BREAKING NEWS

दुनियाभर में कोरोना मामलों का आंकड़ा 23.2 करोड़ के पार, संक्रमण से 47.5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली उच्च न्यायालय ने कालकाजी मंदिर से अतिक्रमण व अनधिकृत कब्जा हटाने का आदेश दिया◾योगी सरकार के नए मंत्रियों के विभागों का हुआ बंटवारा, जितिन को मिली प्राविधिक शिक्षा की जिम्मेदारी◾उत्तर प्रदेश : मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग◾DRDO को मिली सफलता ‘आकाश प्राइम’ मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾BSP के राष्ट्रीय महासचिव कुशवाहा ने की अखिलेश से मुलाकात, UP चुनाव से पहले थाम सकते है SP का दामन◾UNGA की आम चर्चा को संबोधित नहीं करेंगे अफगानिस्तान और म्यामां: संयुक्त राष्ट्र ◾वित्तीय संकट के चलते अभिभावकों का CBSE को लिखा पत्र, तीन लाख छात्रों की फीस माफ करने की मांग ◾भवानीपुर में दिलीप घोष से धक्का-मुक्की पर चुनाव आयोग सख्त, ममता सरकार से रिपोर्ट मांगी ◾भारत बंद के आह्वान को अभूतपूर्व और ऐतिहासिक प्रतिक्रिया मिली : संयुक्त किसान मोर्चा ◾गरीबों को किराया देने की घोषणा पर केजरीवाल सरकार का यू-टर्न, HC में कहा - वादा नहीं किया था ◾खत्म हुआ किसानों का भारत बंद, 10 घंटे बाद खुले दिल्ली-एनसीआर के सभी बॉर्डर ◾महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : 7 दिन की सीबीआई रिमांड में भेजे गए आनंद गिरी व दो अन्य ◾महिलाओं के बाद अब पुरुषों के लिए तालिबान का फरमान- दाढ़ी बनाना और ट्रिम करना गुनाह, लगाई रोक ◾नए संसद भवन का दौरा करने पर कांग्रेस ने मोदी को घेरा, कहा- काश! PM कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी अस्पताल जाते ◾भवानीपुर उपचुनाव प्रचार के आखिरी दिन लहराईं बंदूकें, BJP का आरोप- TMC ने दिलीप घोष पर किया हमला ◾किसानों के 'भारत बंद' को लेकर देश में दिखी मिलीजुली प्रतिक्रिया, जानिए किन हिस्सों में जनजीवन हुआ बाधित ◾CM बिप्लब देब का विवादित बयान, बोले- अदालत की अवमानना से न डरें अधिकारी, पुलिस मेरे नियंत्रण में है◾पाकिस्तान: ग्वादर में जिन्ना की प्रतिमा को बम से उड़ाया, बलोच ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾भारत बंद के दौरान सिंघू बॉर्डर पर किसान की हुई मौत, पुलिस ने हार्ट अटैक को बताई वजह ◾

सरकार की योजना से कोई एतराज नहीं, पर NFSA के लाभार्थियों को पहले से तय दाम पर ही मिले राशन : केंद्र

देश की राजधानी दिल्ली में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के लाभार्थियों को घर-घर राशन पहुंचाने की योजना पर मचे घमासान के बीच केंद्र सरकार ने एक बार फिर स्पष्ट किया कि है कि उसे राज्य सरकार की योजना से कोई एतराज नहीं है बशर्ते राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून (एनएफएसए) के तहत निर्धारित मूल्य पर ही लाभार्थियों को राशन मिलना चाहिए। 

केंद्रीय खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के सचिव सुधांशु पांडेय ने सोमवार को यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, "केंद्र सरकार राज्यों द्वारा लागू की जाने वाली किसी योजना के खिलाफ नहीं है, लेकिन एनएफएसए के लाभार्थियों को केंद्र द्वारा तय मूल्य पर ही अनाज मिलना चाहिए।"

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम ( एनएफएसए) के तहत पीडीएस के लाभार्थियों को काफी सस्ते दाम पर पांच किलो अनाज हर महीने प्रत्येक राशन कार्डधारक को मुहैया करवाया जाता है, जिसमें चावल महज तीन रुपये प्रति किलो और गेहूं दो रुपये प्रति किलो की दर पर दिया जाता है। 

मगर, दिल्ली सरकार पीडीएस के तहत संचालित उचित मूल्य की दुकानों से राशन वितरण के बजाय लाभार्थियों को घर-घर राशन पहुंचाने की योजना लागू करने जा रही है, जिसके तहत साबूत गेहूं की जगह गेहूं का आटा और चावल का पैकेट लाभार्थियों को दिया जाएगा। 

ऐसे में घर-घर राशन की इस योजना पर होने वाले अतिरिक्त खर्च को लेकर सवाल है कि क्या लाभार्थियों को केंद्र सरकार द्वारा तय मूल्य के अतिरिक्त दाम चुकाना पड़ेगा। केंद्रीय खाद्य सचिव ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि इस स्कीम के तहत राशन के दाम में जो वृद्धि होगी उसका वहन कौन करेगा। 

बता दें कि मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी योजना 'वन नेशन वन राशन कार्ड' (ओएनओआरसी) से देश के 32 राज्य जुड़ चुके हैं, लेकिन देश की राजधानी दिल्ली समेत चार राज्य अब तक इस योजना से नहीं जुड़ पाए हैं। दिल्ली में करीब 17 लाख पीडीएस लाभार्थी हैं। 

केंद्रीय खाद्य मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली और पश्चिम बंगाल में तैयारी पूरी कर ली गई है, जबकि असम और छत्तीसगढ़ में इस योजना पर काम काफी सुस्त रफ्तार से चल रही है क्योंकि अभी तक इन दोनों राज्यों में इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ सेल (ई-पीओएस) मशीन भी नहीं लग पाई है।