BREAKING NEWS

महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾

राष्ट्रीय खेल दिवस पर नायडू बोले- शिक्षण संस्थाओं में खेल कूद को बढ़ावा देने के लिए बनाएं आवश्यक परिवेश

उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने रविवार को यानी आज शिक्षण संस्थाओं और विश्वविद्यालयों में खेल कूद को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक परिवेश बनाने और हर स्तर पर खेलों के लिए जरूरी ढांचा मुहैया कराने की बात कही। उन्होंने कहा कि खेल के क्षेत्र में भी भारत को एक शक्ति के रूप में स्थापित करने के लिए प्रयास करना चाहिए। 

राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर उप राष्ट्रपति ने फेसबुक पोस्ट में कहा कि इस साल खेल दिवस दो कारणों से विशेष उल्लेखनीय है : पहला, तोक्यो ओलंपिक खेलों में भारत ने अब तक के सर्वाधिक पदक जीते हैं, और दूसरा, खेल के क्षेत्र में देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठित सम्मान खेल रत्न पुरस्कार का नामकरण, हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम पर किया गया है।

उन्होंने लिखा, ‘‘ भारत में खेलों के इतिहास में ये दोनों ही घटनाएं मील का पत्थर हैं। तोक्यो ओलंपिक में हमारे खिलाड़ियों ने इतिहास रचा है, करोड़ों भारतीयों की आशाओं को पंख और परवाज़ दी है। देश के सर्वोच्च खेल सम्मान को ध्यान चंद जी के नाम से जोड़ा जाना, खेलों के इतिहास की इस विलक्षण प्रतिभा के प्रति हमारा सम्मान है और उस पुरस्कार की प्रतिष्ठा को और भी बढ़ाता है। आज मेजर ध्यानचंद जी की जयंती पर हॉकी के इस जादूगर की स्मृति को विनम्र नमन करता हूं। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘ओलंपिक में भारतीय दल के प्रदर्शन ने विभिन्न खेलों में लोगों की रुचि को फिर से जगा दिया है, विशेषकर युवाओं में। खेल के क्षेत्र में भारत के लिए यह शुभ लक्षण है। कहने की जरूरत नहीं कि देश भर में खेलों को बढ़ावा देने के लिए इससे बेहतर अवसर क्या होगा।’’ नायडू ने लिखा, ‘‘हमें शिक्षण संस्थाओं और विश्विद्यालयों में खेल कूद को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक परिवेश बनाना चाहिए और हर स्तर पर खेलों के लिए जरूरी ढांचा मुहैया कराना चाहिए।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह तो भारत का सौभाग्य है कि हमारे पास विश्व की सबसे बड़ी युवा आबादी है, प्रतिभाशाली खिलाड़ी है जो कुछ कर दिखाने का जज़्बा रखते हैं। इसलिए कोई कारण नहीं कि हम विश्व स्तर पर खेल के क्षेत्र में अपनी छाप न छोड़ सकें। लेकिन जैसा कि मैंने पहले ही कहा कि खेलों का क्षेत्र प्रतिस्पर्धा का क्षेत्र है, इसमें लगातार संतोषजनक प्रदर्शन बनाए रखने के लिए स्कूली स्तर से ही एक गंभीर खेल संस्कृति का निर्माण किया जाना जरूरी है।’’

उन्होंने इस पोस्ट में कहा, ‘‘जैसे कि मीडिया रिपोर्टों से ज़ाहिर है कि हाल के समय में हमारे कितने ही पदक विजेता, समाज के दुर्बल तबके से आते हैं। उनकी उपलब्धियां उनकी लगन, उनके साहस, उनके दृढ़संकल्प की कहानी बयां करती हैं। मेरा हमेशा से मानना रहा है कि भारत में किसी भी क्षेत्र में प्रतिभा की कोई कमी नहीं हैं। जरूरी है इस प्रतिभा को शुरू से ही खोज कर पहचाना जाए और उसे सही तरीके से प्रोत्साहित और प्रशिक्षित किया जाये।’’