BREAKING NEWS

कम्युनिस्ट विचारधारा में कन्हैया की नहीं थी कोई आस्था, पार्टी के प्रति नहीं थे ईमानदार : CPI महासचिव◾ पंजाब में लगी इस्तीफों की झड़ी, योगिंदर ढींगरा ने भी महासचिव पद छोड़ा◾कोलकाता ने दिल्ली कैपिटल्स को 3 विकेट से हराया, KKR की प्ले ऑफ में पहुंचने की उम्मीदें जिंदा◾कोरोना सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौती, केंद्र ने कोविड-19 नियंत्रण संबंधित दिशा-निर्देशों को 31 अक्टूबर तक बढ़ाया◾ क्या BJP में शामिल होंगे कैप्टन ? दिल्ली आने की बताई यह खास वजह ◾UP चुनाव में एक साथ लड़ेंगे BJP-JDU! गठबंधन बनाने के लिए आरसीपी सिंह को मिली जिम्मेदारी◾कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार, कहा- आज देश को बचाना जरूरी, सत्ता के लिए परंपरा भूली BJP ◾सिद्धू के इस्तीफे से कांग्रेस में हड़कंप, कई नेता बोले- पार्टी की राजनीति के लिए घातक है फैसला ◾नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे पर बोले CM चन्नी-मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं◾अमेरिका ने फिर की इमरान खान की बेइज्जती, मिन्नतों के बाद भी बाइडन नहीं दे रहे मिलने का मौका ◾उरी में भारतीय सेना को मिली बड़ी कामयाबी, पकड़ा गया पाकिस्तान का 19 साल का जिंदा आतंकी ◾पंजाब कांग्रेस में फिर घमासान : सिद्धू ने अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, BJP ने ली चुटकी ◾पंजाब: CM चन्नी ने किया विभागों का वितरण, जानें किसे मिला कौनसा मंत्रालय◾पंजाब के पूर्व CM अमरिंदर सिंह आज पहुंच रहे हैं दिल्ली, अमित शाह और नड्डा से करेंगे मुलाकात◾योगी के नए मंत्रिमंडल में 67% मंत्री सवर्ण और पिछड़े समाज से सिर्फ़ 29% : ओवैसी◾क्या कांग्रेस में यूथ लीडरों की एंट्री होगी मास्टरस्ट्रोक, पार्टी मुख्यालय पर लगे कन्हैया और जिग्नेश के पोस्टर◾कन्हैया के पार्टी जॉइनिंग पर मनीष तिवारी का कटाक्ष- अब शायद फिर से पलटे जाएं ‘कम्युनिस्ट्स इन कांग्रेस’ के पन्ने ◾PM मोदी ने विशेष लक्षणों वाली फसलों की 35 किस्मों का किया लोकार्पण , कुपोषण पर होगा प्रहार ◾जम्मू-कश्मीर : उरी सेक्टर में पकड़ा गया पाकिस्तानी घुसपैठिया, एक आतंकवादी ढेर ◾बिहार: केंद्र से झल्लाई JDU, कहा - हमलोग थक चुके हैं, अब नहीं करेंगे विशेष राज्य का दर्जा देंगे की मांग◾

राज्यसभा में विपक्ष के भारी हंगामें के बीच अंतर्देशीय जलयान विधेयक 2021 को संसद से मिली मंजूरी

