BREAKING NEWS

भाजपा के नकारेपन के चलते जीतेंगे झारखंड : कांग्रेस◾UP में मुआवजे के लिए किसानों का प्रदर्शन हुआ उग्र ◾भाजपा के नकारेपन के चलते जीतेंगे झारखंड : कांग्रेस◾अयोध्या फैसले पर बोले यशवंत सिन्हा, कहा- इस फैसले में कुछ खामियां हैं, लेकिन हमें आगे बढ़ने की जरूरत◾UEA के नागरिकों को अब भारत आने पर सीधे मिलेगा वीजा◾महाराष्ट्र सरकार गठन : सोमवार को पवार सोनिया गांधी से करेंगे मुलाकात ◾विपक्ष ने संसद में अपनी संख्या बढ़ाई ◾बाल ठाकरे की पुण्यतिथि पर तेज हुई राजनीति◾PM मोदी ने राजपक्षे को भारत आने का दिया निमंत्रण◾प्रदूषण के मुद्दे पर केंद्र सोमवार को उत्तरी राज्यों के अधिकारियों के साथ करेगा उच्च स्तरीय बैठक ◾कर्नाटक उपचुनावों में उम्मीदवारों को भविष्य के मंत्री के तौर पर पेश कर रही है भाजपा ◾किसानो पर पुलिस बर्बरता शर्मनाक : प्रियंका◾नागरिकता विधेयक से लेकर आर्थिक सुस्ती पर विपक्ष के विरोध से शीतकालीन सत्र के गर्माने की संभावना ◾TOP 20 NEWS 17 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾मंत्री स्वाती सिंह के कथित आडियो पर प्रियंका गांधी ने सरकार को घेरा ◾अयोध्या मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड◾उपभोक्ता खर्च के आंकड़े छिपाने के आरोपों में चिदंबरम का केंद्र सरकार पर निशाना◾प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को वास्तविक मुद्दों पर फोकस करने का दिया निर्देश ◾सर्वदलीय बैठक में बोले PM मोदी- सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए हैं तैयार ◾गोताबेया राजपक्षे ने जीता श्रीलंका के राष्ट्रपति का चुनाव, PM मोदी ने दी बधाई◾

देश

पी-नोट्स निवेश अक्तूबर महीने में बढ़कर हुआ 1.31 लाख करोड़

भारतीय प्रतिभूति बाजार में पार्टिसिपेटरी नोट यानी पी-नोट्स के माध्यम से होने वाला निवेश अक्तूबर अंत में बढ़कर 1.31 लाख करोड़ पर पहुंच गया है। पिछले महीने पी-नोट्स के जरिए निवेश आठ साल के निचले स्तर पर पहुंच गया था।

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के आंकड़े के मुताबिक भारतीय बाजारों (आईटी , ऋण पत्र और डेरिवेटिव्स बाजार) में पी-नोट्स निवेश का कुल मूल्य अक्तूबर अंत में बढ़कर 1,31,006 करोड़ रुपये पहुंच गया, जो कि सिंतबर महीने के अंत में 1,22,684 करोड़ रुपये था।

अक्तूबर में हुए कुल निवेश में, आईटी में पी-नोट्स की हिस्सेदारी 90,161 करोड़ रुपये और बाकी हिस्सेदारी ऋण पत्र और डेरिवेटिव्स बाजार की है। इसके अतिरिक्त, पी-नोट्स के जरिए एफपीआई निवेश 4.1 प्रतिशत पर अपरिवर्तित बनी हुई है। सभी की ओर से कड़े नियमों को लागू किए जाने के बाद से पी-नोट्स निवेश में जून से गिरावट देखी जा रही थी।

और सितंबर महीने में यह आठ साल के निचले स्तर पर आ गया था। उल्लेखनीय है कि पी-नोट्स, भारत में पंजीकृत विदेशी पोर्टफोलिया निवेशकों द्वारा उनके वैश्विक निवेशकों के लिए जारी किया जाता है जो खुद भारत में पंजीकृत हुए बिना ही भारतीय प्रतिभूति बाजार में निवेश करना चाहते हैं।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।