BREAKING NEWS

निर्भया मामला : दोषी विनय ने तिहाड़ जेल में दीवार पर सिर मारकर खुद को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की◾चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 2000 के पार◾मनमोहन ने की Modi सरकार की आलोचना, कहा - सरकार आर्थिक मंदी को स्वीकार नहीं कर रही है◾अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के मद्देनजर J&K में सुरक्षा बल सतर्क◾राम मंदिर का मॉडल वही रहेगा, थोड़ा बदलाव किया जाएगा : नृत्यगोपाल दास ◾मुंबई के कई बड़े होटलों को बम से उड़ाने की धमकी, ई-मेल भेजने वाला लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य◾‘हिंदू आतंकवाद’ की साजिश वाली बात को मारिया ने 12 साल तक क्यों नहीं किया सार्वजनिक - कांग्रेस◾सरकार को अयोध्या में मस्जिद के लिए ट्रस्ट और धन उपलब्ध कराना चाहिए - शरद पवार◾संसदीय क्षेत्र वाराणसी में फलों फूलों की प्रदर्शनी देख PM मोदी हुए अभिभूत, साझा की तस्वीरें !◾दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप, विश्व में अब तक 75,000 से अधिक लोग वायरस से संक्रमित◾आर्मी हेडक्वार्टर को साउथ ब्लॉक से दिल्ली कैंट ले जाया जाएगा : सूत्र◾INDO-US के बीच व्यापार समझौता ‘अटका’ नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप ने कहा - जल्दबाजी में यह नहीं किया जाना चाहिये◾कन्हैया ने BJP पर साधा निशाना , कहा - CAA से गरीबों एवं कमजोर वर्गों की नागरिकता खत्म करना चाहती है Modi सरकार◾महंत नृत्य गोपाल दास बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष , नृपेंद्र मिश्रा को निर्माण समिति की कमान◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सिद्धू के AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नवजोत सिद्धू AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले माह जाएंगे बांग्लादेश दौरे पर◾विनायक दामोदर सावरकर पर बड़े विमर्श की तैयारी, अमित शाह संभालेंगे कमान◾अगले 5 साल में खोले जाएंगे 10,000 नए एफपीओ, मंत्रिमंडल ने दी योजना को मंजूरी◾केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में 22वें विधि आयोग के गठन को मंजूरी दी◾

नितिन गडकरी का वैकल्पिक ईंधन से चलने वाले वाहनों के विनिर्माण में सरकारी मदद का आश्वासन

कच्चे तेल के आयात को देश के सामने ‘बड़ी आर्थिक चुनौती’ बताते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि वाहन कंपनियां वैकल्पिक ईंधन से चलने वाले वाहनों के विनिर्माण पर ध्यान लगाएं। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार इसमें उनकी मदद सुनिश्चित करेगी। 

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री गडकरी ने जैव-ईंधन की मांग को पूरा करने के लिए कृषि उपज के विविधीकरण की जरूरत पर भी बल दिया। वह यहां ‘न्यूजेन मोबिलिटी समिट-2019’ को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपको सरकार की ओर से भरोसा दिलाता हूं कि हम सब वाहन क्षेत्र के समर्थक हैं। 

झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने जारी किया संकल्पपत्र, किसान और रोजगार पर दिया ज्यादा जोर

आप सब भविष्य की नीतियों को लेकर बहुत आशंकित हैं लेकिन सरकार नए विकास (वैकल्पिक ईंधन से चलने वाले वाहन) के प्रोत्साहन और सहयोग में बहुत रुचि रखती है। आप पुराने विनिर्माण के साथ आगे बढ़ें लेकिन इसके साथ ही वैकल्पिक ईंधन को भी प्रोत्साहित करें।’’ 

उन्होंने कहा कि सरकार कच्चे तेल के आयात, प्रदूषण और लागत प्रभावी विकल्प अपनाने की नीति को लेकर चल रही है। प्रधानमंत्री ने मंत्रिमंडलीय सचिव और प्रधान सलाहकार को विशेष निर्देश दिया है कि वह कोयला गैसीकरण और उससे मेथनॉल बनाने की दिशा में काम करे। 

अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के व्यय में कोई बढ़ोतरी नही हुई : केंद्र सरकार

गडकरी ने कहा, ‘‘ हमारी अर्थव्यवस्था की दिक्कत यह है कि हमारा आयात हमारी पूंजी लागत का 20 प्रतिशत है। यह देश के सामने एक बड़ी आर्थिक चुनौती है। यह वह समय है जब हमें किसी समाधान को खोजना होगा।’’ उन्होंने कहा कि वाहन क्षेत्र उन क्षेत्रों में से है जो सरकार को अच्छा राजस्व देने के साथ ही अधिकतम मात्रा में रोजगार सृजित करता है।

गडकरी ने वादा किया कि वाहन क्षेत्र की समस्याओं का निराकरण कर लिया जाएगा। सरकार की मंशा उनके लिए बाधाएं खड़ी करने की नहीं है। टोयोटा और हुंदै जैसे ब्रांड का उदाहरण देते हुए गडकरी ने कहा कि जब ये कंपनियां विभिन्न ईंधन से चलने वाले इंजन को ब्राजील में विनिर्मित कर सकती हैं तो यह भारत में ऐसा क्यों नहीं करती, जहां ग्राहक विभिन्न वैकल्पिक ईंधन में से अपना चुनाव कर सके। 

महाराष्ट्र: देवेंद्र फडणवीस बोले- मैं सही समय पर सही बात कहूंगा, चिंता न करें

उन्होंने कहा कि भारत एक तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है और 2030 तक इसके तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की उम्मीद है। कच्चे तेल के आयात के अलावा देश के कृषि क्षेत्र के सामने भी बड़ी समस्याएं हैं। इसमें चीनी, चावल और गेहूं का अधिशेष उत्पादन प्रमुख हैं। इसलिए वैकल्पिक ईंधन और ऊर्जा की जरूरतों को पूरा करने के लिए कृषि और वन क्षेत्र का विविधीकरण करने पर ध्यान देने की जरूरत है। 

राजमार्ग क्षेत्र के बारे में उन्होंने कहा कि देश में सड़क निर्माण की गति 30 किलोमीटर प्रतिदिन पर पहुंच गयी है। सरकार 22 नए एक्सप्रेसवे बना रही है। इसमें 10,000 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाला द्वारका एक्सप्रेसवे है। गडकरी ने कहा, ‘‘ मेरठ एक्सप्रेसवे का निर्माण 9,000 करोड़ रुपये में हुआ है और यह मार्च से पहले पूरा हो जाएगा। 

मेरा मंत्रालय दिल्ली के आसपास के इलाकों में सड़क निर्माण पर 50,000 करोड़ रुपये की राशि खर्च कर रहा है।’’ इसके अलावा आदिवासी इलाकों से गुजरने वाले दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के लिए एक लाख करोड़ रुपये मूल्य में 60 प्रतिशत ठेके दिए जा चुके हैं। यह एकदम नया रास्ता होगा जो देश की वृद्धि का इंजन बनेगा। पुराने वाहनों को कबाड़ में भेजे जाने की नीति के बारे में गडकरी ने कहा कि यह अपने अंतिम चरण में है और इसके प्रभाव में आने के बाद भारत दुनिया के सबसे बड़े वाहन बाजार होगा क्योंकि यहां उन्नत प्रौद्योगिकी, कुशल और सस्ता श्रम उपलब्ध है।