BREAKING NEWS

गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾कोरोना संकट के बीच CM उद्धव ठाकरे ने बुलाई सहयोगी दलों की बैठक◾राहुल गांधी से बोले एक्सपर्ट- 2021 तक रहेगा कोरोना, आर्थिक गतिविधियों पर लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत◾देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के पार, अब तक 4 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7600 के पार, अब तक 172 लोगों की मौत हुई ◾Covid-19 : राहुल गांधी आज सुबह प्रसिद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ करेंगे चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नितिन गडकरी बोले- CAA से अल्पसंख्यकों को डरने की जरूरत नहीं, कुछ दल वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि भारत के अल्पसंख्यकों को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) से डरने की जरूरत नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ पार्टियां जो वोट बैंक की राजनीति करना चाहती हैं वे डर एवं असुरक्षा का माहौल पैदा कर रही हैं। सड़क परिवहन, राजमार्ग और सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) मंत्री गडकरी ने ‘एजेंडा आज तक 2019’ में कहा कि इस तरह की ताकतें “जानबूझकर” कानून के बारे में “गलतफहमी” पैदा करने के प्रयास कर रही हैं। 

गडकरी ने कहा, “यह कानून विदेशियों के खिलाफ है न कि भारतीय नागरिकों के...लोगों को कानून के बारे में जानबूझकर गलतफहमी पैदा कर उकसाया जा रहा है...जो कोई भी भारतीय नागरिक हैं, किसी भी धर्म, जाति या लिंग के हों- हमने इस तरह के भेदभाव का कभी समर्थन नहीं किया और न ही कभी करेंगे। 

जामिया हिंसा मामले को लेकर SC ने याचिकाकर्ताओं को हाई कोर्ट जाने का दिया आदेश

सीएए अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं है।” उन्होंने कहा कि जबसे भाजपा केंद्र में सत्ता में आई है, तब से, कुछ राजनीतिक दल हैं जो यह कह कर अल्पसंख्यकों के बीच डर पैदा कर रहे हैं कि “भाजपा अल्पसंख्यकों के खिलाफ है या उन्हें बाहर निकाल देगी जो कि सच नहीं है।” मंत्री ने कहा कि डर पैदा करना कुछ विपक्षी दलों की राजनीति का हिस्सा है जो “वोट बैंक की राजनीति” करना चाहते हैं। 

उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र के लिए या राष्ट्रीय हित या देश की एकता एवं अखंडता के लिए अच्छा नहीं है। उन्होंने कहा, “यह एक साधारण सी बात है कि कोई भी देश अवैध शरणार्थियों का कालीन बिछा कर स्वागत नहीं करता है। आपको पता होना चाहिए कि असम में पूर्व में आंदोलन इसलिए हुआ था क्योंकि बड़े पैमाने पर अवैध शरणार्थी देश में घुस रहे थे। बाद में वोट बैंक की राजनीति के चलते उन्हें वोट डालने का अधिकार दिया गया। उनमें से कुछ संसद और विधानसभाओं में पहुंच गए।” 

जामिया के बाद अब दिल्ली के सीलमपुर में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन, डीएमआरसी ने करे 7 मेट्रो स्टेशन बंद

गडकरी ने कहा कि बांग्लादेश और पाकिस्तान में, हिंदुओं, जैनों, सिखों और बौद्धों की संख्या पिछले 40-50 साल में बहुत कम हुई है क्योंकि उनके साथ वहां अन्याय हुआ। उन्होंने कहा, “उनके पास शरण लेने के लिए कोई दूसरा देश नहीं था। अगर वह हमारे पास आते हैं तो हम उन्हें नागरिकता देंगे। यह स्वाभाविक है। कश्मीर और देश के अन्य हिस्सों में हजारों लोग हैं और उन्हें नागरिकता देने में कोई नुकसान नहीं है।” 

गडकरी ने कहा कि राजनीतिक दलों या मीडिया का एक धड़ा है जो “हिंदुत्व” की गलत व्याख्या कर रहा है । उन्होंने कहा कि भारत में रहने वाला प्रत्येक व्यक्ति “हिंदू या हिंदुस्तानी” है और हिंदू एक जीवनशैली है जो धर्म की संकुचित सीमा से बहुत ऊपर है। मंत्री ने कहा, “किसी राष्ट्रीय मुद्दे (सीएए) का राजनीतिकरण करना ठीक नहीं है। हम उन्हें मनाने की कोशिश कर रहे हैं...हम उन्हें मना लेंगे, शांति बहाल कर ली जाएगी।”