BREAKING NEWS

दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾‘हिंदुत्व’ की राह पर निकले राज ठाकरे, MNS का नया झंडा लॉन्च किया◾CM नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को लताड़ा, कहा- जिसको जहां जाना है, जाएं◾तिहाड़ जेल प्रशासन ने निर्भया के गुनहगारों से पूछी उनकी अंतिम इच्छा, 1 फरवरी को होगी फांसी◾JNU और जामिया में पश्चिमी यूपी के छात्रों को 10 फीसदी आरक्षण दे दो, सबका इलाज कर देंगे : संजीव बालियान◾PM मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस और बाल ठाकरे को उनकी जयंती पर दी श्रद्धांजलि, ट्वीट कर कही ये बात◾चीन में कोरोना वायरस से 17 लोगों की मौत के बाद इमरजेंसी घोषित, शहर छोड़ने पर भी लगी रोक ◾उपराष्ट्रपति नायडू ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित की, ट्वीट कर कही ये बात◾अनुपम खेर ने ट्विटर पर दिया नसीरुद्दीन शाह को जवाब, कहा - कुछ पदार्थों के सेवन का नतीजा है यह बयान◾

'पद्मावती' पर प्रतिबंध को लेकर शिवराज को नोटिस

ग्वालियर: फिल्म 'पद्मावती' को मध्यप्रदेश में रिलीज नहीं होने देने की घोषणा पर ग्वालियर के सामाजिक कार्यकर्ता हरिमोहन भसनेरिया ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। उन्होंने उचित जवाब नहीं मिलने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है। भसनेरिया ने शनिवार को आईएएनएस को बताया कि उन्होंने अधिवक्ता पुरुषोत्तम राय के जरिए मुख्यमंत्री चौहान को नोटिस भेजा है, जिसमें कहा गया है कि संजय लीला भंसाली की फिल्म को अभी केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड ने न तो देखा है और न ही उसपर अपनी राय जाहिर की है।

फिल्म के प्रदर्शन और रोक का अधिकार सेंसर बोर्ड को है, लेकिन इससे पहले ही आपने (चौहान) राज्य में फिल्म के प्रदर्शन को प्रतिबंधित करने की घोषणा कर दी। नोटिस में कहा गया है, फिल्म 'पद्मावती' के प्रदर्शन पर रोक लगाने का फैसला भारतीय संविधान के खिलाफ है। यह सीधे अभिव्यक्ति की आजादी का हनन करने का प्रयास है। नोटिस में मुख्यमंत्री से सवाल किया गया है, आपने इस फिल्म को कब और कैसे देखा, किस कारण से आपने यह घोषणा की है या अटकलों के आधार पर आप इस निर्णय पर पहुंचे हैं। अगर अटकलों के आधार पर यह फैसला लिया गया है तो यह पद की गरिमा के खिलाफहै और कानूनन अपराध है।

भसनेरिया ने नोटिस के जरिए यह भी जानना चाहा है कि उन्होंने जो घोषणा की है, वह सत्य है अथवा पूर्व में की गई अन्य घोषणाओं जैसी असत्य है। यदि घोषणा सत्य है तो किस गजट में इसे प्रकाशित किया गया है, उसकी प्रति उपलब्ध कराई जाए। साथ में यह भी बताएं कि उन्होंने फिल्म को कब और कहां देखकर यह पाया कि फिल्म के किस-किस भाग में किन-किन पात्रों के इतिहास से छेड़छाड़ की गई है, जिसके आधार पर राज्य में फिल्म को प्रतिबंधित किया गया है।

नोटिस में चेतावनी दी गई है, अगर इस नोटिस का जवाब नहीं दिया गया तो पक्षकार कानूनी कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र होगा। उसके हर्जाने और खर्च का निर्वाहन नोटिस ग्राहिता (नोटिस लेने वाले को) को वहन  करना होगा।