BREAKING NEWS

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘रक्षा भारत स्टार्टअप चैलेंज’ की शुरुआत की, दिशा-निर्देश भी किये लॉन्च◾हाथरस केस : उप्र में ‘जंगलराज’ ने एक और युवती को मार डाला, सरकार ने कहा 'फ़ेक न्यूज़' - राहुल गांधी◾DC vs SRH आईपीएल-13 : दिल्ली कैपिटल्स ने जीता टॉस, गेंदबाजी का किया फैसला◾6 साल में सेना ने खरीदा 960 करोड़ का खराब गोला-बारूद, तकरीबन 50 जवानों ने गंवाई जान : रिपोर्ट ◾LAC विवाद पर भारत का कड़ा सन्देश - अपनी मनमानी व्याख्या जबरन थोपने की कोशिश न करें चीन◾हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर बवाल, विजय चौक के पास दिल्ली महिला कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन◾बिहार विधानसभा चुनाव : महागठबंधन से अलग हुई RLSP, बसपा के साथ बनाया नया गठबंधन ◾पायल घोष ने महाराष्ट्र के राज्यपाल से की मुलाकात, अनुराग कश्यप मामले में की न्याय की मांग◾विपक्ष के चौतरफा हमले के बीच यूपी सरकार ने हाथरस के पीड़ित परिवार को दी 10 लाख रु की मदद ◾चुनाव आयोग ने 12 राज्यों की 57 सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का किया ऐलान, 10 नवंबर को नतीजे◾एनसीबी का बड़ा बयान- ड्रग्स लेने के दौरान सुशांत को रिया ने दिया बढ़ावा◾‘नमामि गंगे’ मिशन के तहत PM मोदी ने उत्तराखंड में 6 बड़ी परियोजनाओं का किया उद्घाटन◾कृषि बिल पर राहुल ने की किसानों से बातचीत, कहा- नए कानून से अन्नदाता बन जाएंगे मजदूर◾हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर विपक्ष का योगी सरकार पर हमला, कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल◾देश में एक दिन में कोरोना के 70 हजार नए मामलों की पुष्टि, पॉजिटिव केस 61 लाख के पार◾ विश्व में कोरोना वायरस का कहर तेज, पॉजिटिव केस 3 करोड़ 32 लाख के पार ◾उत्तर प्रदेश : हाथरस में सामूहिक बलात्कार पीड़िता की दिल्ली के अस्पताल में इलाज के दौरान मौत◾TOP 5 NEWS 29 SEPTEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾ अमेरिका में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 71 लाख से अधिक, ये प्रांत बुरी तरह प्रभावित ◾J&K के पुंछ में पाकिस्तान ने LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया, सेना ने दिया मुहतोड़ जवाब◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सर्वसम्मति के बाद ही एक साथ हो सकते हैं लोकसभा, विधानसभा चुनाव : पूर्व सीईसी

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी ने फिलहाल लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने की संभावना को सर्वसम्मति बनने तक खारिज कर दिया है। कुरैशी ने कहा कि तब तक अलग-अलग चुनाव कराने की मौजूदा प्रणाली पर चलना ही बेहतर है।

कुरैशी ने मंगलवार को कहा कि एक साथ चुनाव कराने या अलग-अलग चुनाव कराने के अपने अपने फायदे हैं।

उन्होंने कहा कि साजो-सामान के लिहाज से देखें तो एक साथ चुनाव कराना सबसे अधिक सुविधाजनक है क्योंकि मतदाता, मतदान केंद्र के साथ-साथ चुनाव कर्मी और सुरक्षाकर्मी भी समान रह सकते हैं। कुरैशी ने कहा कि अलग-अलग चुनाव की भी विशेषता है कि ऐसे चुनावों में नेताओं की जवाबदेही तय होती है।

राज्यपाल ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा को किया भंग ,सरकार बनाने की संभावना खत्म

उन्होंने कहा कि अगर साथ में चुनाव होते हैं तो जनप्रतिनिधि पांच साल बाद ही अपना चेहरा दिखाएगा जब अगले चुनाव होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि क्षेत्रीय और राष्ट्रीय मुद्दों को जोड़ा नहीं जाना चाहिए क्योंकि वे अपने-अपने हिसाब से महत्वपूर्ण होते हैं।

इसलिए उन्होंने कहा कि खासकर संघीय ढांचे में अलग-अलग चुनाव उपयोगी माने जाते हैं। अगले साल एक साथ चुनाव कराने की संभावना के सवाल पर कुरैशी ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह मुश्किल होगा क्योंकि कोई सर्वसम्मति नहीं बनी है और हम इस पर अभी बहस कर रहे हैं। अगर आम-सहमति बन जाती है तो अच्छी बात होगी।’’

उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता तो मौजूदा चुनाव प्रक्रिया को क्यों बिगाड़ा जाए।