BREAKING NEWS

कन्हैयालाल के परिवार को एक करोड़ की आर्थिक सहायता देंगे भाजपा नेता कपिल मिश्रा◾ बिहार में नीतीश कुमार NDA के चेहरा थे, हैं और रहेंगे, JDU नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान ◾ Nupur Sharma: सस्पेंड BJP नेता नूपुर के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, 10 FIR हैं दर्ज◾ presidential election : चुनाव दो विचारधाराओं की लड़ाई बन गया है: यशवंत सिन्हा◾KCR की बीजेपी को खुली चुनौती- मेरी सरकार गिराकर दिखाओ मैं केंद्र सरकार गिरा दूंगा ◾मोहम्मद जुबैर को लगा बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, हिरासत में भेजा गया ◾कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी BJP का सदस्य नहीं, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने सभी दावों का किया खंडन◾शिंदे को शिवसेना से निकालने पर भड़के बागी, कहा - हमारी भी एक सीमा ◾ Amravati Murder Case: अमरावती में हुई उदयपुर जैसी घटना, 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या◾ Udaipur Murder Case: कांग्रेस का बड़ा दावा, कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध◾पाकिस्तानी सैन्य जनरलों को प्रोपर्टी डीलर बोलने वाले पत्रकार पर हमला ◾सीएम रह चुके फडणवीस कैसे डिप्टी सीएम बनने के लिए हो गए राजी ! भाजपा ने कैसे मनाया ◾महाराष्ट्र : विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए MVA ने राजन साल्वी को बनाया उम्मीदवार, कल होगा चुनाव◾वायनाड में बोले राहुल- मनरेगा की गहराई को नहीं समझ पाए प्रधानमंत्री मोदी◾टेक्सास सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात की अनुमति बहाल करने वाले आदेश पर रोक लगाई◾दिल्ली पुलिस ने फैक्ट-चेकर मोहम्मद जुबैर पर लगाए विदेशी चंदा लेने और सबूत मिटाने के आरोप◾'छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता, टूटे मन से कोई खड़ा नहीं होता...' सामना के जरिए शिवसेना का फडणवीस पर तंज◾उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में सत्ता खोने के बाद 'शिवबंधन' बनाने का कर रहे हैं विचार◾उदयपुर हत्याकांड : NIA कोर्ट में पेश किए जायेंगे आरोपी, रिमांड की मांग करेगी जांच एजेंसी◾मुझे भी मिला था ऑफर, लेकिन मैं हूं एक सच्चा शिवसैनिक : संजय राउत ◾

घर के अंदर SC व ST लोगों पर अपमानजनक टिप्पणी कोई अपराध नहीं : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) से संबंधित किसी व्यक्ति के खिलाफ घर की चारदीवारी के अंदर किसी गवाह की अनुपस्थिति में की गई अपमानजनक टिप्पणी अपराध नहीं है। इसके साथ ही कोर्ट ने एक व्यक्ति के खिलाफ एससी-एसटी कानून के तहत लगाए गए आरोपों को रद्द कर दिया, जिसने घर के अंदर एक महिला को कथित तौर पर गाली दी थी।

न्यायालय ने कहा कि किसी व्यक्ति का अपमान या धमकी अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति कानून के तहत अपराध नहीं होगा जब तक कि इस तरह का अपमान या धमकी पीड़ित के अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति से संबंधित होने के कारण नहीं है। कोर्ट ने कहा कि एससी व एसटी कानून के तहत अपराध तब माना जाएगा जब समाज के कमजोर वर्ग के सदस्य को किसी स्थान पर लोगों के सामने अभद्रता, अपमान और उत्पीड़न का सामना करना पड़े।

न्यायाधीशों की एक पीठ ने कहा, तथ्यों के मद्देनजर हम पाते हैं कि अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) कानून, 1989 की धारा 3 (1) (आर) के तहत अपीलकर्ता के खिलाफ आरोप नहीं बनते हैं। इसलिए आरोपपत्र को रद्द किया जाता है।’’इसके साथ ही न्यायालय ने अपील का निपटारा कर दिया। पीठ ने कहा कि हितेश वर्मा के खिलाफ अन्य अपराधों के संबंध में प्राथमिकी की कानून के अनुसार सक्षम अदालतों द्वारा अलग से सुनवाई की जाएगी।

पीठ ने अपने 2008 के फैसले पर भरोसा किया और कहा कि इस अदालत ने सार्वजनिक स्थान और आम लोगों के सामने किसी भी स्थान पर अभिव्यक्ति के बीच अंतर को स्पष्ट किया था। अदालत ने कहा कि उस फैसले में यह कहा गया था कि यदि भवन के बाहर जैसे किसी घर के सामने लॉन में अपराध किया जाता है, जिसे सड़क से या दीवार के बाहर लेन से किसी व्यक्ति द्वारा देखा जा सकता है तो यह निश्चित रूप से आम लोगों द्वारा देखी जाने वाली जगह होगी। 

पीठ ने कहा कि प्राथमिकी के अनुसार, महिला को गाली देने का आरोप उसकी इमारत के भीतर हैं और यह मामला नहीं है जब उस समय कोई बाहरी व्यक्ति सदस्य (केवल रिश्तेदार या दोस्त नहीं) घर में हुई घटना के समय मौजूद था।