BREAKING NEWS

गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾कोरोना संकट के बीच CM उद्धव ठाकरे ने बुलाई सहयोगी दलों की बैठक◾राहुल गांधी से बोले एक्सपर्ट- 2021 तक रहेगा कोरोना, आर्थिक गतिविधियों पर लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत◾देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के पार, अब तक 4 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7600 के पार, अब तक 172 लोगों की मौत हुई ◾Covid-19 : राहुल गांधी आज सुबह प्रसिद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ करेंगे चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

NSA अजित डोभाल बोले- मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं कि अधिकांश कश्मीरी अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के समर्थन में

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने शनिवार को कहा कि वह ‘‘पूरी तरह आश्वस्त’’ हैं कि अधिकांश कश्मीरी अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के समर्थन में हैं और उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि कश्मीर में पाबंदियों का मकसद पाकिस्तान को आतंकवाद के जरिए उसकी गलत मंशाओं को अंजाम देने से रोकना है। 

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 ‘‘एक विशेष दर्जा नहीं था। यह एक विशेष भेदभाव था। इसे निरस्त किये जाने से हम कश्मीरी लोगों को अन्य भारतीयों की बराबरी पर लाएं है।’’ चयनित पत्रकारों के एक समूह के साथ बातचीत में डोभाल ने कहा कि वैसे भी बाद में प्रतिबंधों में ढील दी गई और कश्मीर, जम्मू तथा लद्दाख में 199 पुलिस जिलों में से केवल 10 में निषेधाज्ञा लागू है जबकि सभी क्षेत्रों में लैंडलाइन टेलीफोन सेवा पूरी तरह से बहाल कर दी गई है।’’ 

नेताओं की नजरबंदी पर उन्होंने कहा कि एहतियातन ऐसा किया गया और कानून के तहत भी इसकी अनुमति है जिसका मतलब है कि सरकार अदालतों के प्रति जवाबदेह है और अगर कुछ भी न्यायेत्तर होता है तो उसे भारी जुर्माना भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा, ‘‘मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं कि अधिकांश कश्मीरियों ने अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन किया है। उन्होंने इस कदम में बेहतर अवसर, बेहतर भविष्य और युवाओं के लिए अधिक नौकरियां देखी है।’’ 

डोभाल ने भारतीय और विदेशी मीडिया के पत्रकारों से कहा, ‘‘इसका विरोध करने वाले लोग कम हैं। लोगों को लगता है कि यह उनकी आवाज है। जरूरी नहीं कि यह सच हो।’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर में संकट पैदा करने पर तुला हुआ है और वह घाटी में अशांति की स्थिति देखना चाहता है ताकि उसके भारत विरोधी दुष्प्रचार में उसे मदद मिले। अपने इस उद्देश्य को पाने के लिए पाकिस्तान ने अशांति का माहौल पैदा करने के वास्ते कई आतंकवादियों को कश्मीर भेजा है और पड़ोसी मुल्क यह सुनिश्चित करना चाहता है कि सामान्य स्थिति बहाल नहीं हो। 

डोभाल ने कहा, ‘‘यदि कोई जम्मू-कश्मीर में सामान्य स्थिति बहाल करने में दिलचस्पी रखता है तो वह भारत है। हम लोगों को पाकिस्तान की साजिश और सीमा पार से आने वाली उसकी गोलियों का शिकार नहीं बनने देंगे। हम लोगों की सुरक्षा के वास्ते सब कुछ करेंगे।’’ सेना द्वारा मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब पर डोभाल ने कहा कि केवल स्थानीय पुलिस और केन्द्रीय अर्धसैनिक बल कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बहाल करने के वास्ते तैनात है। इसलिए सेना द्वारा किसी अत्याचार का कोई सवाल ही नहीं है। 

विभिन्न नेताओं ने इसरो के वैज्ञानिकों से कहा- दिल छोटा न करें

उन्होंने कहा कि खुफिया रिपोर्टों के अनुसार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 230 आतंकवादियों के होने की सूचना है और इनमें से कुछ यहां अशांति पैदा करने के लिए सीमा पार से घुस आये हैं। डोभाल ने कहा, ‘‘पाकिस्तान के लिए कश्मीर में अशांति पैदा करने के वास्ते केवल एक ही हथियार आतंकवाद है। यदि पाकिस्तान विध्वंसक गतिविधियों में शामिल होना बंद कर दे तो कश्मीर में सामान्य स्थिति बहाल हो सकती है। जब उनसे पूछा गया कि यदि पाकिस्तान अपनी नापाक गतिविधियों को जारी रखेगा तो भारत क्या करेगा तो उन्होंने कहा, ‘‘हर समस्या का समाधान है।’’ हालांकि उन्होंने इस संबंध में विस्तार से जानकारी नहीं दी। 

मोबाइल फोन और इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदियां लगाये जाने को न्यायोचित ठहराते हुए उन्होंने कहा कि इनका पाकिस्तान और आतंकवादियों द्वारा विध्वंसक गतिविधियों के लिए आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘इंटरनेट के हमारे जीवन में आने से पहले भी लोग अपना कामकाम कर रहे थे।’’ हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि लोग इन पाबंदियों से नाखुश है। उन्होंने कहा, ‘‘ किसी भी समाज में, लोग हमेशा उससे ज्यादा चाहते हैं जो उनके पास है। लेकिन हमारे लिए उनका जीवन अधिक महत्वपूर्ण है।’’