BREAKING NEWS

महाराष्ट्र: वंचित बहुजन अघाड़ी के नेताओ पर हमला करने वाले पुलिस की पकड़ में ◾मनीष सिसोदिया ने अपने साथ "दुर्व्यवहार" करने का लगाया आरोप, कोर्ट ने CCTV फुटेज सुरक्षित रखने के दिए निर्देश◾तालिबान के शीर्ष नेता के साथ कतर के प्रधानमंत्री ने की गुप्त बैठक◾दो हजार रुपये के नोट बदलने के मामले में Supreem Court ने किया सुनवाई से इनकार, कहा- जरूरी मामला नहीं◾कर्नाटक में कांग्रेस की जीत में सुनील कानुगोलू ने निभाया खास रोल, अब बने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के मुख्य सलाहकार◾Free Electricity in Rajasthan: राजस्थान में हर महीने 100 यूनिट तक सब को बिजली फ्री ◾महिला ने किया बैग में बम होने का दावा, मुंबई एयरपोर्ट पर मची अफरा-तफरी◾BSP चीफ मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गहलोत सरकार द्वारा की गई घोषणा चुनावी छलावा ◾राजधानी दिल्ली में 36 साल बाद सबसे ठंडा मई का महीना ◾नौकरी के बदले जमीन मामला: कोर्ट से CBI को चार्जशीट दाखिल करने के लिए मिला समय, 12 जुलाई को होगी अगली सुनवाई◾Manipur Violence: हिंसा को लेकर अमित शाह ने कहा- 'अब सब कंट्रोल में, किसी को छोड़ेंगे नहीं'◾अब तालिबान से दोस्ती पड़ रही महंगी, पाकिस्तान में आतंकी हमलों में हुई बढ़ोतरी: रिपोर्ट◾राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा के लिए पीएम मोदी को किया जाएगा आमंत्रित ◾Wrestler Protest: मुजफ्फरनगर में पहलवानों के समर्थन में आज होगी महापंचायत, बृजभूषण सिंह की गिरफ्तारी की मांग तेज ◾शाहबाद डेयरी मर्डर मामले में साहिल की पुलिस हिरासत दो दिन और बढ़ी ◾Vivekananda Reddy murder case: सांसद अविनाश रेड्डी को मिली बड़ी राहत, तेलंगाना HC ने दी अग्रिम जमानत ◾संसद सदस्यता जाने पर US में राहुल गांधी ने कहा- 'मैं पहला ऐसा व्यक्ति, जिसे मानहानि मामले में इतनी बड़ी सजा मिली'◾दमोह हिजाब विवाद पर शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा- "मामले में दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी"◾Sakshi Murder Case: साहिल के बारे में जानते थे साक्षी के पिता, कहा था- 'अभी छोटी हो पढ़ाई पर ध्यान दो'◾कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने केंद्र के अध्यादेश के खिलाफ केजरीवाल को समर्थन देने से किया इनकार◾

पैगंबर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणियों से छवि हो रही धूमिल, याचिका पर SC करेगा सुनवाई

देश में मुसलमानों के खिलाफ नफरतभरे बयानों से उनके धर्म को हीन भावना से देखा जा रहा है। तो वहीं, ऐसे भाषणों से उनकी छवि को भी चोट पहुंच रही है। ऐसे में इस्लाम प्रवर्तक पैगंबर मोहम्मद की छवि खराब करने के मामलों की जांच की मांग वाली अर्जी पर देश की शीर्ष अदालत, सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा।  

पैगंबर मोहम्मद की छवि को बिगाड़ने वाली टिप्पणियां की गई  

सोमवार को अदालत ने ऐसी याचिका पर सुनवाई के लिए 9 मई की तारीख तय की है। इस अर्जी में मांग की गई है कि पैगंबर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणियों और हेट क्राइम के मामलों की कोर्ट की निगरानी में जांच चलनी चाहिए और फिर आरोपियों पर केस होना चाहिए। अर्जी में कहा गया है कि देश के अलग-अलग हिस्सों में ऐसे मामले सामने आए हैं, जब पैगंबर मोहम्मद की छवि को बिगाड़ने वाले टिप्पणियां की गई हैं। इसके चलते इस्लाम को मानने वाले लोगों की आस्था पर चोट पहुंची है। 

9 मई को होगी इस मसले पर सुनवाई  

जस्टिस एएम खानविकल्कर ने कहा कि इस मसले पर 9 मई को सुनवाई होगी। उसी दिन ऐसी अन्य याचिकाओं पर भी विचार किया जाएगा। यह अर्जी जमीयत-उलेमा-ए-हिंद के प्रेसिडेंट मौलाना सैयद महमूद असद मदनी दायर की थी। उनका कहना था कि सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार को आदेश देना चाहिए कि वह हेट स्पीच के मामलों में कार्रवाई करे। उन्होंने कहा कि ऐसी कई मामले सामने आए हैं, जब पैगंबर मोहम्मद का अपमान किया गया। उन्होंने कहा कि पैगंबर मोहम्मद पर हमला करना एक तरह से इस्लाम पर ही सलाम उठाने जैसा है। 

लाउडस्पीकर विवाद पर मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर का बयान, कहा-कानून सबके लिए एक

नफरत भरे भाषण से पहुंचा नुकसान 

याचिका में कहा गया कि जिस तरह की आलोचनाएं की गई हैं, वे किसी की आस्था से मतभेद होने से कहीं ज्यादा है। यह एक तरह का हेट क्राइम है। इस पर केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को ऐक्शन लेना चाहिए। मदनी ने अपनी अर्जी में कहा कि इस तरह की टिप्पणियां देश के सेकुलर कैरेक्ट को नुकसान पहुंचाने वाली हैं।  

बनाई जाए एक स्वतंत्र समित 

इसके अलावा याचिका में इस तरह के सभी मामलों के लिए स्वतंत्र समिति गठित करने की भी मांग की गई है। दलील में कहा गया है कि इस तरह के भाषण, निश्चित रूप से धार्मिक असहिष्णुता को भड़काने की संभावना रखते हैं। राज्य और केंद्र सरकार को इसे विचार की स्वतंत्रता के संबंध में असंगत मानना चाहिए।  

उल्लेखनीय है कि देश में पिछले कुछ समय से हिंदू और मुसलमानों के बीच रिश्ते में खटास डालने की पुरजोर कोशिश की गई है। कुछ अराजकतत्व इस भूमिका को काफी सही ढंग से पूरा करने में भी कामयाब हुए है, लेकिन फिर भी तमाम राज्य सरकारों ने इस पर ध्यान दिया है।