BREAKING NEWS

अयोध्या के विवादित ढांचा को ढहाए जाने के मामले में कल्याण सिह को समन जारी◾‘Howdy Modi’ के लिए ह्यूस्टन तैयार, 50 हजार टिकट बिके ◾‘Howdy Modi’ कार्यक्रम के लिए PM मोदी पहुंचे ह्यूस्टन◾प्रधानमंत्री का ह्यूस्टन दौरा : भारत, अमेरिका ऊर्जा सहयोग बढ़ाएंगे ◾क्या किसी प्रधानमंत्री को ऐसे बोलना चाहिए : पाक को लेकर मोदी के बयान पर पवार ने पूछा◾कश्मीर पर भारत की निंदा करने के लिये पाकिस्तान सबसे ‘अयोग्य’ : थरूर◾राजीव कुमार की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज ◾AAP ने अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने में देरी पर ‘धोखा दिवस’ मनाया ◾ शिवसेना, भाजपा को महाराष्ट्र चुनावों में 220 से ज्यादा सीटें जीतने का भरोसा◾आधारहीन है रिहाई के लिए मीरवाइज द्वारा बॉन्ड पर दस्तखत करने की रिपोर्ट : हुर्रियत ◾TOP 20 NEWS 21 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामदास अठावले ने किया दावा - गठबंधन महाराष्ट्र में 240-250 सीटें जीतेगा ◾कृषि मंत्रालय से मिले आश्वासन के बाद किसानों ने खत्म किया आंदोलन ◾फडणवीस बोले- भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव, मैं दोबारा मुख्यमंत्री बनूंगा◾चुनावों में जनता के मुद्दे उठाएंगे, लोग भाजपा को सत्ता से बाहर करने को तैयार : कांग्रेस◾चुनाव आयोग का ऐलान, महाराष्ट्र-हरियाणा के साथ इन राज्यों की 64 सीटों पर भी होंगे उपचुनाव◾महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे◾ISRO प्रमुख सिवन ने कहा - चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्छे से कर रहा है काम◾विमान में तकनीकी खामी के चलते जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में रुके PM मोदी, राजदूत मुक्ता तोमर ने की अगवानी◾जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन◾

देश

Chandrayaan 2 : विक्रम लैंडर खोजने के लिए ISRO के साथ NASA भी कर रहा प्रयास

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अपने डीप स्पेस नेटवर्क (डीएसएन) के साथ भारत के चंद्रमा लैंडर तक सिग्नल भेजने व संचार स्थापित करने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। विक्रम लैंडर से संपर्क करने के लिए अब नासा भी इसरो की मदद कर रही है। 

इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (जेपीएल) विक्रम को रेडियो सिग्नल भेज रही है। 

इसरो के एक अधिकारी ने बताया, 'चंद्रमा के विक्रम के साथ संचार लिंक फिर से स्थापित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। यह प्रयास 20-21 सितंबर तक किए जाएंगे, जब सूरज की रोशनी उस क्षेत्र में होगी, जहां विक्रम उतरा है।' 

इसरो बेंगलुरु के पास बयालालू में अपने भारतीय डीप स्पेस नेटवर्क (आईडीएसएन) के जरिए विक्रम के साथ संचार स्थापित करने की कोशिश कर रहा है। 

खगोलविद स्कॉट टायली ने भी ट्वीट कर विक्रम लैंडर से संपर्क स्थापित होने की प्रबल संभावना जताई है। टायली ने 2018 में अमेरिका के मौसम उपग्रह (वैदर सैटेलाइट) को ढूंढ निकाला था। यह इमेज सैटेलाइट नासा द्वारा 2000 में लॉन्च की गई थी, जिसके पांच साल बाद इससे संपर्क टूट गया था। 

नासा व कैलटेक के अधिकारियों ने इसरो का किया दौरा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (कैलटेक) और नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) के जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (जेपीएल) के अधिकारियों ने गुरुवार को उनके मुख्यालय का दौरा किया। इस दौरान इन अधिकारियों ने इसरो के चेयरमैन के. सिवन से मुलाकात की। 

इसरो ने एक बयान में कहा, 'अमेरिका के कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के पदाधिकारी प्रोफेसर डेविड टेरेल ने इसरो मुख्यालय, बेंगलोर का दौरा किया और 11 सितंबर, 2019 को इसरो के चेयरमैन व डिपार्टमेंट ऑफ स्पेस (डीओएस) के सचिव के. सिवन से मुलाकात की।'

 

इसरो ने कहा कि इस दौरान टेरेल के साथ जेपीएल के उप-निदेशक जनरल लैरी जेम्स और कैलटेक के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। इसरो ने हालांकि बैठक के उद्देश्यों पर कोई बयान नहीं दिया। 

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी कैलटेक के सहयोग से भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएसटी) द्वारा निर्मित एक उपग्रह लॉन्च करेगी। 

सिवन ने इस साल की शुरुआत में आईएएनएस को बताया था, 'आईआईएसटी कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान के साथ एक उपग्रह डिजाइन कर रहा है।' 

आईआईएसटी डीओएस के तहत काम करने वाला एक स्वायत्त निकाय है। यह 2007 में स्थापित एक डीम्ड विश्वविद्यालय भी है। 

कैलटेक के अनुसार, छात्र द्वारा डिजाइन व निर्मित किए गए उपग्रह का एक नए प्रकार के स्पेस टेलीस्कोप के लिए परीक्षण होगा। इसे ऑटोनोमस असेंबली ऑफ ए रिकंफिरेबल स्पेस टेलिस्कोप (एएआरईएसटी) नाम दिया गया है। 

एएआरईएसटी कैलटेक के छात्रों द्वारा डिजाइन व निर्मित किया गया है।