देश में संसद का मॉनसून सत्र चल रहा है, लेकिन विपक्ष के लगातार हंगामे के बीच ऐसा बिल्कुल नहीं लग रहा है कि संसद उचित ढंग से काम कर रही है। इसी बीच संसद ने सोमवार को अंतर्देशीय जलयान विधेयक, 2021 को मंजूरी प्रदान कर दी।
राज्यसभा ने विपक्षी सदस्यों के भारी हंगामे के बीच अंतर्देशीय जलयान विधेयक, 2021 को मंजूरी प्रदान कर दी, जिसमें नदियों में जहाजों की सुरक्षा, पंजीकरण एवं सुगम परिचालन सुनिश्चित करने के लिए प्रावधान किये गये हैं। लोकसभा में भी यह विधेयक हंगामे के बीच ही पारित हुआ था।
उच्च सदन में यह विधेयक पोत परिवहन एवं जलमार्ग मंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने पेश किया।। विधेयक पर हंगामे के बीच ही संक्षिप्त चर्चा हुई। चर्चा का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि नदी में परिचालन करने वाले जहाजों का पंजीकरण एवं परिचालन संबंधी व्यवस्था अभी भारतीय जहाज अधिनियम के दायरे में आती है। यह कानून 1917 में बनाया गया था और काफी पुराना हो गया है।
उन्होंने कहा कि उस समय सभी राज्यों के अपने-अपने नियमन थे। एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने के लिए मंजूरी लेनी पड़ती थी और इससे समस्या पैदा होती थी। ऐसे में जहाजों की सुरक्षा, पंजीकरण एवं सुगम परिचालन के उद्देश्य से यह विधेयक लाया गया है। सोनोवाल ने कहा कि इस संबंध में 1917 का कानून अपर्याप्त था और इससे कई तरह की बाधाएं उत्पन्न होती थी । ऐसे में यह विधेयक लाया गया ताकि पारिस्थितिकी अनुकूल वातावरण में जल यातायात को बढ़ावा मिल सके ।
मंत्री के जवाब के बाद उपसभापति हरिवंश ने उनसे विधेयक पारित करने के लिए प्रस्ताव पेश करने को कहा। मंत्री ने प्रस्ताव पेश किया जिसके बाद ध्वनिमत से विधेयक को मंजूरी दे दी गई। इससे पहले , हंगामे के बीच विधेयक पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए भाजपा के महेश पोद्दार ने कहा कि देश में बरसों से जलमार्ग से व्यापार होता रहा है लेकिन समय के साथ साथ पुराने कानूनों में बदलाव भी जरूरी है। पहले अंतर्देशीय कारोबार के लिए नावों का उपयोग होता था। आज इस क्षेत्र में संभावनाएं और बढ़ गई हैं।
बीजद के प्रसन्न आचार्य ने कहा ‘‘यह कानून 100 साल से भी अधिक पुराना है। समय के साथ साथ चुनौतियों का रूप भी बदला है। इसलिए इस कानून में बदलाव की जरूरत थी। ओडिशा समुद्र तटीय प्रदेश है और प्राकृतिक खजाने की भी वहां कमी नहीं है। ऐसे में परिवहन के लिए जलयान कानून ओडिशा के लिए बहुत महत्व रखता है।’’ उन्होंने कहा कि इस विधेयक में कुछ भी गलत नहीं है। विधेयक के कुछ प्रावधानों को बेहतरीन बताते हुए उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस विधेयक का समर्थन करती है।
अन्नाद्रमुक सदस्य डॉ एम थंबीदुरई ने विधेयक का समर्थन करते हुए कहा कि यदि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्पर्धा को देखें तो यह विधेयक अत्यंत प्रासंगिक हो जाता है। उन्होंने कहा ‘‘हमारी पार्टी क्षेत्रीय पार्टी है। हमारे लिए चिंता की बात यह है कि विधेयक में राज्य के अधिकार में कमी की गई है। ऐसा नहीं होना चाहिए।’’ वाईआरएस कांग्रेस पार्टी के अयोध्या रामी रेड्डी ने कहा कि परिवहन के दौरान सुरक्षा बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि किसी तरह के राजस्व के नुकसान की स्थिति में केंद्र को राज्यों की भरपाई करनी चाहिए।
सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्री रामदास अठावले ने चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए कहा कि आज के हालात में यह विधेयक बहुत उपयोगी होगा। भाजपा के हरजी भाई मोकारिया, टीआरएस के डॉ बंदा प्रकाश, तेदेपा के कनकमेदला रवींद्र कुमार ने भी हंगामे के बीच विधेयक पर हुई चर्चा में हिस्सा लिया।
उपसभापति हरिवंश ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की मांग को लेकर हंगामा कर रहे विपक्षी सदस्यों से अपने स्थानों पर लौट जाने और चर्चा में हिस्सा लेने की बार बार अपील की। लेकिन हंगामा जारी रहा। विधेयक पारित होने के बाद उपसभापति ने दोपहर दो बज कर 36 मिनट पर बैठक एक घंटे के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले, जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने अरुणाचल प्रदेश की जनजातियों से संबंधित एक संविधान संशोधन विधेयक सदन में पेश किया था।