BREAKING NEWS

राहुल के आरोपों पर AgVa कंपनी का जवाब, कहा- वह डॉक्टर नहीं है, दावा करने से पहले करनी चाहिए थी पड़ताल◾यथास्थिति बहाल होने तक LAC से भारत को एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : कांग्रेस◾राहुल का केंद्र सरकार से सवाल, कहा- भारतीय जमीन पर निहत्थे जवानों की हत्या को कैसे सही ठहरा रहा चीन?◾भारत-चीन बॉर्डर पर IAF ने दिखाया अपना दम, चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टर ने रात में भरी उड़ान◾विकास दुबे की तलाश में जुटी पुलिस की 50 टीमें, चौबेपुर थाने में 10 कॉन्स्टेबल का हुआ तबादला◾कोरोना वायरस : देश में मृतकों का आंकड़ा 20 हजार के पार, संक्रमितों की संख्या सवा सात लाख के करीब ◾पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षा बलों ने 1 आतंकी मार गिराया, सेना का एक जवान भी हुआ शहीद ◾चीन मुद्दे पर US ने एक बार फिर किया भारत का समर्थन, कहा- अमेरिकी सेना साथ खड़ी रहेगी◾विश्वभर में कोविड-19 मरीजों की संख्या 1 करोड़ 15 लाख से अधिक, मरने वालों का आंकड़ा 5 लाख 3 हजार के पार ◾US में कोरोना संक्रमितों की संख्या 29 लाख के पार, अब तक 1 लाख 30 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾गृह मंत्रालय से विश्वविद्यालयों को मिली हरी झंडी, परीक्षाएं कराने की मिली अनुमति◾महाराष्ट्र में कोरोना के 5,368 नए मामले आये सामने, 204 और मरीजों की मौत◾वांग - डोभाल बातचीत के बाद बोला चीन - LAC पर सैनिकों को पीछे हटाने का काम जल्द से जल्द किया जाना चाहिए ◾दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1 लाख के पार, देशभर में 7 लाख से ऊपर पहुंची संक्रमितों की संख्या◾कांग्रेस का पलटवार - चीन के खिलाफ मजबूत होती सरकार तो नड्डा को ‘झूठ’ नहीं बोलना पड़ता◾निलंबित DSP देविंदर सिंह समेत छह लोगों खिलाफआतंकी गतिविधियों के लिये NIA द्वारा चार्जशीट दायर ◾चीन के पीछे हटने से एक दिन पहले NSA डोभाल और चीनी विदेश मंत्री के बीच हुई थी बातचीत◾सेना के पीछे हटने पर बोला चीन- दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए उठाया गया कदम◾CM केजरीवाल बोले-दिल्ली में अब रोज 20 से 24 हजार हो रहे है कोरोना टेस्ट, मृत्यु दर में आई कमी ◾गलवान घाटी में 1-2 किमी तक पीछे हटी चीनी सेना, झड़प वाले स्थान पर बना बफर जोन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

50 लाख से ज्यादा रेहड़ी - पटरी वालों के लिए सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेगा 10 हजार रुपये का लोन

केंद्र सरकार ने कोविड -19 वैश्विक महामारी की वजह से घोषित लॉकडाउन से परेशानी में फंसे रेहड़ पटरी वाले खुदरा विक्रेताओं की मदद के लिए सूक्ष्म वित्त पोषण की योजना शुरू की है जिसके तहत फल सब्जी, चाय पकौड़, पान गुटखा आदि बेचने वाले 50 लाख से अधिक लोगों को आसान शर्तों पर दस हजार रुपए तक का ऋण मिल सकेगा।प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में आज यहां हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक के बाद सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़कर ने एक संवाददाता सम्मेलन में इसकी जानकारी दी।

