BREAKING NEWS

PM मोदी ने जगन्नाथ के साथ भारतीय सहयोग से मॉरीशस में बनी सामाजिक आवास परियोजना का किया उद्घाटन ◾गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾

मुस्लिम महिलाओं ने PM मोदी को भेजी राखी, मौलाना हुए खफा

तीन तलाक के खिलाफ कानून बनने से उत्साहित वाराणसी की मुस्लिम महिलाओं ने क्षेत्रीय सांसद व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने हाथ से राखी बनाकर भेजी है। इस नेक काम को कुछ मुस्लिम मौलानाओं ने सराहा तो कुछ ने इसे 'सस्ते प्रचार का तरीका' बताया है। 

राखी बनाने वाली मुस्लिम महिलाओं का कहना है कि जिस तरह प्रधानमंत्री मोदी ने तीन तलाक जैसी कुप्रथा को खत्म करवाया, वह केवल एक भाई ही कर सकता है। अपने भाई के लिए हम बहनें अपने हाथों राखी बनाकर भेज रही हैं। राखी के ऊपर मोदी की फोटो लगाई गई है। 

उन्होंने कहा, "मोदीजी ने हमारी दयनीय हालत को खत्म किया है। आने वाली महिलाएं भी तीन तलाक से बच सकती हैं। इसी कारण हम लोगों ने यह पवित्र बंधन राखी भेजी।" राखी बनाने वाली रामापुरा की हुमा बानो का कहना है, "मोदी ने तीन तलाक जैसी कुरीति को खत्म करवाया। नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री और वाराणसी के सांसद होने के साथ ही साथ देश की सभी मुस्लिम महिलाओं के बड़े भाई हैं। अपने भाई के लिए हम बहनों ने राखी तैयार की है।"

उन्होंने कहा कि जैसा अभी तक अच्छा काम हुआ है, वैसे आगे भी होता रहेगा। तीन तलाक को लेकर खौफ के सवाल पर उन्होंने कहा, "हमारे मन से तीन तलाक का खौफ कम हो गया है। आने वाले समय में सारा डर भी खत्म हो जाएगा।"

समाजसेवी हुमा बानो ने कहा, "राखी पाक रिश्ता बनाती है, चाहे हिंदू हो या मुस्लिम हो। भाई-बहन का नायाब रिश्ता होता है। मोदी ने हम लोगों के दर्द को समझा है। तीन तलाक से मुक्ति दिलाई है। पूरे देश की मुस्लिम महिलाओं को उन्हें राखी भेजनी चाहिए। मौलाना इससे बेवजह नाराज हो रहे हैं। यह एक प्रेम बंधन है। यह बहुत पाक बंधन है। बुरे वक्त में मोदी जी ने हमारा साथ दिया है। इससे बड़ा उपहार हमारे लिए क्या हो सकता है।" 

बानो ने आगे कहा, "प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर वहां भी बहुत सारे बंधनों से लोगों को मुक्त कराया है। मैं देश को यह संदेश देना चाहती हूं कि राखी एक पवित्र रिश्ता है। इस बंधन को निभाना है, चाहे वह कश्मीर की बेटी हो या कहीं और की। प्रधानमंत्री मोदी ने हमारी रक्षा के लिए इतना कुछ किया है, हम मुस्लिम बहनें भी उनकी व देश की रक्षा के लिए जो हो सकेगा, करेंगी।" 

तीन तलाक पर समाज में जब भी चर्चा हुई, कोई न कोई विवाद जरूर सामने आया। एक पक्ष हमेशा ही इसका समर्थन करता रहा तो दूसरा पक्ष इसे लेकर अपना विरोध दर्ज कराता रहा है। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के प्रदेश अध्यक्ष मतीन खान ने कहा, "आरएसएस का अनुषांगिक संगठन मुस्लिम मंच इस तरह की हरकतें करवा रहा है। वे नकाब और टोपी पहनकर इस तरह की हरकतें करते हैं, जिससे मुस्लिमों में आपस में बगावत हो। इसमें किराये पर लाए गए मुस्लिम भी होते हैं। ये बिकाऊ माल सत्ताधारी लोगों के दबाव में ऐसा काम कर रहे हैं।" 

उन्होंने कहा कि कुछ लोग प्रधानमंत्री को खत भेजेंगे, फिर उसका प्रचार करेंगे। इस तरह की हरकत ये सिर्फ सत्ता के प्रचार के लिए करते हैं। उनमें से राखी भिजवाना भी एक कड़ी है। दूसरी तरफ ऑल इंडिया महिला मुस्लिम लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अंबर ने कहा, "राखी भेजने में किसी को क्या दिक्कत होगी। तीन तलाक जैसी कुप्रथा के बारे में लोगों को जागरूक करने की जरूरत है।"

उन्होंने कहा, "सबका अपना-अपना नजारिया है। सबको अपनी-अपनी आजादी का इस्तेमाल करने का हक है। हमारे मुल्क में ये सब चीजें होनी जरूरी हैं। इससे सांझी संस्कृति को बढ़ावा मिलता है। यह हमारी संस्कृति का हिस्सा है। यह एक अच्छा कदम है।"

शैखू आलम साबरिया चिश्चितिया मदरसा के मौलाना इस्तिफाक कादरी ने कहा कि हिंदुस्तान बहुत बड़ा देश है। तीन तलाक नहीं होना चाहिए। इसका लोग बेजा इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन राखी भेजने का तरीखा सिर्फ दिखावा है। यह सियासत के लिए किया जा रहा है। ऐसा लोग सिर्फ अपने प्रचार के लिए करवाते हैं। मुस्लिम महिलाओं के सामने और भी बहुत सारे मसले हैं, हुकूमत को उन पर भी ध्यान देना चाहिए।