BREAKING NEWS

यूपी : योगी सरकार ने पुलिस विभाग में किया बड़ा फेरबदल, 11 IPS अधिकारियों के किए तबादले, देखें सभी की लिस्ट ◾J&K News: जम्मू कश्मीर के कठुआ में सुरक्षाबलों ने पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया गया◾'मन की बात' में बोले मोदी- देश में 'यूनिकॉर्न' कंपनियों की संख्या हुई 100, महामारी में भी बढ़ा स्टार्टअप और धन ◾नेपाल : 22 लोगों को लेकर जा रहा तारा एयरलाइन्स का विमान लापता, 4 भारतीय भी थे सवार, तलाश जारी ◾दिल्ली : साकेत कोर्ट के जज की पत्नी ने की आत्महत्या, कल से थी लापता, जांच में जुटी पुलिस ◾दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना की फोटो का इस्तेमाल कर युवक को दी धमकी, स्पेशल सेल कर रही जांच ◾यूपी : कर्नाटक से अयोध्या जा रहे श्रद्धालुओं के वाहन की ट्रक से टक्कर, 6 की मौत, 10 घायल ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,828 नए केस, उपचाराधीन मामलों की संख्या हुई 17 हजार 87 ◾इंडोनेशिया : इंजन फेल होने से मकासर जलडमरूमध्य में डूबा जहाज, 25 लोग लापता, तलाश जारी ◾भारत के टीकाकरण अभियान की बिल गेट्स ने की तारीफ, दुनिया को सीख लेने की दी नसीहत ◾राज्यसभा को लेकर झारखंड के CM हेमंत सोरेन ने की सोनिया गांधी से की मुलाकात, मिल सकती है एक सीट ? ◾लिपुलेख, कालापानी को लेकर नेपाल ने फिर दोहराया बयान, PM देउबा बोले- जमीन वापस लेने के लिए है प्रतिबद्ध ◾आज का राशिफल ( 29 मई 2022)◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल पानी के मुद्दों पर वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत आएगा◾वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु में करुणानिधि की 16 फुट ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण ◾ योगी सरकार का कामकाजी महिलाओं के लिए बड़ा फैसला, जानें ऑफिस टाइमिंग को लेकर क्या दिया आदेश ◾ J&K : अनंतनाग इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्द हुए ढेर ◾ Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾

कृषि कानून को लेकर किसानों का आंदोलन जारी, प्रदर्शन के नौ महीने पूरे होने पर बॉर्डर पर आज से राष्ट्रीय सम्मेलन

केन्द्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के प्रदर्शन के नौ महीने पूरे होने के अवसर पर किसान गुरुवार से सिंघू बॉर्डर पर एक राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन करेंगे। इस दो दिवसीय सम्मेलन में किसानों, महिलाओं, युवाओं और मजदूरों के संगठनों के 1,500 प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। इस सम्मेलन का लक्ष्य केन्द्र के कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन को ‘‘गति और विस्तार’’ प्रदान करना है।

सम्मेलन में बृहस्पतिवार को तीन सत्र आयोजित होंगे, जिसमें उद्घाटन सत्र सहित औद्योगिक श्रमिकों, कृषि श्रमिक, ग्रामीण, गरीब एवं आदिवासी लोगों पर एक-एक सत्र आयोजित किया जाएगा। सम्मेलन में ‘‘ सभी तीन कॉर्पोरेट समर्थक कृषि कानूनों को निरस्त करना, सभी फसलों के एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) के लिए कानूनी गारंटी, बिजली विधेयक 2021 को निरस्त करना और एनसीआर एवं आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग विधेयक 2021 के तहत किसानों पर कोई मुकदमा ना चलाया जाए’’ के सबंध में चर्चा होने की उम्मीद है।

गौरतलब है कि किसान पिछले साल नवम्बर से दिल्ली से लगी सीमाओं पर केन्द्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने बार-बार कानूनों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को खत्म करने और उन्हें बड़े कॉर्पोरेट की दया का मोहताज बनाने का भय व्यक्त किया है। सरकार और किसानों के बीच इस संबंध में 10 दौर की बातचीत हुई, लेकिन दोनों पक्षों के बीच गतिरोध अब भी कायम है।

भारतीय किसान संघ (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘ काफी दुखद है कि नौ महीने हो गए हैं और सरकार बातचीत को अब भी तैयार नहीं है। लेकिन हमें हताश नहीं होना चाहिए। इस सम्मेलन के दौरान हम दिखाएंगे कि नौ महीने में हमने क्या खोया है और क्या पाया है।’’

अफगानिस्तान की स्थिति पर केंद्र की सर्वदलीय बैठक, जयशंकर बोले- हालात ठीक नहीं, ‘वेट एंड वॉच’ मोड में भारत