BREAKING NEWS

Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾यासीन मलिक की सजा पर कुछ देर में फैसला, NIA ने सजा-ए-मौत का किया अनुरोध◾Sri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया ने नया वित्त मंत्री नियुक्त किया, पीएम रानिल विक्रमसिंघे को सोपी यह कमान ◾पाकिस्तान में बन रहे गृह युद्ध के हालात... इमरान खान पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार, जानें पूरा मामला ◾SP के टिकट पर राज्यसभा जाएंगे कपिल सिब्बल.. नामांकन दाखिल! डैमेज कंट्रोल में जुटे अखिलेश? ◾पेरारिवलन से MK स्टालिन की मुलाकात पर बोले राउत-ये हमारी संस्कृति और नैतिकता नहीं◾यूक्रेन के मारियुपोल में इमारत के भूतल में मिले 200 शव, डोनबास में जारी है पुतिन की सेना के ताबड़तोड़ हमले ◾हिंदू पक्ष ने Worship Act 1991 को बताया असंवैधानिक...., SC में नई याचिका हुई दायर, जानें क्या कहा ◾J&K : बारामूला मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 पाकिस्तानी आतंकी, पुलिस का 1 जवान शहीद ◾बिहार में फिर कहर बनकर टूटी जहरीली शराब, गया और औरंगाबाद में अब तक 11 की मौत◾राज्यसभा के लिए SP ने फाइनल किए नाम, सिब्बल के जरिए एक तीर से दो निशाने साधेंगे अखिलेश?◾केंद्रीय मंत्री के ट्विटर से गायब हुए मुख्यमंत्री... नीतीश संग जारी मतभेद पर RCP ने कही यह बात, जानें मामला ◾

न्यायालय के फैसले पर मिस्त्री ने कहा - मैं निराश जरूर हूं पर मेरी अंतरात्मा साफ है

टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन साइरस पी मिस्त्री ने मंगलवार को कहा कि वह उच्चतम न्यायालय के फैसले से निजी रूप से निराश जरूर हैं, लेकिन उनकी अंतरात्मा साफ है। मिस्त्री टाटा समूह के साथ उच्चतम न्यायालय में लंबे समय से चल रही कानूनी लड़ाई हार गए हैं। 

मिस्त्री ने मंगलवार को बयान में कहा कि उनका अब भी मानना है कि उन्होंने समूह के लिए जो दिशा चुनी थी वह दृढ़ विश्वास पर आधारित थी और उसके पीछे कोई बुरी मंशा नहीं थी। मिस्त्री 27 दिसंबर, 2012 से 24 अक्टूबर, 2016 तक नमक से लेकर सॉफ्टवेयर क्षेत्र में कार्यरत टाटा उद्योग समूह के चेयरमैन थे। उन्हें निदेशक मंडल ने कुछ आंतरिक खींचतान के बीच झटके से निकाल बाहर कर दिया था। 

मिस्त्री ने कहा कि उनकी अंतरात्मा साफ है। उन्होंने कहा, ‘‘मुझमें कई कमियां हो सकती हैं, लेकिन समूह के लिए मैंने जो दिशा चुनी थी, उसको लेकर मुझे कोई संदेह नहीं है। मैंने पूरी ईमानदारी से काम किया।’’ हालांकि, उन्होंने समूह में अपनी 18.37 प्रतिशत हिस्सेदारी निकालने को लेकर अपने अगले कदम का कोई उल्लेख नहीं किया। 

मिस्त्री ने कहा कि समूह में अल्पांश शेयरधारक के रूप में मैं इस फैसले से निराश हूं। हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उन्हें टाटा समूह का चेयरमैन बनने का अवसर दिया गया, जिसके लिए वह आभारी हैं। उन्होंने अपनी टीम के सदस्यों का आभार जताते हुए कहा कि उन्हें इस चर्चित संस्थान का चेयरमैन बनने का अवसर मिला, इसके लिए वह आभारी हैं। 

मिस्त्री ने कहा कि उन्होंने पहले दिन से यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया कि निर्णय प्रक्रिया और कामकाज का संचालन निदेशकमंडल स्तर से संचालित एक मजबूत व्यवस्था के अंतर्गत हो क्यों कि ये निर्णय किसी भी एक व्यक्ति से बड़े होते हैं। मैंने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किए कि विभिन्न निदेशक मंडलों के निदेशक अपने दायित्वों का निर्वहन बिना किसी भय और पक्षपात के करें। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि रणनीति और कार्रवाई में शेयरधारकों की राय को शामिल किया जाए। 

उच्चतम न्यायालय ने 26 मार्च को राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) के मिस्त्री को टाटा समूह का चेयरमैन बहाल करने के फैसले को खारिज कर दिया था। इससे पहले शीर्ष अदालत ने 10 जनवरी, 2020 को टाटा समूह को अंतरिम राहत देते हुए एनसीएलएटी के 18 दिसंबर, 2019 के मिस्त्री को बहाल करने के फैसले पर रोक लगा दी थी।