BREAKING NEWS

नए कोविड दिशा-निर्देश: सभी जरूरी इंतजाम समय पर किए जाएंगे: दिल्ली हवाई अड्डा◾भारत में‘ओमीक्रोन’ का एक भी मामला नहीं, दक्षिण अफ्रीका से आये एक व्यक्ति में डेल्टा से अलग वायरस प्रतीत ◾किसानों को फसल बुवाई के लिए पर्याप्त बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए : मुख्यमंत्री ◾केजरीवाल जी दिल्लीवासियों तक आयुष्मान भारत योजना नहीं पहुंचने दे रहे हैंः BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा◾1 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों की बैठक, क्या आंदोलन खत्म करने पर होगी चर्चा ?◾कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए◾जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾

मातृभाषा संरक्षण को लेकर नायडू ने किया न्यायपालिका का आह्वान, CJI रमना के हालिया फैसले का किया उल्लेख

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने न्यायपालिका से जनता द्वारा मातृभाषा या क्षेत्रीय भाषा में बोलना सुलभ बनाने की आवश्यकता को लेकर आह्वान किया है। भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एन. वी. रमना की हालिया पहल के साथ, एक महिला को अदालत में तेलुगु में बोलने की अनुमति देने का उल्लेख करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि इस घटना ने लोगों को अपनी समस्याओं को अपनी मातृभाषा में व्यक्त करने और क्षेत्रीय भाषाओं में निर्णय देने की अनुमति देने के लिए न्यायपालिका की आवश्यकता को रेखांकित किया है।

शनिवार को मातृभाषाओं के संरक्षण पर तेलुगु कूटमी द्वारा आयोजित एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंस (आभासी सम्मेलन) को संबोधित करते हुए, नायडू ने आगाह किया कि मातृभाषा के नुकसान से अंतत: आत्म-पहचान और आत्म-सम्मान का नुकसान होता है। उन्होंने कहा कि हमारी विरासत के विभिन्न पहलुओं - संगीत, नृत्य, नाटक, रीति-रिवाजों, त्योहारों, पारंपरिक ज्ञान - को सरंक्षित करना केवल अपनी मातृभाषा को संरक्षित करके ही संभव होगा।

नायडू ने भारतीय भाषाओं के संरक्षण और कायाकल्प के लिए अभिनव और सहयोगात्मक प्रयासों का आह्वान किया। इस बात पर जोर देते हुए कि भाषाओं को संरक्षित करना और उनकी निरंतरता सुनिश्चित करना केवल जन आंदोलन के माध्यम से ही संभव है, उन्होंने कहा कि हमारी भाषा की विरासत को हमारी भावी पीढ़ियों तक पहुंचाने के प्रयासों में लोगों को एक स्वर में एक साथ आना चाहिए।

मातृभाषा के संरक्षण में दुनिया में विभिन्न सर्वोत्तम प्रथाओं का उल्लेख करते हुए, उपराष्ट्रपति ने भाषा के प्रति उत्साही, भाषाविदों, शिक्षकों, अभिभावकों और मीडिया से ऐसे देशों से अंतर्दृष्टि लेने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि फ्रांस, जर्मनी और जापान जैसे देशों ने इंजीनियरिंग, चिकित्सा और कानून जैसे विभिन्न उन्नत विषयों में अपनी मातृभाषा का उपयोग करते हुए, हर क्षेत्र में अंग्रेजी बोलने वाले देशों की तुलना में खुद को मजबूत साबित किया है। उन्होंने व्यापक पहुंच को सुविधाजनक बनाने के लिए भारतीय भाषाओं में वैज्ञानिक और तकनीकी शब्दावली में सुधार करने का भी सुझाव दिया।

भारतीय भाषाओं को संरक्षित करने के लिए आवश्यक विभिन्न लोगों द्वारा संचालित पहलों को छूते हुए, उपराष्ट्रपति ने एक भाषा को समृद्ध बनाने में अनुवाद की महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डाला। उन्होंने भारतीय भाषाओं में अनुवादों की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार के लिए प्रयास बढ़ाने का आह्वान किया। उन्होंने प्लेन (सीधा एवं स्पष्ट), बोली जाने वाली भाषाओं में प्राचीन साहित्य को युवाओं के लिए अधिक सुलभ और संबंधित बनाने का भी प्रस्ताव रखा।