BREAKING NEWS

चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर ◾झारखंड में रघुबर दास नहीं, मोदी-शाह करेंगे चुनाव प्रचार का नेतृत्व ◾भारत ने अयोध्या, कश्मीर पर पाकिस्तानी दुष्प्रचार का दिया करारा जवाब◾शी चिनफिंग और मोदी के बीच वार्ता ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट ◾गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾झारखंड : भाजपा ने 15 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की ◾JNU में विवेकानंद की प्रतिमा के चबूतरे पर आपत्तिजनक संदेश◾राफेल की कीमत, ऑफसेट के भागीदारों के मुद्दों पर सरकार के निर्णय को न्यायालय ने सही करार दिया : सीतारमण ◾झारखंड चुनाव के पहले चरण के लिए कांग्रेस के 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी ◾आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾महाराष्ट्र गतिरोध : कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना में बातचीत, सोनिया से मिल सकते हैं पवार ◾मोदी..शी की ब्राजील में बैठक के बाद भारत, चीन अगले दौर की सीमा वार्ता करने पर हुए सहमत ◾कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान ने भारत से किसी भी समझौते से किया इनकार ◾राफेल के फैसले से JPC की जांच का रास्ता खुला : राहुल गांधी ◾राफेल पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद देवेंद्र फड़णवीस बोले- राहुल गांधी को अब माफी मांगनी चाहिए ◾नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा- शुद्ध हवा सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री को ठोस कदम उठाने चाहिए◾TOP 20 NEWS 14 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾RSS-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए : दिग्विजय सिंह ◾महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर CM ममता ने राज्यपाल कोश्यारी पर साधा निशाना ◾

देश

भारतीय राजनीति पर मोदी के प्रभाव पर नई किताब, जल्द होगी प्रकाशित

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजनीति पर प्रभाव और भविष्य पर इसके असर का आकलन एक नई किताब में किया गया है और इस किताब का एक दिलचस्प पहलू यह है कि इसमें एक पूरा अध्याय कांग्रेस नेता शशि थरूर के बारे में है। भाजपा की केंद्रीय समिति के सदस्य और आरएसएस से जुडी अंग्रेजी पत्रिका ऑर्गेनाइजर के पूर्व संपादक आर बालाशंकर ने अपनी इस जल्द प्रकाशित होने वाली किताब ‘‘नरेंद्र मोदी: क्रिएटिव डिसरप्टर, द मेकर ऑफ न्यू इंडिया’’ में दावा किया है कि प्रधानमंत्री सादा जीवन जीते हैं और वह देश एवं लोगों के लिए समर्पित हैं।

किताब की खास बात यह भी है कि इसका एक पूरा चैप्टर कांग्रेस नेता शशि थरूर पर लिखा गया है। बालाशंकर का कहना है कि उन्होंने ‘‘थरूर का मोदी के प्रति जुनून ’’नाम का अध्याय थरूर की ‘‘दि पैराडोक्सिकल प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी एंड हिज इंडिया ’’ नाम की किताब पढ़ने के बाद लिखना तय किया। इस अध्याय में दावा किया गया है कि इस कांग्रेस नेता में मोदी के प्रति ‘‘आकर्षण और एक छिपी हुई प्रशंसा’’ है। इस पर प्रतिक्रिया करते हुये थरूर ने पीटीआई-भाषा से कहा कि उन्होंने अभी ये किताब पढ़ी नहीं है। कोणार्क से प्रकाशित होने वाली इस किताब का प्राक्कथन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने लिखा है।

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने PM मोदी पर लिखी किताब, लोगों ने एक शब्द को लेकर उड़ाया मज़ाक

कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने एक किताब लिखी है जिसका नाम “THE PARADOXICAL PRIME MINISTER” है। जिसके बाद से ट्विटर पर इस किताब को लेकर यूजर में चर्चा होना शुरू हो गई। दरअसल, चर्चा का विषय किताब नहीं बल्कि इस किताब में इस्तेमाल हुआ एक शब्द है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने अपनी किताब में ‘floccinaucinihilipilification’ शब्द का इस्तेमाल किया। जिसके बाद शब्द का मतलब जाने के लिए लोगों को गूगल ट्रांसलेटर और डिक्शनरी का सहारा लेना पड़ा।

हैरानी की बात तो ये है की इस शब्द का मतलब ढूंढ़ने में गूगल हिंदी ट्रांसलेटर भी असफल रहा। दरअसल कांग्रेस नेता शशि थरूर ने किताब के बारे में बताते हुए जिस शब्द का इस्तेमाल किया उसका मतलब बेहद कम लोग ही समझ पाए। शशि थरूर ने ‘floccinaucinihilipilification’ शब्द का इस्तेमाल किया। उनके ट्वीट के बाद यूज़र्स अपने अपने हिसाब से शब्द की व्याख्या करने लगे। कुछ लोगों ने शशि थरूर के इंग्लिश ज्ञान का जमकर मज़ाक भी उड़ाया।

आपको बता दें कि कांग्रेस नेता शशि थरूर ने ‘floccinaucinihilipilification’ शब्द का अपने ट्वीट में प्रयोग किया है ये एक लैटिन शब्द है। इसका मतलब होता है ‘किसी भी बात पर आलोचना करने की आदत, चाहे वो गलत हो या सही’। इस शब्द की सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने अपनी किताब के बारे में ट्विटर पर लिखा कि मेरी नई किताब ‘द पैराडॉक्सिकल प्राइम मिनिस्टर’ सिर्फ किसी भी बात को बेकार बताने की आदत वाली 400 पन्नों की किताब नहीं है बल्कि उससे कहीं ज्यादा है।