BREAKING NEWS

भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾CWC की बैठक खत्म, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर शाम 4 बजे होगा फैसला◾कांग्रेस का महाराष्ट्र पर मंथन, संजय निरुपम ने जल्द चुनाव की जताई आशंका◾महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-NCP ने नहीं खोले पत्ते, प्रफुल्ल पटेल ने दिया ये बयान◾BJP अगर वादा पूरा करने को तैयार नहीं, तो गठबंधन में बने रहने का कोई मतलब नहीं : संजय राउत◾महाराष्ट्र सरकार गठन: NCP ने बुलाई कोर कमेटी की बैठक, शरद पवार ने अरविंद के इस्तीफे पर दिया ये बयान ◾संजय राउत का ट्वीट- रास्ते की परवाह करूँगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी◾शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने मंत्री पद से इस्तीफे की घोषणा की◾BJP द्वारा सरकार बनाने से इंकार किए जाने के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में उभर रहे नए राजनीतिक समीकरण◾

देश

वैश्विक आर्थिक जोखिमों के कारण बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की जरूरत : सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि है मौजूदा वैश्विक आर्थिक जोखिमों और असंतुलन से निपटने में सरकारों की अपनी अपनी पहलों के अलावा बहुपक्षीय स्तर पर सहयोग की आवश्यकता बढ़ गयी है। वित्त मंत्री ने आईएमएफ और विश्वबैंक की वार्षिक बैठक 2019 में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा एवं वित्तीय समिति (आईएमएफसी) के पूर्ण अधिवेशन में यह बात कही। 

वित्त मंत्रालय के बयान के मुताबिक , सीतारमण ने कहा कि देश अपने स्तर पर नपे-तुले और संतुलित राजकोषीय तथा मौद्रिक उपायों और बुनियादी सुधारों को लागू करें तो उन्हें अपनी संभावनाओं के अनुरूप आर्थिक वृद्धि हासिल करने में मदद मिल सकती है। 

सीतारमण ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष को आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण देशों से जुड़ी विशिष्ट समस्याओं से निपटने में मदद करने के लिए अलग - अलग समाधान पेश करने चाहिए। 

वित्त मंत्री ने कहा कि आईएमएफ को ऐसी नीतिगत व्यवस्था विकसित करनी चाहिए जिसके तहत वैश्विक पूंजी के प्रवाह के बदलावों से अर्थव्यवस्थाओं के लिए खतरों का आकलन हो और कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की रक्षा के लिए मजबूत निगरानी तंत्र तथा और अधिक तेज नीतिगत औजार विकसित किए जाएं। 

मुद्राकोष में मताधिकार कोटा की सामान्य समीक्षा के 15 वें दौर की वार्ता भारत जैसे देशों के कोटे में वृद्धि के बिना ही खत्म होने के संबंध में उन्होंने कहा कि 16 वें दौर की समीक्षा वार्ता पूरी गंभीरता से शुरू किया जाना चाहिए और इसे पूरा करने को एक समय सीमा तय की जानी चाहिए।