श्री जावड़कर ने बताया कि हमारे मेहनती रेहड़ी पटरी वाले विक्रेताओं की मदद के लिए आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने उनको सस्ते ब्याज पर ऋण प्रदान करने के लिए एक विशेष सूक्ष्म वित्तपोषण की सुविधा योजना - पीएम स्व-निधि यानी प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्म निर्भर निधि शुरू की है। यह योजना उन्हें फिर से काम शुरू करने और अपनी आजीविका कमाने में सक्षम बनाने के लिए एक लंबा रास्ता तय करेगी। विभिन्न क्षेत्रों संदर्भों में वेंडर, हॉकर, ठेले वाले, रेहड़ी वाले, ठेली फलवाले आदि सहित 50 लाख से अधिक लोगों को इस योजना से लाभ मिलने की संभावना है।

उन्होंने कहा कि उनके द्वारा आपूर्ति की जाने वाली वस्तुओं में सब्जियां, फल, रेडी-टू-ईट स्ट्रीट फूड, चाय, पकौड़, ब्रेड, अंडे, वस्त्र, परिधान, जूते, कारीगर उत्पाद, किताबें/स्टेशनरी आदि शामिल हैं। सेवाओं में नाई की दुकानें, मोची, पान की दूकानें व कपड़े धोने की दूकानें शामिल हैं। वे लोग कोविड-19 संकट के मद्देनजर जिन समस्याओं का सामना कर रहें है, उनके प्रति मोदी सरकार संवेदनशील है। ऐसे समय में उन्हें अपने व्यापार को बढ़वा देने के लिए सस्ती क्रेडिट प्रदान करना सुनिश्चित करने की तत्काल आवश्यकता है।शहरी स्थानीय निकाय इस योजना के कार्यान्वयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

श्री जावड़कर ने कहा कि यह भारत के इतिहास में पहली बार हुआ है कि शहरी/ग्रामीण क्षेत्रों के आस-पास सड़क पर माल बेचने वाले विक्रेता शहरी आजीविका कार्यक्रम के लाभार्थी बन गए हैं। वेंडर 10 हजार रुपये तक की कार्यशील पूंजी ऋण का लाभ उठा सकते हैं किसे वे एक वर्ष में मासिक किस्तों में चुका सकते हैं। ऋण की समय पर/जल्दी चुकौती करने पर सात प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से ब्याज सब्सिडी लाभार्थियों के बैंक खातों में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के माध्यम से छह मासिक आधार पर जमा की जाएगी। ऋण के समय से पहले चुकाने पर कोई जुर्माना नहीं लिया जाएगा।

इस योजना में ऋण सीमा को समय पर/शीघ, चुकाने के लिए ऋण की सीमा में वृद्धि करने में मदद मिलती है ताकि विक्रेता को आर्थिक सीढ़ी पर ऊपर चढ़ने की अपनी महत्वाकांक्षा को पूरा करने में मदद मिल सके। यह पहली बार है कि एमएफआई/गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थान/स्वयं सहायता समूह बैंकों को उनके जमीनी स्तर की उपस्थिति और सड़क पर माल बेचने वालों सहित शहरी गरीबों के साथ निकटता के कारण शहरी गरीबों की इस योजना में अनुमति दी गई है।

उन्होंने बताया कि इस योजना को एंड-टू-एंड समाधान के साथ संचालित करने के लिए वेब पोर्टल/मोबाइल ऐप के साथ एक डिजिटल प्लेटफॉर्म विकसित किया जा रहा है। यह आईटी प्लेटफॉर्म वेंडर्स को औपचारिक वित्तीय प्रणाली में समाहित करने में भी मदद करेगा। यह योजना सड़क पर माल बेचने वालों को मासिक नकद वापसी के जरिये डिजिटल लेनदेन को प्रोत्साहित करेगी। आवास और शहरी मामलों का मंत्रालय क्षमता निर्माण के लिए वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम का जून में पूरे देश में शुभारंभ करेगा। जुलाई के महीने में ऋण दिया जाना शुरू हो जाएगा।

MSME और किसानों को राहत देने के लिए मोदी सरकार की कैबिनेट बैठक में लिए गए ये बड़े अहम फैसले