BREAKING NEWS

आरक्षण विरोधी मानसिकता त्यागे संघ : मायावती◾कश्मीर पर भारत की नीति से घबराया पाकिस्तान, अगले तीन साल पाकिस्तानी सेना प्रमुख बने रहेंगे बाजवा◾चिदंबरम ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- सब सामान्य तो महबूबा मुफ्ती की बेटी नजरबंद क्यों◾कांग्रेस ने बीजेपी और RSS को बताया दलित-पिछड़ा विरोधी◾गृहमंत्री अमित शाह से मिले अजीत डोभाल, जम्मू कश्मीर के हालात पर हुई चर्चा◾RSS अपनी आरक्षण-विरोधी मानसिकता त्याग दे तो बेहतर है : मायावती ◾गहलोत बोले- कांग्रेस ने देश में लोकतंत्र को मजबूत रखा जिसकी वजह से ही मोदी आज PM है ◾बैंकों के लिए कर्ज एवं जमा की ब्याज दरों को रेपो दर से जोड़ने का सही समय: शक्तिकांत दास◾राजीव गांधी की 75वीं जयंती: देश भर में कार्यक्रम आयोजित करेगी कांग्रेस◾दलितों-पिछड़ों को मिला आरक्षण खत्म करना BJP का असली एजेंडा : कांग्रेस ◾उन्नाव कांड: SC ने CBI को जांच पूरी करने के लिए 2 हफ्ते का समय और दिया, वकील को 5 लाख देने का आदेश◾अयोध्या भूमि विवाद मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट में नहीं हुई सुनवाई ◾जम्मू-कश्मीर में पटरी पर लौटती जिंदगी, 14 दिन बाद खुले स्कूल-दफ्तर◾बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का 82 साल की उम्र में निधन◾सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पत्रकार तरुण तेजपाल की रेप आरोप रद्द करने की अपील◾उत्तरकाशी में बादल फटने से 17 की मौत, हिमाचल प्रदेश में बचाए गए 150 पर्यटक◾योगी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार टला, ये है वजह◾प्रियंका बोली- मंदी पर सरकार की चुप्पी खतरनाक, इसका जिम्मेदार कौन है?◾राजस्थान से निर्विरोध चुने गए मनमोहन सिंह, कांग्रेस की राज्यसभा सीट में हुआ इजाफा◾महाराष्ट्र के धुले में ट्रक और बस में भीषण टक्कर, 15 लोगों की मौत◾

देश

भारत में उत्तर से दक्षिण तक बाढ़ का कहर, 240 से ज्यादा लोगों ने गवाई अपनी जान

देश के तमाम राज्यों में भूस्खलन, भारी बारिश और बाढ़ का कहर जारी है। अब तक भारत के 9 राज्यों में बाढ़ के कहर ने 240 लोगों को निगल लिया है। बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों को सूची में केरल, कर्नाटक, उत्तराखंड, राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गोवा शामिल हैं। 

उत्तराखंड में तो बादल फटने, मूसलाधार बारिश और लैंड स्लाइड के कारण कोहराम मचा हुआ है। राज्य में अब तक 34 लोगों की जान जा चुकी है। उत्तराखंड का चमोली जिला इस प्राकर्तिक आपदा से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। वहां बादल फटने से कई इमारतें और मकान बाढ़ की लहर में बह गए। उत्तराखंड में 13 से 16 अगस्त तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

गुजरात - राजस्थान भी नहीं बचे बाढ़ के प्रकोप से 

गुजरात और राजस्थान भी भारी बारिश की मार से नहीं बच पाए। गुजरात में अब तक 24 से ज्यादा लोग बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं। भारी बारिस से राज्य की सड़कें लापता हो गई हैं, और खेत तालाब में तब्दील हो गए हैं। जो जहां फंसा है, वहीं फंसा रह गया है। राजस्थान में भी हालात गंभीर बने हुए हैं। यहां के बडवानी जिले में मूसलाधार बारिश मुसीबत बनकर बरसी है। नदी किनारों को तोड़कर बह रही है।  

महाराष्ट्र जल मग्न के हालत पर 

बाढ़ का कहर पहाड़ों पर ही नहीं मैदानी इलाकों में भी जारी है। बाढ़ के चलते महाराष्ट्र पानी पानी हो रहा है। राज्य में बाढ़ का पानी तो कम हो रहा है, लेकिन तबाही कम होने का नाम नहीं ले रही है। महाराष्ट्र के कोल्हापुर में हालात बदतर हैं। यहां जहां तक नजर जाती है वहां तक सिर्फ पानी ही पानी नजर आ रहा है। लोगों के पास अपनी जान बचने का कोई रास्ता नहीं है और न ही खाने-पीने का सामान। जान बचाने और किसी सहायता के लिए लोग छतों पर चढ़ गए। एनडीआरएफ, भारतीय नेवी, वायुसेना और सेना के जवान लोगों को बचाने में जुटे हुए हैं। और लोगों को जरूरत की चीजें और खाने के पैकेट पहुंचा रहे हैं। 

दक्षिण भारत में पानी का प्रलय 

बाढ़ और बारिश से दक्षिण भारत भी अछूता नहीं रहा। जहां कर्नाटक में बाढ़ से  40 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है वहीँ केरल में भी लगभग 83 लोग पानी की इस त्रासदी का शिकार हो चुके हैं। कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया तो वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड में लोगों से मिले और उन्हें राहत सामग्री वितरण की।