BREAKING NEWS

अयोध्या की जगह मथुरा शिफ्ट हो रहा UP चुनाव का मुद्दा? बांके बिहारी की शरण में शाह, जानें पूरा कार्यक्रम ◾यूपी चुनाव : सीएम योगी ने 'सैफई महोत्सव' को लेकर SP पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही यह बात ◾प्रमोशन में भगवान पर बयान देकर फंसी श्वेता, नरोत्तम मिश्रा ने दिए जांच के निर्देश, जानें क्या है पूरा मामला ◾दिल्ली : गैंगरेप के बाद महिला के साथ अभद्रता, काटे बाल, चेहरा काला कर इलाके में घुमाया◾UP चुनाव: प्रचार अभियान में कांग्रेस को क्यों होगी बुलेट प्रूफ जैकेट की जरूरत? मदद के लिए उन्नाव भेजी टीम ◾राहुल ने ट्विटर के CEO को लिखा पत्र, कहा- सरकार के दबाव में कार्य कर रही कंपनी, फॉलोअर्स किए कम ◾'टीपू सुल्तान स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स' को लेकर विवाद, राउत बोले-नया इतिहास मत लिखो◾उत्तराखंड चुनाव से पूर्व कांग्रेस को एक और बड़ा झटका! BJP में शामिल हुए पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ◾Today's Corona Update : नए मरीजों की संख्या से ज्यादा रिकवरी रेट, एक्टिव केस में भी दर्ज हुई गिरावट◾World Corona Update : नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण का कहर, वैश्विक स्तर पर 36.18 करोड़ हुआ आंकड़ा ◾पंजाब चुनाव : राहुल प्रचार अभियान का फूंकने बिगुल, 117 उम्मीदवारों संग स्वर्ण मंदिर में टेकेंगे मत्था ◾UP विधानसभा चुनाव : प्रचार के लिए आज मैदान में उतरेंगे BJP के दिग्गज, घर-घर देंगे दस्तक◾उत्तराखंड : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय थाम सकते हैं BJP का दामन◾UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾

आतंकवादी नहीं, IAS पैदा करते हैं मदरसे : अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के प्रमुख वसीम रिजवी के मदरसों से जुड़े विवादित बयान को खारिज करते हुए राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गैयूरुल हसन रिजवी ने आज कहा कि मदरसों को आतंकवाद से जोड़ना ‘हास्यास्पद’ है क्योंकि इनसे पढ़ाई करने वाले बच्चे अब आईएएस अधिकारी तक बन रहे हैं। पिछले दिनों वसीम रिजवी ने मदरसों पर आतंकवाद को बढावा देने का आरोप लगाकर उन्हें बंद करने की मांग करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा था।

अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष रिजवी ने कहा, ‘‘मदरसों को आतंकवाद से जोड़ने की कोशिश बहुत बचकाना और हास्यास्पद है। एक या दो घटनाओं को लेकर मदरसों को बदनाम नहीं किया जा सकता। आज के समय मदरसों से पढ़ने वाले बच्चे आईएएस अधिकारी भी बन रहे हैं और दूसरे क्षेत्रों में नाम कमा रहे हैं। मैं तो यह कहूंगा कि मदरसे आतंकवादी नहीं, बल्कि आईएएस पैदा करते हैं।’’

ऐसी कई मिसालें मिलती हैं जब मदरसों से पढ़े बच्चों ने यूपीएससी की परीक्षा में कामयाबी हासिल की है। दारूल उलूम देवबंद से पढ़ाई करने वाले मौलाना वसीमुर रहमान ने 2008 में यूपीएससी की परीक्षा पास की थी। उनको 404वीं रैंक मिली थी। उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में मदरसा ‘अली अरबिया’ से पढ़ाई करने वाले मौलाना हम्माद जफर ने 2013 में यूपीएससी की परीक्षा पास की और उनको 825वीं रैंक हासिल हुई थी।

गैयूरुल हसन रिजवी ने कहा, ‘‘ वह सरकार की नजर में अच्छा बनने के लिए इस तरह की बातें कर रहे हैं। लेकिन मैं पूरे यकीन से कह सकता हूं कि सरकार को इनकी बातों पर कोई यकीन नहीं है। सरकार तो मदरसों का अधुनिकीकरण करना और इनको आगे बढ़ाना चाहती है।’’

खुद उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखले वाले अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने कहा, ‘‘हाल के समय में मैं कई मदरसों में गया और पाया कि वहां बहुत बदलाव आया है। मदरसों में अब आधुनिक शिक्षा दी जा रही है। जो मदरसे आधुनिक शिक्षा से दूर हैं सरकार उनके लिए भी काम कर रही है।’’

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने गत 8 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर मदरसों को ‘मानसिक कट्टरवाद’ को बढ़ावा देने वाला बताते हुए उन्हें स्कूल में तब्दील करने और उनमें इस्लामी शिक्षा को वैकल्पिक बनाने का अनुरोध किया था।

रिजवी ने पत्र में यह भी दावा किया था कि मदरसों में गलत शिक्षा मिलने की वजह से उनके विद्यार्थी धीरे-धीरे आतंकवाद की तरफ बढ़ जाते हैं। इस विवादित बयान को लेकर प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिन्द ने वसीम रिजवी को कानूनी नोटिस भेजकर उनसे 20 करोड़ रुपये बतौर हर्जाना मांगा हैं।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