शामिल हुए PM मोदी◾बाबरी विध्वंस फैसले पर जमीयत का सवाल- जब मस्जिद तोड़ी गई तो फिर सब निर्दोष कैसे, क्या यह न्याय है?◾अनलॉक 5 की गाइडलाइन्स : 15 अक्टूबर से सिनेमा हाल, स्विमिंग पूल और मनोरंजन पार्क खोलने की अनुमति ◾अनलॉक 5 की गाइडलाइन्स : 15 अक्टूबर से सिनेमा हाल, स्विमिंग पूल और मनोरंजन पार्क खोलने की अनुमति ◾बाबरी विध्वंस मामला : सीबीआई कानूनी विभाग से विमर्श के बाद करेगी फैसले को चुनौती देने का निर्णय ◾मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर से नहीं हटेगी शाही ईदगाह, अदालत में खारिज हुई याचिका◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मोदी सरकार ने देश को आर्थिक आपातकाल की तरफ धकेला, अर्थव्यवस्था पर लाए श्वेतपत्र : कांग्रेस

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा केंद्र सरकार को लाभांश और अधिशेष कोष के मद से 1.76 लाख करोड़ रुपये हस्तांतरित करने के निर्णय को लेकर कांग्रेस ने मंगलवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर देश को 'आर्थिक आपातकाल और दिवालियेपन' की तरफ धकेलने का आरोप लगाया और कहा कि सरकार एक सप्ताह के भीतर अर्थव्यवस्था की स्थिति पर श्वेतपत्र लाए। 

पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि आरबीआई से जुड़ा निर्णय इस बात का प्रमाण है कि भारत की अर्थव्यवस्था गहरे संकट में है, लेकिन सरकार लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा, ''भारत एक गहरे आर्थिक संकट में है। देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। जीडीपी निरन्तर गिर रही है। अर्थव्यवस्था के सभी सूचकांक नीचे हैं। रुपये का लगातार अवमूल्यन हो रहा है।'' 

शर्मा ने कहा, ''वास्तव में भारत बेरोजगारी 20 फीसदी से ऊपर है। हर जानकार अर्थशास्त्री इससे सहमत होगा। लोगों को कर्ज भी नहीं मिल रहा है। देश का निर्यात जहां पांच साल पहले था वहीं अटका हुआ है। इसमें बढ़ोतरी नहीं हुई है।'' उन्होंने आरोप लगाया, ''आरबीआई से पैसा लेने का निर्णय खतरनाक है। दुनिया में कहीं भी केंद्रीय बैंक अपने फंड का पैसा सरकार को नहीं देता। इससे भारत की अर्थव्यवस्था के गहरे संकट में होने की पुष्टि है।'' 

शर्मा ने कहा, ''आरबीआई के सभी पुराने गवर्नर ने इसका विरोध किया था। रघुराम राजन ने इसका विरोध किया और उर्जित पटेल ने इस्तीफा दे दिया। ये हालात इस सरकार की नीतियों और बदइंतजामी से पैदा हुए हैं। सरकार कुछ नहीं कर रही है।'' 

उन्होंने दावा किया, ''सरकार घाटे में है, बजट गलत बना दिया। सब्सिडी बन्द कर दी। इन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा। देश को आर्थिक आपातकाल और दिवालियेपन की तरफ धकेल दिया।'' शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री अब इस स्थिति को नकार नहीं सकते। सरकार एक सप्ताह के भीतर अर्थव्यवस्था की स्थिति पर श्वेतपत्र लाए। 

इससे पहले पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सवाल किया कि क्या आरबीआई से मिले इस पैसे का इस्तेमाल भाजपा के पूंजीपति मित्रों (क्रोनी फ्रेंड्स) को बचाने के लिए होगा। सुरजेवाला ने यह भी पूछा कि क्या यह महज इत्तेफाक है कि आरबीआई से लिया जा रहा 1.76 लाख करोड़ रुपये की राशि बजट आकलन में 'गायब' राशि के बराबर है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''क्या यह वित्तीय समझदारी है या फिर वित्तीय आत्महत्या है?"

 

गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने केंद्र सरकार को लाभांश और अधिशेष कोष के मद से 1.76 लाख करोड़ रुपये हस्तांतरित करने का सोमवार को निर्णय किया। रिजर्व बैंक के निदेशक मंडल के बिमल जालान की अध्यक्षता वाली समिति की सिफारिशों को स्वीकार करने के बाद यह कदम उठाया गया है।