BREAKING NEWS

भाजपा सरकार ने पूर्वोत्तर और बंगाल के बाद दिल्ली को भी जलने के लिए छोड़ दिया है : कांग्रेस◾उद्धव ने भाजपा पर निशाना साधने के लिए पीएम मोदी की चायवाले की पृष्ठभूमि याद दिलाई ◾जामिया नगर में हिंसक झड़पें, तनाव बरकरार◾हेटमेयर और होप के शतक, वेस्टइंडीज की दमदार जीत ◾दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन◾केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾नागरिकता कानून का विरोध : दिल्ली में आगजनी, हिंसा : पुलिसकर्मी जख्मी, बसों में आग लगाई◾केजरीवाल ने नागरिकता अधिनियम पर शांति की अपील की ◾TOP 20 NEWS 15 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾नागरिकता कानून वापस लेने के लिए याचिका दायर करेगी BJP की सहयोगी असम गण परिषद◾वीर सावरकर पर बयान देकर मुश्किल में फंसे राहुल, पोते रंजीत ने की कार्रवाई की मांग◾सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हैं इंटरनेशनल शूटर वर्तिका, अमित शाह को खून से लिखा खत ◾

देश

विपक्ष हारा हुआ है, वीवीपैट मुद्दे पर हताशा उनकी हार का संकेत : पासवान

 488

केंद्रीय मंत्री और भाजपा की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के प्रमुख राम विलास पासवान ने बुधवार को विपक्ष को “हारा हुआ” बताते हुए दावा किया कि वीवीपैट को लेकर उनकी “हताशा” लोकसभा चुनावों में उनकी हार का संकेत है। लोकसभा चुनावों के नतीजों से पहले मंगलवार को 22 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से मुलाकात की और गुरुवार को होने वाली मतगणना से पहले बिना किसी क्रम के चुने गए मतदान केंद्रों के वीवीपैट के सत्यापन की मांग की। निर्वाचन आयोग ने बुधवार को इस मांग को खारिज कर दिया था।

उन्होंने कहा, “मैं कई महीनों से कह रहा हूं कि विपक्ष जब हार की तरफ बढ़ता है तो वह ईवीएम की शिकायत शुरू कर देता है। जो लोग ईवीएम का विरोध कर रहे हैं, वह भारत को समय से पीछे ले जाना चाहते हैं जहां धन और बाहुबल से चुनावों का फैसला होता है। सर्वोच्च अदालत पहले ही इस मुद्दे पर चार बार सुनवाई कर चुका है। वे आसन्न हार को देखते हुए मनगढ़ंत कहानियां गढ़ रहे हैं।”