BREAKING NEWS

राज्यसभा मार्शल्स की नई वर्दी पर उठे सवाल, वैंकेया नायडू ने पुनर्विचार के दिए आदेश◾मायावती ने प्रदूषण पर जताई चिंता, कहा- संसद में चर्चा के बाद ठोस नीति बनाए सरकार ◾हंगामे के बाद राज्यसभा दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित, लोकसभा में किसानों के मुद्दे को लेकर विपक्ष ने की नारेबाजी◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सियाचिन में सेना के जवानों और उनके कुलियों की मौत पर जताया शोक◾शिवसेना ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- एनडीए की अनुमति ली थी क्या? ◾संजय राउत का शायराना ट्वीट- 'अगर जिंदगी में कुछ पाना हो तो तरीके बदलो इरादे नहीं'◾सरहदों की निगरानी के लिए ISRO लॉन्च करेगा कार्टोसैट-3, दुश्मन देशों की हरकतों पर रहेगी नजर ◾जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक संशोधन विधेयक राज्यसभा में आज होगा पेश◾JNU छात्र आज फिर उतर सकते है सड़को पर, प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे स्टूडेंट ◾1 दिसंबर से ग्राहकों की जेब पर बढ़ेगा बोझ, ये दूरसंचार कंपनियां बढ़ाएंगी मोबाइल सेवाओं की दरें◾इंदिरा गांधी की जयंती पर PM मोदी, सोनिया, मनमोहन और प्रणब मुखर्जी ने दी श्रद्धांजलि◾महाराष्ट्र : महीनेभर बाद भी एक ही सवाल, कब और कैसे बनेगी सरकार? ◾झारखंड के चुनाव परिणाम बिहार राजग पर डालेंगे असर! ◾ खट्टर ने स्थानीय युवाओं को नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण देने वाला विधेयक न लाने के संकेत दिए ◾सबरीमला में श्रद्धालुओं की जबरदस्त भीड़, 2 महिलायें वापस भेजी गयी ◾जेएनयू छात्रसंघ पदाधिकारियों का दावा, एचआरडी मंत्रालय के अधिकारी ने दिया समिति से मुलाकात का आश्वासन ◾प्रियंका गांधी ने इलेक्टोरल बांड को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾TOP 20 NEWS 18 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद पवार बोले- किसी के साथ सरकार बनाने पर चर्चा नहीं◾INX मीडिया धनशोधन मामला : चिदंबरम ने जमानत याचिका खारिज करने के आदेश को न्यायालय में दी चुनौती ◾

देश

एकेडेमिक्स फॉर नमो अभियान से जुड़े 1500 से अधिक प्रोफेसर, विचारक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समर्थन में बुद्धिजीवी एवं पढ़ लिखे तबकों के बीच एक माह पूर्व शुरू हुए एकेडेमिक्स फॉर नमो अभियान में देश के करीब 300 शिक्षण संस्थानों के लगभग 1500 प्रोफेसर, विचारक एवं बुद्धिजीवी शामिल हो गये हैं और विभिन्न प्रांतों, शहरों एवं कस्बों में मोदी सरकार के कार्यकाल में आये ऐतिहासिक परिवर्तन को अपने-अपने दृष्टिकोण से परिभाषित कर रहे हैं।

एकेडेमिक्स फॉर नमो अभियान पांच मार्च को राजधानी में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के करीब 30 प्रोफेसरों ने मिल कर शुरू किया था और उन्होंने बुद्धिजीवी तबकों में मोदी सरकार के मायने और मोदी सरकार के काम से आये बदलाव को लेकर गुणवत्ता पूर्ण बहस शुरू करने और इस वर्ग में उनकी स्वीकार्यता को बढ़ने के लिए शुरू किया था। इस अभियान से जुड़ दिल्ली विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के प्रो। स्वदेश सिंह ने बताया कि इस अभियान को सोशल मीडिया के माध्यम से देश भर में फैलाया गया है और विचारों के समन्वय के मंच के रूप में एक वेबसाइट भी शुरू की गयी है।

डॉ. सिंह के अनुसार तीन विश्वविद्यालयों के 30 प्रोफसरों से शुरू हुआ यह नेटवर्क आज 300 से अधिक विश्वविद्यालयों एवं अन्य उच्च शिक्षण संस्थानों के 1500 से अधिक प्रोफेसरों तथा शिक्षाविदों को जोड़ चुका है।

डॉ. सिंह ने बताया कि 19 मार्च से 28 मार्च के बीच 35 वर्ष से कम आयु के बुद्धिजीवी युवाओं के लिए एक निबंध प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया था जिसका विषय था कि ‘मोदी 2.0 आइडिया ऑफ न्यू इंडिया।’ इसमें मोदी सरकार की कोई एक अच्छी योजना के बारे में लिखना था। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता में सैकड़ प्रविष्टियां आयीं और ये निबंध अत्यंत उच्चकोटि के हैं।

प्रतियोगिता के विजेताओं के चयन में कठिनाई आ रही है। उन्होंने कहा कि दो और तीन अप्रैल को देश के विभिन्न हिस्सों में एकेडेमिक्स फॉर नमो अभियान से जुड़ लोगों ने लघु सभायें एवं बैठकें आयोजित कीं और मोदी के नये भारत के विचार एवं उसके क्रियान्वयन के रोडमैप पर चर्चा की। श्री सिंह के अनुसार इस पहल को लेकर भाजपा का शीर्ष नेतृत्व काफी उत्साहित है। स्वयं प्रधानमंत्री मोदी ने 25 मार्च को इसे अपने ट्विटर हैंडल पर प्रचारित किया है। इससे ट्विटर पर दो दिन यह टॉप तीन में ट्रेंड करता रहा। डॉ. सिंह के अनुसार अगले चरण में इसे छात्रावासों में भी ले जाने की योजना है।