BREAKING NEWS

आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾गौतम गंभीर की जान को खतरा, ISIS कश्मीर ने तीसरी बार दी धमकी, कहा- कुछ नहीं कर सकती IPS श्वेता ◾महाराष्ट्र सरकार के 2 साल हुए पूरे, सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा- एमवीए सरकार ने आपदा को अवसर में बदला◾

कई राज्यों में दिखा चांद , देशभर में 21 जुलाई को मनाई जाएगी बकरीद

दिल्ली समेत देश भर में ईद उल अज़हा का त्योहार 21 जुलाई को मनाया जाएगा। दिल्ली के आसमान में बादलों के छाए रहने की वजह से चांद के दीदार नहीं हो सके, लेकिन उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय समेत कई राज्यों में चांद दिखा है। 

चांदनी चौक स्थित फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मौलाना डॉ मुफ्ती मुकर्रम अहमद ने बताया, “ दिल्ली के आसमान में बादल छाए रहने की वजह से चांद नहीं दिख पाया है, लेकिन उत्तर प्रदेश के लखनऊ, बिजनौर, नगीना, बिहार के पटना, ओडिशा, पश्चिम बंगाल असम और मेघालय समेत कई राज्यों और शहरों में रविवार को इस्लामी कलेंडर के आखिरी महीने ज़ुल हिज्जा का चांद दिखने की खबर आई है और इसकी तसदीक (पुष्टि) हुई है।”

उन्होंने कहा, “लिहाज़ा ईद-उल-अज़हा का त्योहार 10 ज़ुल हिज्जा यानी 21 जुलाई, बुधवार को मनाया जाएगा।” बता दें कि बकरीद का त्योहार चांद दिखने के 10वें दिन मनाया जाता है, और ईद उल ज़ुहा या अज़हा या बकरीद, ईद उल फित्र के दो महीने नौ दिन बाद मनाई जाती है।

वहीं मुस्लिम संगठन इमारत ए शरीया हिंद ने भी 21 जुलाई को बकरीद का त्योहार मनाने का ऐलान किया है। संगठन ने एक बयान में बताया कि इमारत ए शरीया हिंद की रुअत ए हिलाल (चांद समिति) के सचिव हकीमुद्दीन कासमी की अध्यक्षता में हुई बैठक में तसदीक की गई कि देश के अन्य हिस्सों में चांद दिखा है, लिहाजा एक ज़ुल हिज्जा सोमवार को होगी और ईद-उल-अज़हा 21 जुलाई को मनाई जाएगी।

जामा मस्जिद के नायब शाही इमाम सैयद शाबान बुखारी ने एक वीडियो जारी कर कहा कि रात को ज़ुल हिज्जा का चांद दिख गया है और बकरीद का त्योहार 21 जुलाई को मनाया जाएगा। इस बार दिलचस्प है कि केरल में भी बकरीद बाकी देश के साथ मनाई जाएगी। केरल में अक्सर रमज़ान, ईद-उल-फित्र और बकरीद अरब मुल्कों के अनुसार मनाई जाती है। इस बार केरल में मुस्लिम संगठन ‘समस्त केरल जेम इय्याथुल उलमा’ ने उलेमा (धुर्म गुरुओं) के हवाले से कहा कि नया चांद नहीं दिखा है जिसके बाद 21 जुलाई को बकरीद मनाने का फैसला किया गया है।

एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के प्रमुख पी हैदर अली शिहाब थंगल, समस्त अध्यक्ष मोहम्मद जिफरी मुथुकोया थंगल और अन्य उलेमा द्वारा संयुक्त रूप से ईद उल अज़हा मनाने की तारीख की घोषणा की गई है। इस बारे में मुफ्ती मुकर्रम ने कहा कि अक्सर केरल में अरब देशों के साथ ईद का त्योहार मनाया जाता है, लेकिन ऐसा कई बार हुआ है कि केरल और देश के अन्य हिस्सों में एक ही दिन त्योहार मनाया हो, लेकिन आम तौर पर यह नहीं होता है।

उन्होंने कहा , 'मुस्लिम समुदाय के जिन लोगों के पास करीब 612 ग्राम चांदी है या इसके बराबर के पैसे हैं, उन पर कुर्बानी वाजिब है।' मौलाना मुकर्रम ने कहा, 'यह जरूरी नहीं है कि कुर्बानी अपने घर या शहर में ही की जाए। जहां लॉकडाउन लगा है, वहां के लोग अन्य स्थानों पर रहने वाले अपने परिचितों या रिश्तेदारों को कुर्बानी करने के लिए पैसे भेज सकते हैं।

आकाशीय बिजली गिरने से UP, MP और राजस्थान में अब तक 68 लोगों की हुई मौत